अमरीका ने क्यों दी है चीन को नई चेतावनी?

इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीका के रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस ने अपने एशियाई सहयोगियों को फिर से भरोसा दिलाया है कि अमरीका दक्षिण चीन सागर में चीन के कृत्रिम टापुओं के बनाए जाने का विरोध करता रहेगा.

सिंगापुर में एक सुरक्षा कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कहा कि चीन इस इलाके का सैन्यीकरण कर रहा है जो इलाके में अस्थिरता पैदा कर रहा है.

रक्षा मंत्री के इस बयान के बावजूद कुछ लोगों को लगता है कि दक्षिण चीन सागर मामले में अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप अधिक छूट दे रहे हैं क्योंकि वो उत्तर कोरिया से निपटने के लिए चीन से मदद की उम्मीद रखते हैं.

मैटिस के बयान पर फ़िलहाल चीन से प्रतिक्रिया नहीं मिली है.

बीबीसी संवाददाता का दक्षिण चीन सागर का दौरा

दुनिया के लिए ख़तरा हैं ट्रंप और किम जोंग-उन?

इमेज कॉपीरइट Reuters

इससे ठीक पहले संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने उत्तर कोरिया के ख़िलाफ़ लगाए प्रतिबंधों का विस्तार किया था. उत्तर कोरिया ने हाल में कई बार मिसाइल टेस्ट किए थे जिसके जवाब में ये कदम उठाया गया.

इससे पहले दक्षिण चीन सागर में चीन से बनाए गए कृत्रिम द्वीप के पास एक अमरीकी युद्धपोत पहुंचा था.

चीन ने इस पर कड़ीआपत्ति जताई थी और कहा था कि उसके जलक्षेत्र में बिना अनुमति अमरीकी युद्धपोत आ गया था और उसकी नौसेना ने तत्काल वहां से जाने की चेतावनी दी थी.

इमेज कॉपीरइट Reuters

ट्रंप ने पहली बार दी चीन को चुनौती, भड़का चीन

बीते साल दक्षिण चीन सागर विवाद के मामले में अंतरराष्ट्रीय अदालत के फ़ैसले का विरोध करते हुए चीन ने अदालती कार्रवाई को 'ढोंग' बताया था.

कोर्ट के अनुसार चीन ने फ़िलीपींस के मछली मारने के अधिकार में दखल दिया था.

दक्षिण चीन सागर वाला फैसला ढोंग है- चीन

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे