'असामान्य' तकनीकी ख़ामी से ब्रिटिश एयरवेज़ की सभी उड़ानें रद्द

ब्रिटिश एयरवेज़ ने कंप्यूटर की दिक़्कतों के चलते हीथ्रो और गैट्विक एयरपोर्ट से अपनी सभी उड़ानें रद्द कर दी हैं.

एयरलाइंस ने कहा, 'आईटी सिस्टम में एक बड़ी ख़राबी से पूरी दुनिया में हमारी उड़ानों के संचालन में भारी अड़चन आ रही है.'

पूरी दुनिया में हुई इस तकनीकी ख़ामी के लिए उन्होंने माफ़ी मांगी है और कहा है कि वे इसे ठीक करने में जुटे हैं.

इमेज कॉपीरइट @ANNAONTHEWEB
Image caption हीथ्रो एयरपोर्ट पर जमा हुआ सामान

हीथ्रो एयरपोर्ट ने भी एक बयान में कहा कि वह इससे निपटने के लिए ब्रिटिश एयरलाइंस के साथ मिलकर काम कर रहे हैं.

एयरलाइंस ने बीबीसी से कहा है कि इसके सबूत नहीं हैं कि सिस्टम में यह ख़राबी किसी साइबर हमले की वजह से आई हो.

इस तकनीकी ख़ामी की वजह से जो यात्री फ़्लाइट नहीं ले पाए, उन्हें दोबारा यात्रा या पैसे चुकाने का विकल्प दिया जाएगा.

एयरलाइंस ने पहले कहा था कि शाम 6 बजे तक की उड़ानें रद्द की जाएंगी. लेकिन अब शनिवार तक की उड़ानें रद्द कर दी गई. यात्रियों से हीथ्रो और गैट्विक एयरपोर्ट पर न आने की अपील की गई है.

पढ़ें: भारी साइबर ख़तरा, कैसे बचाएं कंप्यूटर और डेटा

पढ़ें: रैनसमवेयर सरकारों के लिए चेतावनी है: माइक्रोसॉफ्ट

Image caption कुछ यात्री अपना सामान छोड़कर हीथ्रो एयरपोर्ट से चले गए

हालांकि हीथ्रो और गैट्विक पर आने-जाने वाली बाक़ी उड़ानें सुचारू रूप से चल रही हैं.

समस्या की वजह ब्रिटिश एयरलाइंस की वेबसाइट के कुछ हिस्से उपलब्ध नहीं हो पा रहे हैं.

उड्डयन की दुनिया से जुड़े एक वरिष्ठ शख़्स ने पहचान न ज़ाहिर करने की शर्त पर कहा कि इस तरह की ख़ामियां असाधारण हैं और बहुत कम देखने में आती हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हीथ्रो एयरपोर्ट पर बाहर से आने वाले विमानों को एयरपोर्ट परिसर में पार्क करवाने में भी ख़ासी मशक़्कत करनी पड़ रही है, क्योंकि ख़ामी की वजह से कई विमान उड़ नहीं पाए हैं. इस वजह से यात्रियों को विमान में फंसे रहने की घटनाएं भी सामने आई हैं.

पत्रकार मार्टिन केंट ने बताया कि वह हीथ्रो एयरपोर्ट पर अपने विमान में डेढ़ घंटे तक बैठे रहे. उनके मुताबिक, विमान के कप्तान ने यात्रियों को बताया कि आईटी की दिक़्कतें 'अनर्थकारी' हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)