10 साल बाद ग्रैजुएट हो ही गए मार्क ज़करबर्ग

  • 26 मई 2017
इमेज कॉपीरइट EPA

फ़ेसबुक के संस्थापक मार्क ज़करबर्ग ने आख़िर 10 साल बाद हावर्ड यूनिवर्सिटी पहुंच कर ऑनोररी ग्रैजुएशन डिग्री (मानद डिग्री) हासिल कर ली है.

दुनिया के पांचवे धनी व्यक्ति मार्क की दौलत क़रीब 62.3 अरब डॉलर है. सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट फ़ेसबुक लांच करने के बाद मार्क ने हावर्ड छोड़ दिया था.

मार्क ने हावर्ड में अपने ग्रैजुएशन भाषण में छात्रों से कहा कि वो, "ना केवल नई नौकरियां पैदा करें बल्कि नए उद्यम भी तलाश करें."

राजनीति पर नज़र रखने वालों का कहना है कि मार्क शायद राजनीति में आने के लिए रास्ता बना रहे हैं.

फ़ेसबुक पर होने वाले हैं दो अरब यूज़र्स

16 साल के ज़ेयान का फ़ेसबुक की तर्ज़ पर काशबुक!

इमेज कॉपीरइट Getty Images

गुरुवार को उन्होंने ग्रैजुएट छात्रों से कहा, "हम एक अस्थाई दुनिया में रह रहे हैं." उन्होंने कहा कि जिन्हों लगता है कि बढ़ते वैश्वीकरण की रेस में जो खुद को पिछड़ता हुआ महसूस कर रहे हैं वो "अपने आप में रहने लगते हैं."

"ये हमारे दौर की बड़ी लड़ाई है. एकछत्रवाद, अलग-थलग करने और राष्ट्रवाद की ताकतों के विरोध में दुनिया के समुदायों को आज़ादी और उदारवादी की ताकतों के साथ आगे आना होगा."

मार्क के साथ उनकी पत्नी प्रिशिला भी मौजूद थीं. मार्क ने उस डोर्मिटरी की तरफ इशारा किया जहां उन्होंने फ़ेसबुक की नींव रखी थी और कहा कि युनिवर्सिटी में जो सबसे ख़ास चीज़ उनके साथ हुई वो थी वहां प्रिशिला उनकी मुलाकात होना.

आने वाली बेटी के लिए छुट्टी पर ज़करबर्गदी

BBC Hindi - अंतरराष्ट्रीय ख़बरें - ज़करबर्ग का नया फेसबुक स्टेटस- विवाहित

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption भाषण के दौरान छात्रों के साथ बैठी प्रिशिला ज़करबर्ग

हावार्ड के 366वें ग्रैजुएशन समारोह में मार्क को मानद डॉक्टर ऑफ़ लॉ डिग्री दी गई.

इस समारोह से पहले बुधवार को मार्क ने अपने पुराने डोर्मिटरी से एक फ़ेसबुक लाइव किया जिसमें उन्होंने एक छोटे मेज़ और कुर्सी की तरफ इशारा करते हुए कहा, "ये वहीं जगह है जहां मैं बैठा करता था."

वीडियो में वो कहते हैं, "यहां पर मेरा छोटा सा लैपटॉप था. और ये वो जगह है जहां से मैंने फ़ेसबुक का प्रोग्राम लिखा."

इंटरनेट भी मानवाधिकार है- मार्क ज़करबर्ग

हासिल क्या हुआ ज़करबर्ग को.. और

इमेज कॉपीरइट Mark Zuckerberg, Facebook
Image caption ग्रैजुएशन समारोह से एक दिन पहले मार्क ने हावार्ड युनिवर्सिटी से ये तस्वीर अपने फ़ेसबुक पन्ने पर पोस्ट की थी.

अपने ग्रैजुएशन भाषण में मार्क ने कहा, "हमारी व्यवस्थाओं में कुंठा है जो सही नहीं है. मैं यहां से पढ़ाई छोड़ कर दस साल में अरबों डॉलर कमा सकता हूं, लाखों छात्र अपने लोन तक चुका नहीं पा रहे हैं, बिज़नेस शुरू करने की बात तो भूल ही जाइये."

"जब आप अपने आइडिया पर ही काम आगे नहीं बढ़ा सकते तो उसे एक ऐतिहासिक बिज़नेस बनाने की बात भूल जाएं."

मार्क ने छात्रों को "सज़ा काट रहे और नशे की लत के शिकार बच्चों से" अपनी मुलाक़ात के बारे में बाते बताईं और कहा कि बच्चों ने उन्हें बताया कि "उनकी ज़िंदगी अलग होती अगर उनके पास काम करने के लिए कुछ होता."

33 साल के मार्क एक हाई स्कूल छात्र की बात करते-करते भावुक हो उठे. उन्होंने कहा कि इस छात्र को डर था कि वो किसी युनिवर्सिटी में दाखिला नहीं ले पाएंगे क्योंकि वो एक प्रवासी हैं और उनके पास पहचान के दस्तावेज़ नहीं हैं.

सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट का इस्तेमाल हर रोज़ क़रीब 1.9 अरब लोग करते हैं.

क्या फ़ेसबुक का भविष्य है एलक जोंस ?

इमेज कॉपीरइट Reuters

हावार्ड से पढ़ाई छोड़ चुके बिल गेट्स को करीब तीन दशक बाद साल 2007 में युनिवर्सिटी ने मानद डिग्री से सम्मानित किया था.

माइक्रोसोफ़्ट कंपनी के सह-संस्थापक बिल गेट्स दुनिया का सबसे धनी व्यक्ति रह चुके हैं.

यहां ग्रैजुएशन समारोह में छात्रों से उन्होंने कहा था कि वो चैरिटी के अपने काम की तरफ अधिक ध्यान देने के लिए कंपनी से इस्तीफ़ा दे देंगे.

जिसकी तक़दीर बिल गेट्स भी नहीं बदल पाए...दी

मशीनी दिमाग बन सकता है ख़तरा- बिल गेट्सदी

बिल गेट्स फिर बने दुनिया के सबसे अमीर

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे