ट्रंप के दामाद ने की थी रूस से गोपनीय सिस्टम पर बात: अमरीकी मीडिया

  • 27 मई 2017
जैरेड कशनर इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के दामाद जैरेड कशनर

अमरीकी मीडिया की रिपोर्टों की मुताबिक राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के दामाद जैरेड कशनर ने रूस के साथ गोपनीय बातचीत की संभावनाओं की तलाश की थी.

वॉशिंगटन पोस्ट और न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्टों के अनुसार जैरेड कशनर ने दिसंबर में एक मुलाक़ात के दौरान बैकचैनल (गुपचुप) व्यवस्था बनाने को लेकर बात की थी.

इस मामले में हाल की रिपोर्टों पर व्हाइट हाउस के सीनियर अधिकारियों ने कोई टिप्पणी नहीं की है. ऐसा माना जा रहा है कि अमरीकी चुनाव में कथित रूसी हस्तक्षेप की व्यापक जांच में एफ़बीआई ने कशनर को भी शामिल किया है.

रूस से संबंधों के लेकर डोनल्ड ट्रंप के दामाद भी एफ़बीआई जांच के घेरे में

दामाद की सलाह पर अमरीका को चलाएंगे ट्रंप

रूस के साथ रिश्ते का विरोध करने वाले 'मूर्ख'- ट्रंप

इमेज कॉपीरइट AFP

अमरीकी मीडिया की रिपोर्टों के मुताबिक जांचकर्ताओं का मानना है कि कशनर के पास ज़रूरी सूचनाएं हैं, लेकिन आवश्यक नहीं है कि वो अपराध में ज़रूरी संदिग्ध हों.

सबसे हाल की रिपोर्ट- जिसके स्रोत में अमरीकी अधिकारियों का हवाला दिया है- में कहा गया है कि कशनर ने अमरीका में रूसी राजदूत सर्गेइ किस्यलक से अमरीका में रूसी राजनयिकों की मदद से गुपचुप व्यवस्था बनाने को लेकर बात की थी. इसका इस्तेमाल शायद सीरिया और नीतिगत मुद्दों पर होना था.

दोनों रिपोर्टों के मुताबिक इस मुलाक़ात में ट्रंप के पहले राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार माइकल फ्लिन भी मौजूद थे. कशनर, माइकल फ्लिन और सर्गेइ किस्यलक की मुलाकात न्यूयॉर्क के ट्रंप टावर में हुई थी. न्यूयॉर्क टाइम्स का कहना है कि यह सुविधा कभी स्थापित नहीं हो पाई.

इमेज कॉपीरइट Reuters

वॉशिंगटन पोस्ट में पहले ही रिपोर्ट छप गई थी कि एफ़बीआई जांचकार्ताओं की नज़र में पिछले साल कशनर, सर्गेइ किस्यलक और मॉस्को के बैंकर सर्गेइ गोर्कोव के साथ हुई बैठक पर है. सर्गेइ किस्यलक से मुलाकात के मामले में अमरीकी प्रशासन को गुमराह करने को लेकर फ़रवरी महीने में माइकल फ्लिन को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार पद से इस्तीफ़ा देना पड़ा था.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप और दामाद जैरेड कशनर

अमरीकी खुफिया एजेंसियों का मानना है कि रूस ने पिछले साल नवंबर में हुए राष्ट्रपति चुनाव में रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनल्ड ट्रंप की मदद की थी, क्योंकि वह ट्रंप की प्रतिद्वंद्वी हिलेरी क्लिंटन को हराना चाहता था. हालांकि इसे ट्रंप और रूस दोनों ख़ारिज करते रहे हैं.

ट्रंप ने इस मामले में कहा है कि अमरीकी इतिहास में बिना अपराध किए यह अब तक की सबसे बड़ी जांच है. हालांकि कशनर के वक़ील ने कहा है कि उनके क्लाइंट किसी भी जांच में मदद करने के लिए तैयार हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे