पाक प्रेस रिव्यू- '...तो मीनार-ए-पाकिस्तान पर उलटा लटका दिया जाता'

  • 4 जून 2017
हसन नवाज़ इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption नवाज़ शरीफ़ के बेटे हसन नवाज़

पाकिस्तान से छपने वाले उर्दू अख़बारों में इस हफ़्ते जो ख़बरें सुर्ख़ियों में रहीं, उनमें पनामा लीक्स की जांच में नवाज़ शरीफ़ के बेटों से पूछताछ, उनके एक सांसद की धमकी और सुप्रीम कोर्ट के जजों के स्टेटमेंट शामिल हैं.

सबसे पहले बात प्रधानमंत्री के बेटों से पूछताछ की. पनामा लीक्स की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट के ज़रिए बनाई गई संयुक्त जांच कमिटी (जेआईटी) ने प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ के दोनों बेटों हसन नवाज़ और हुसैन नवाज़ से कई दिनों तक पूछताछ की.

पनामा लीक्स भ्रष्टाचार से जुड़ा मामला है और शरीफ़ परिवार पर आरोप है कि उन्होंने लंदन में कई घर ख़रीदे हैं, विदेशों में उनकी कई कंपनियां हैं और भ्रष्टाचार के ज़रिए कमाए गए पैसों से ये सारी संपत्तियां बनाई गई हैं.

पाकिस्तान: 'गॉड फ़ादर से सिसीलियन माफ़िया तक'

नवाज़, परिवार पर भ्रष्टाचार के आरोपों की विस्तृत जांच होगी

इमेज कॉपीरइट Reuters

सांसद की धमकी

लेकिन इसी जांच के बारे में नवाज़ शरीफ़ की पार्टी के एक सांसद ने ऐसा बयान दे दिया जो न सिर्फ़ अख़बारों में छा गया बल्कि सोशल मीडिया में भी वायरल हो गया.

अख़बार नवा-ए-वक़्त के अनुसार सांसद नेहाल हाशमी ने एक कार्यक्रम में कहा कि जो लोग नवाज़ शरीफ़ के बेटों से हिसाब मांग रहे हैं, उनका भी हिसाब लिया जाएगा और उन्हें नहीं छोड़ा जाएगा.

अख़बार के अनुसार उन्होंने कहा, "तुम जिनका हिसाब ले रहे हो वो नवाज़ शरीफ़ के बेटे हैं. तुम कान खोलकर सुन लो हम तुम्हें नहीं छोड़ेंगे. तुम आज नौकरी में हो लेकिन कल रिटायर हो जाओगे. हम तुम्हारे बच्चों और ख़ानदान के लिए पाकिस्तान की ज़मीन तंग कर देंगे."

पनामा लीक्स: शरीफ़ के लिए राहत या मुसीबत

भारत में कहां पहुंची 'पनामा पेपर्स' जांच?

इमेज कॉपीरइट Reuters

सैनिक शासन

सुप्रीम कोर्ट ने इस बयान का संज्ञान लेते हुए नेहाल हाशमी पर अदालत की अवमानना का केस दर्ज कर लिया और नवाज़ शरीफ़ सरकार को भी खरी-खोटी सुनाई.

अख़बार दुनिया के मुताबिक़ अदालत ने कहा कि बच्चों को धमकियां दी जा रही हैं लेकिन सुप्रीम कोर्ट न डरने वाला है न किसी अंजाम से घबराने वाला है.

कोर्ट ने कहा कि पाकिस्तान में सैनिक शासन के दौरान भी जजों के बच्चों को धमकियां नहीं दी गईं.

एक जज जस्टिस अज़मत सईद ने सरकार पर चुटकी लेते हुए अटॉर्नी जनरल को संबोधित करते हुए कहा, "अटॉर्नी जनरल साहब आपकी हुकूमत क्या कर रही है? आपको पता है लड़ाई में बच्चों को कौन शामिल करता है."

'64 की उम्र में भी इमरान नहीं समझे सियासी खेल'

अफ्रीकी देशों का ग़ुस्सा और 'पनामा पंच'

नेहाल हाशमी के पीछे कौन?

जस्टिस अज़मत ने कहा "ऐसी धमकियां दहशतगर्द और माफ़िया देते हैं. ऐसी धमकियां सिसली का बदनाम ज़मीन माफ़िया देता है. मुबारक हो मिस्टर अटॉर्नी जनरल. आपकी हुकूमत ने सिसली की माफ़िया को ज्वॉइन कर लिया है. आपको ऐसी कम्यूनिटी का हिस्सा बनना मुबारक हो."

अटॉर्नी जनरल ने सरकार का बचाव करते हुए कहा कि सरकार ने धमकी नहीं दी.

इस पर सुप्रीम कोर्ट ने उनसे पूछा कि अदालत आख़िर कैसे ये बात मान ले कि नेहाल हाशमी के पीछे कोई और नहीं बोल रहा था.

जजों ने कहा कि अदालत को इस बात के लिए संतुष्ट करना होगा कि ये बयान सिर्फ़ नेहाल हाशमी के ही थे और सरकार उनके साथ नहीं है.

इस पर नेहाल हाशमी अचानक बोल पड़े, "रोज़े से हूँ. झूठ नहीं बोलूँगा. मेरा बयान किसी के ख़िलाफ़ नहीं था. ऐसा मेरे ख़्वाब-ओ-ख़्याल में भी नहीं था."

'एक नंबर से पास हुए नवाज़ शरीफ़'

'वो मरियम शरीफ़ जिसे मैंने देखा था'

इमेज कॉपीरइट Reuters

अवमानना का केस

सांसद नेहाल हाशमी ने अदालत से माफ़ी मांगी और उम्मीद जताई कि अदालत उन्हें माफ़ कर देगी.

लेकिन ऐसा नहीं हुआ और सुप्रीम कोर्ट ने उनके ख़िलाफ़ अदालत की अवमानना का केस दर्ज करने का आदेश दे दिया.

बीते सप्ताह छपे कई अख़बार के संपादकीय में भी इस बयान की निंदा की गई.

अख़बार एक्सप्रेस ने अपने संपादकीय में लिखा है कि सांसद का ये बयान भड़काने वाला था और इस तरह के बयान से यही समझा जाएगा कि जांच अधिकारियों को कोई ख़ास संदेश दिया जा रहा है और उन्हें डराया जा रहा है.

इस बयान के वायरल होने के बाद विपक्षी दल पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के नेता और संसद में नेता प्रतिपक्ष सैयद ख़ुर्शीद शाह ने सदन में ज़ोरदार भाषण दिया.

पनामा पेपर्सः स्रोत ने कहा सज़ा माफ़ी मिले

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के प्रमुख इमरान ख़ान पनामा लीक्स मामले में शरीफ़ को झूठा बताते रहे हैं.

अख़बार जंग के मुताबिक़ उन्होंने कहा कि सरकार संस्थाओं से लड़ाई कर रही है और संस्थाओं से टकराव तबाही की तरफ़ ले जाता है.

उनका कहना था, अगर पीपीपी सुप्रीम कोर्ट के जजों या उसकी बनाई हुई जेआईटी के ख़िलाफ़ इस तरह का धमकी भरा बयान देती तो उसे मीनार-ए-पाकिस्तान पर उलटा लटका दिया जाता.

नवाज़ शरीफ़ ने आख़िरकार इस तरह का बयान देने वाले सांसद नेहाल हाशमी को पार्टी से निकाल दिया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे