पाकिस्तान का वो शहर जो है ब्रितानी हेयरस्टाइल का दीवाना

  • 29 मई 2017
इमेज कॉपीरइट SECUNDER KERMANI

इस्लामाबाद के होटल के बाहर मैं किसी का इंतज़ार कर रहा था कि एक ठिगने कद का मूछों वाला सुरक्षा गार्ड गर्मजोशी से मेरे पास आया.

उसने उर्दू में मुझसे पूछा, "क्या आप ब्रिटेन से हैं?" मैंने बताया कि जी, मेरा परिवार मूल रूप से पाकिस्तान का है, लेकिन मेरा जन्म लंदन में हुआ है.

इसके बाद उसने पूछा, "तो क्या आप मीरपुर के हैं?"

मैं मुस्कुराने लगा क्योंकि पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर के मीरपुर को 'लिटिल इंग्लैंड' के नाम से जाना जाता है क्योंकि यहां के हज़ारों लोग ब्रिटेन में जाकर बस गए हैं, वे वहां से पैसे बचाकर यहां आलीशान घर बनाने के लिए लौटते हैं या फिर अपने बच्चों की शादी के लिए.

कश्मीरी जो 'न हिंदुस्तानी हैं और न पाकिस्तानी'

पाकिस्तान से भी दिखाई देगा तिरंगा

मैंने उस गार्ड से कहा- नहीं मेरा परिवार मीरपुर का नहीं था. फिर उसने मेरे सिर की ओर संकेत करते हुआ कहा, "लेकिन आपका हेयरस्टाइल तो वैसा ही है- जैसा कि मीरपुर में हर किसी का होता है."

यहां ये बताना ठीक रहेगा कि मेरा हेयरस्टाइल स्किन फ़ेड कहलाता है, जिसमें कान के पास एकदम बाल नहीं होते हैं और जैसे-जैसे आप कान से सिर की दिशा में ऊपर बढ़ते हैं वो बड़े होते जाते हैं, मतलब सिर पर सबसे ऊपर ज़्यादा बाल होते हैं, यह ब्रिटेन में आम स्टाइल है, ख़ासकर एशियाई मूल के लोगों में. पाकिस्तान में लोग सामान्य अंदाज़ में बाल कटाते हैं.

पहली नज़र में निराशा

बहरहाल, मुझे ये नहीं मालूम है कि सुरक्षा गार्ड को मेरा हेयर स्टाइल पसंद आया कि नहीं. लेकिन मुझे ये पता चल गया कि मुझे अच्छा सैलून कहां मिलेगा. पाकिस्तान में अपने पहले हेयर कट के लिए मुझे मीरपुर जाना चाहिए, मैं इस नतीजे पर पहुंच चुका था.

मीरपुर में पहली बार पहुंचने पर मैं काफी निराश हुआ, ये मुझे पाकिस्तान के दूसरे शहरों जैसा ही लगा. लेकिन जब मैंने यहां चिकन कॉटेज के विज्ञापन वाला बोर्ड देखा तो थोड़ा उत्साह बढ़ा. फ़्रायड चिकन का ये ब्रांड ब्रिटेन में मशहूर है.

तब तक मैं शहर के कई लोगों को देख चुका था और 40 साल से कम उम्र वाले हर युवा का हेयर स्टाइल ठीक मेरे जैसा ही था यानी स्किन फ़ेड. उनको देखकर ये बताना भी मुश्किल लग रहा था कि वे पाकिस्तानी मूल के ब्रिटिश हैं या फिर स्थानीय.

1960 के दशक में मीरपुर के हज़ारों लोग बर्मिंघम और ब्रैडफ़र्ड जैसे शहरों की फ़ैक्ट्रियों में काम करने के लिए ब्रिटन पहुंचे थे. मोटे तौर पर ऐसा अनुमान है कि ब्रिटेन में रह रहे पाकिस्तानियों में क़रीब 70 फ़ीसदी लोग इसी इलाके के हैं.

इस इलाके में हर घर का कोई ना कोई नाते रिश्ते वाला इंग्लैंड में रह रहा है, इसलिए जब रिश्ते का कोई ब्रिटिश भाई मीरपुर आता है तो युवा उसके हेयर स्टाइल की नकल करते हैं. इस शहर में मेरा गाइड बना अर्सेलान शाबिर जो लोकल यूट्यूब स्टार है और इसके फ़ैंस पाकिस्तान और ब्रिटेन दोनों देशों में हैं.

अगर उसके सलवार-कमीज़ को छोड़ दें तो वह पूरी तरह से ब्रिटिश जान पड़ता है. स्किन फ़ेड हेयर स्टाइल के अलावा उसके गले पर टैटू बना हुआ है. कान में उसने नकली हीरे का रिंग पहना हुआ है और सोने वाले दांत भी लगवाए हुए हैं.

'जब तक जज साहब बैठे रहे, क़ुरान पढ़ता रहा'

बट की किताबें पाक प्रशासित कश्मीर में बैन

शाबिर मुझे मीरपुर के सबसे अच्छे सैलून में ले गया. वहां बाल बनाने वाले का स्टाइल भी स्किन फ़ेड ही था. वहां मौजूद राजा ने कहा, ''इस हेयर स्टाइल की शुरुआत भले ब्रिटेन में हो, लेकिन अब ये मीरपुर की पहचान बन चुका है.''

ब्रितानी दिखने का पैशन

राजा कभी इंग्लैंड नहीं गया, लेकिन उसके रिश्तेदार बर्मिंघम में रहते हैं. वो मुझसे ये भी पूछता है, "क्या मैं पाकिस्तानी की तरह लगता हूं. किसी ब्रिटिश बच्चे से मैं अलग दिखता हूं?"

हालांकि यहां के लोगों का ब्रिटेन से जुड़े अलग अलग अनुभव भी हैं. एक शख़्स ने मुझे बताया कि, ''लीड्स की एक लड़की मुझसे कहने लगी कि मैं तुमसे शादी करूंगी, मुझे लगा कि इस बहाने मुझे ब्रिटेन में नौकरी मिल जाएगी, लेकिन वह मेरे पैसे लेकर ग़ायब हो गई.'

सैलून में मौजूद एक दूसरे शख़्स ने बताया कि उसकी शादी अगले ही कुछ महीनों में रिश्ते की बहन से इंग्लैंड में होगी. अर्सेलान शाबिर ने मुझे मीरपुर का काफी हिस्सा दिखाया. इस दौरान उसके ब्रिटिश फ़ैंस भी मिले. उसने अपने कुछ वीडियो में ब्रिटिश पाकिस्तानियों की भाषा शैली की भी आलोचना की है, जो वे अपने पाकिस्तानी भाई-बहनों के लिए इस्तेमाल करते हैं.

बहरहाल, सैलून में जब मेरा नंबर आया तो इरफ़ान ने मशहूर ब्रैंड के इलेक्ट्रिक रेज़र से काम शुरू किया. उसने मुझे बताया, "मैंने मीरपुर में सबसे पहले इस हेयर स्टाइल को कट करना शुरू किया. एक ब्रिटिश ग्राहक तो इतना प्रभावित हुआ कि उसने मुझे लंदन में नौकरी भी ऑफ़र कर दी."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे