क़तर संकट: क्या अल जज़ीरा के पर कतर देंगे अरब देश

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption 1996 में शुरू हुआ अल जज़ीरा अरब जगत का सबसे पहला 24-घंटे चलने वाला न्यू़ज़ चैनल है

सऊदी अरब ने क़तर के न्यूज़ नेटवर्क अल जज़ीरा के ऑफिस को बंद करने के साथ ही ब्रॉडकास्टिंग लाइसेंस को कैंसल कर दिया है.

वहीं, मिस्र, बहरीन, सऊदी अरब और सयुंक्त अरब अमीरात ने अल जज़ीरा की वेबसाइट को ब्लॉक कर दिया है.

क़तर संकट क्यों और क्या है आगे की राह?

गल्फ़ में कैसे बीतता है एक ग़ैर-रोज़ेदार का दिन

तेल और गैस संपदा से धनी अरब देश क़तर को दुनिया के नक्शे पर एक पहचान दिलाने में अल जज़ीरा का एक विशेष योगदान रहा है. इसमें साल 2022 के फुटबॉल विश्व कप का आयोजन अधिकार हासिल करना भी शामिल है.

ऐसे में क़तर संकट सामने आने के बाद अब अल जज़ीरा के भविष्य पर भी प्रश्न चिह्न लगना शुरू हो गए हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption मिस्र अल जज़ीरा पर पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद मोर्सी के साथ पक्षपात करने का आरोप लगाता रहा है

अरब देशों को क्यों नहीं पसंद अल जज़ीरा?

मिस्र से लेकर सऊदी अरब में अल जज़ीरा की पत्रकारिता पर सवाल उठते रहे हैं.

इसमें मिस्र के शासकों होस्नी मुबारक और मोहम्मद मोर्सी के सत्ता से अपदस्थ होने के दौरान हुई अल जज़ीरा की रिपोर्टिंग भी शामिल है.

अरब देशों की क़तर से संबंध तोड़ने की 4 वजहें

क़तर के 'पर कतरने' का भारतीयों पर क्या असर

सऊदी अरब ने कहा है कि ये हूती विद्रोहियों का समर्थन करता है जिनके खिलाफ सऊदी अरब यमन में संघर्ष कर रहा है.

हालांकि, अल जज़ीरा ने संपादकीय स्वतंत्रता का बचाव किया है.

इमेज कॉपीरइट AFP

क्या अल जज़ीरा को होगा नुकसान?

दोहा से बीबीसी अरब के विशेष संवाददाता फेरस किलानी बताते हैं कि सूत्रों के मुताबिक क़तर पर मीडिया में सुधार करने की शर्त लादी जाएगी, अलजज़ीरा को शायद बंद न किया जाए लेकिन इसकी संपादकीय नीतियों में परिवर्तन लाया जाएगा और लंदन में स्थित क़तर के नये नेटवर्क अल अरबया को बंद किया जा सकता है.

वह बताते हैं कि साल 2002 में सऊदी अरब इसरायल और फिलिस्तीन के बीच उसकी शांति योजना से जुड़ी रिपोर्टिंग पर इतना खफा हुआ है कि क़तर से अपने दूत को वापस बुला लिया था.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption मिस्र की एक अदालत साल 2015 में अल जज़ीरा के तीन पत्रकारों पर ग़लत ख़बर चलाने के आरोप में सज़ा सुना चुकी है

साल 2014 में क़तर ने राजनयिक संकट को दूर करने के लिए अपने अरब पड़ोसियों की घरेलू नीतियों में छेड़छाड़ नहीं करने का वादा किया था. इस दौरान सऊदी अरब, बहरीन और सयुंक्त अरब अमीरात ने अपने दूतों को वापस बुला लिया था.

किंग्स कॉलेज लंदन में क़तर विशेषज्ञ डेविड रॉबर्ट्स इस बात से सहमत हैं कि क़तर के साथ संबंध सुधारने की दिशा में अल जज़ीरा खाड़ी देशों और मिस्र की मांगों में भी शामिल होगा.

खबरों को किस तरह छापता है अल जज़ीरा अरब - नादा राशवान, बीबीसी मॉनिटरिंग

अल जज़ीरा अरब साल 2011 में सामने आई अरब क्रांति का पक्षधर था और नेटवर्क ने इस्लाम समर्थित लाइन ले ली थी.

इमेज कॉपीरइट AFP

इसके साथ ही अल जज़ीरा को क़तर की वैश्विक नीति का हिस्सा माना जाने लगा. साल 2013 में मोहम्मद मोर्सी के अपदस्थ होने की घटना के दौरान भी मिस्र और क़तर के बीच तनाव की वजह अल जज़ीरा ही था.

सीरिया और इराक में अल जज़ीरा की कथित इस्लामिक स्टेट चरमपंथी समूह से जुड़ी खबरें अन्य न्यूज नेटवर्कों से अलग रहीं.

मसलन, अल जज़ीरा इस संगठन को राज्य संगठन कहता है जो इस संगठन की परिभाषा से ज्यादा अलग नहीं है. ये परिभाषा सऊदी अरब की परिभाषा के विपरीत है.

साल 2015 में इस्लामिक स्टेट ने सुन्नी आतंकियों को सुन्नी क्रांतिकारी कहा जिसमें इस्लामिक स्टेट के चरमपंथी भी शामिल हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे