'अमरीका की नज़र में सऊदी अरब है दुधारू गाय'

  • 28 मई 2017
आयतुल्लाह अली ख़ामेनेई इमेज कॉपीरइट EPA

ईरान के सर्वोच्च धार्मिक नेता आयतुल्लाह अली ख़ामेनेई ने सऊदी अरब के ख़िलाफ़ कड़ा बयान दिया है और कहा है कि सऊदी अरब सरकार कुरान का पालन नहीं कर रही.

शनिवार को इस्लामी महीने रमज़ान की शुरुआत के मौके पर एक समारोह में ख़ामेनेई ने कहा "सऊदी सरकार अयोग्य है और कुरान की शिक्षाओं के ख़िलाफ़ काम कर रही है".

उन्होंने कहा कि अमरीका सऊदी अरब का इस्तेमाल "दूध देने वाली गाय" की तरह कर रहा है.

सऊदी अरब पर बोले आयतुल्लाह

हज यात्रा पर ख़मेनेई ने सऊदी को आड़े हाथों लिया

अमरीका की तरफ इशारा करते हुए उन्होंने कहा, "ये बेवकूफ़ समझते हैं कि पैसा खर्च कर के वो इस्लाम के दुश्मनों से दोस्ती कर लेंगे, लेकिन इनके बीच ऐसी कोई दोस्ती नहीं है. सऊदी अरब दुधारू गाय की तरह है. जब उससे सारा दूध दुह लिया जाएगा तो उसे कत्ल कर दिया जाएगा. आज की इस्लामी दुनिया की यही स्थिति है."

उन्होंने कहा, "देखिए उन्होंने यमन और बहरीन के लोगों के साथ कैसा अधर्मी व्यवहार किया. वो ज़रूर ख़त्म हो जाएंगे."

इमेज कॉपीरइट EPA

हाल ही में अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने सऊदी अरब का दौरा किया था. इस दौरे के दौरान दोनों देशों के बीच हथियारों का सौदा हुआ, जिसके तहत सऊदी अरब अमरीका से 350 अरब डॉलर के हथियार खरीदेगा.

बीते साल ख़ामेनेई ने अमरीका पर आरोप लगाया था कि "वह पश्चिम में ईरान के साथ परमाणु समझौते पर वादा ख़िलाफ़ी कर रहा है और अमरीका पर भरोसा करना उसकी ग़लती थी."

मध्यपूर्व में ईरान का बढ़ता प्रभाव रोकने के लिए अमरीका सऊदी अरब को अपने ख़ास सहयोगी के रूप में देखता है.

ईरान और सऊदी अरब के बीच गंभीर तनाव है और क्षेत्रीय स्तर पर दोनों एक-दूसरे के ख़िलाफ़ कई मोर्चों पर खड़े हैं जिनमें सीरिया और यमन भी शामिल है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)