तस्वीरें: बांग्लादेश में 'मोरा' तूफ़ान का कहर

बांग्लादेश में 'मोरा' तूफ़ान में कम से कम छह लोगों मारे गए हैं और 50 हज़ार से ज़्यादा घर तबाह हो गए हैं.

अधिकारियों ने बीबीसी को बताया कि ज़्यादातर लोगों की मौत पेड़ गिरने से हुई.

लाखों लोगों को प्रभावित इलाक़े से निकालकर सुरक्षित जगहों पर ले जाया गया है.

यह तूफ़ान अभी दक्षिण-पूर्वी तट से टकराया लेकिन अब ये कमज़ोर पड़ गया है.

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images
Image caption कॉक्स बाज़ार ज़िले में ग्रामीणों को सुरक्षित जगहों पर ले जाया गया

पड़ोसी देश म्यांमार से आए रोहिंग्या मुसलमानों के शरणार्थी शिविरों में भी भारी नुकसान हुआ है.

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption पश्चिमी म्यांमार के सितवे में भी कई घरों को नुकसान पहुंचा है

रोहिंग्या नेता अब्दुस सलाम ने समाचार एजेंसी एएफपी से कहा कि शिविरों के करीब 20 हज़ार अस्थायी घरों को नुकसान हुआ है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption बांग्लादेश के कॉक्स बाज़ार ज़िले में अपने टूटे घरों की छत दुरुस्त करते रोहिंग्या मुसलमान

बांग्लादेश के तूफ़ान मोरा के चलते भारत के उत्तर-पूर्व हिस्सों में भारी बारिश होने की आशंका जताई जा रही है.

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images
Image caption कॉक्स बाज़ार जिले में तूफान प्रभावितों के लिए बनाई गई एक पनाहगाह.

ये तूफ़ान बांग्लादेश के दक्षिण-पूर्वी समुद्र तट पर चटगांव और कॉक्स बाज़ार के बीच टकराया. जब ये तूफ़ान तट से टकराया तब उसकी गति 117 किलोमीटर प्रति घंटे थी.

पढ़ें: बांग्लादेशी समुद्री तट से टकराया तूफ़ान 'मोरा'

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption अपना सामान लेकर सरकारी शिविरों की ओर जाते ग्रामीण.

ये समुद्री तूफ़ान श्रीलंका में भारी बारिश के चलते बना है. श्रीलंका में भारी बारिश और भू-स्खलन के चलते कम से कम 180 लोगों की मौत हो चुकी है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption प्रशासन का कहना है कि ज़्यादातर मौतें पेड़ गिरने से हुई हैं

श्रीलंका में बीते 14 सालों में हुई यह सबसे भारी बारिश है और इससे क़रीब 5 लाख लोगों की ज़िंदग़ियां सीधे प्रभावित हुई हैं. सौ से ज़्यादा लोग लापता हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption एएफ़पी के मुताबिक, 3 लाख से ज़्यादा लोगों को घर छोड़ना पड़ा है

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे