लंदन हमला: ख़ुर्रम बट के चाचा के साथ बीबीसी की विशेष बातचीत

Image caption ख़ुर्रम बट के चाचा नासिर दार

लंदन में हाल ही में हुए हमले को अंजाम देने वाले खुर्रम बट के चाचा ने पाकिस्तान के झेलम में बीबीसी से बात करते हुए बट के कृत्य की निंदा की है.

ब्रिटेन की पुलिस ने मंगलवार को चरमपंथी हमले में शामिल तीनों हमलावरों के नाम जारी कर दिए हैं. इनमें ख़ुर्रम बट, रिचिड रेदुआन और योसेफ़ ज़ाग़बा का नाम सामने आया है.

कौन है लंदन का हमलावर ख़ुर्रम बट?

लंदन हमला: 12 अरेस्ट, आईएस ने ली जिम्मेदारी

ख़ुर्रम बट के चाचा नासिर दार कहते हैं, "मैं सबसे पहले इस हिंसक घटना की निंदा करता हूं, मैं इसके बारे में बात करते हुए भी शर्मिंदगी महसूस कर रहा हूं. इस घटना में मासूम लोगों की मौत हुई है. मेरी सभी पीड़ितों के साथ गहरी संवेदना है. दुनिया का कोई धर्म इस घृणित और हिंसक कृत्य की आज्ञा नहीं देता है."

इमेज कॉपीरइट UNKNOWN
Image caption बट ने लंदन में एक कस्टमर सर्विस एजेंट के रूप में काम किया

ख़ुर्रम के पाकिस्तान आने पर क्या आपको उनके अंदर किसी तरह की कोई तब्दीली नजर आई?

ख़ुर्रम तकरीबन 23 साल पहले पाकिस्तान छोड़कर यूके चला गया था. इस दौरान दो बार 2009 और 2013 में वह पाकिस्तान आया था. ख़ुर्रम में बदलाव की बात करें तो उस वक्त कुछ बदलाव महसूस हो रहा था. पहले वह एक अंग्रेज़ लड़कों जैसा था, लेकिन इस बार वह नमाज पढ़ने लगा था.

लंदन ब्रिज, बरो हमला आतंकवादी घटना: पुलिस

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
'खुर्रम पहले अंग्रेज़ था, फिर बदल गया...'

ख़ुर्रम को जिन लोगों ने इस्तेमा किया उन लोगों के बारे में क्या कहना चाहेंगे?

ख़ुर्रम जैसे लोगों का इस्तेमाल करने वालों का पर्दाफाश करना चाहिए, मैं समझता हूं कि उनकी बात करनी चाहिए जो ख़ुर्रम की वजह से मरे, जो उसकी वजह से मरे जिन्होंने ख़ुर्रम का कुछ बिगाड़ा नहीं था. जो भी इसके पीछे हो उसे पकड़ा जाना चाहिए.

इमेज कॉपीरइट GABRIELE SCIOTTO

क्या आपको ये ख्वाहिश होती है कि अगर आपको पता होता तो आप ख़ुर्रम को रोकते?

अगर मुझे ख़ुर्रम या किसी का भी पता चले तो मैं उसे रोकूंगा. ख़ुर्रम तो एक शख्स है, मैं इस नज़रिये के ख़िलाफ़ हूं, जो भी किसी के लिए परेशानी की वजह बन रहा है, मैं उसकी मिन्नत करना चाहूंगा, कोई मजहब इसकी इजाजत नहीं देता. हमारा दीन इसकी तालीम नहीं देता.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे