ब्रिटेन में त्रिशंकु संसद, उल्टा पड़ा मध्यावधि चुनाव का दाँव

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
बर्मिंघम एजबेस्टन से जीतीं प्रीत गिल

ब्रिटेन में समय-पूर्व करवाए गए आम चुनावों के नतीजों में त्रिशंकु संसद की स्थिति बन गई है.

पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने की उम्मीद लगाए प्रधानमंत्री टेरीज़ा मे ने समय से पहले चुनाव कराने की घोषणा की थी.

ब्रिटेन चुनावः रिकॉर्ड संख्या में जीते भारतीय मूल के उम्मीदवार

तनमनजीत सिंह बने ब्रिटेन के पहले पगड़ीधारी सिख सांसद

लेकिन चुनावी नतीजों में उन्हें भारी झटका लगा है. उनकी कंज़र्वेटिव पार्टी को पिछली बार से भी कम सीटें मिलीं हैं, जबकि लेबर पार्टी को 29 सीटों का फायदा हुआ है.

बीबीसी हिंदी के इस ख़ास पन्ने पर पढ़िए मतगणना की ताज़ा स्थिति:

अभी तक के नतीजे

  • कंज़र्वेटिव 316
  • लेबर 261
  • लिबरल डेमोक्रेट्स 12
  • एसएनपी 35
  • कुल सीटें 650

2015 के चुनावों में सीटों की स्थिति

  • कंज़र्वेटिव 331
  • लेबर 232
  • लिब डेम 8
  • एसएनपी 56
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
कॉर्बिन ने मांगा टेरीज़ा मे का इस्तीफ़ा

मतगणना की मुख्य बातें

  • टेरीज़ा मे की कंज़र्वेटिव पार्टी सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी है लेकिन उसे पूर्ण बहुमत हासिल नहीं पाया है.
  • बहुमत के लिए चाहिए 326 सीटें. टेरीज़ा में ने संकेत दिया है कि कंज़र्वेटिव पार्टी सरकार बनाने की कोशिश करेगी, जबकि लेबर पार्टी के नेता जेरेमी कॉर्बिन ने उनके इस्तीफडे की मांग की है.
  • 650 सीटों पर गुरुवार, 9 जून को हुआ था मतदान.
  • ब्रिटेन में समय से तीन साल पहले करवाए गए हैं आम चुनाव. पिछला चुनाव दो साल पहले 2015 में हुआ था.
  • कंज़र्वेटिव प्रधानमंत्री टेरीज़ा मे ने पिछले साल ब्रेक्सिट पर आए फ़ैसले को देखते हुए 19 अप्रैल को समय-पूर्व चुनाव करवाने का फ़ैसला किया था.
  • ब्रिटेन के 'फ़िक्स्ड टर्म पार्लियामेंट्स एक्ट' के अनुसार, आम चुनाव हर पांच साल बाद मई के महीने में कराए जाते हैं और अगला चुनाव 2020 में होना था.
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
टेरीज़ा बोलीं, देश को स्थिरता चाहिए

प्रधानमंत्री टेरीज़ा मे ने कहा, "ब्रेक्सिट को ध्यान में रखते हुए यूरोपीय संघ से बातचीत के लिए देश में राजनीतिक स्थिरता बहुत ज़रूरी है."

लेबर पार्टी के नेता जेरेमी कोर्बिन ने टेरीज़ा मे से इस्तीफ़ा देने की मांग की है.

उन्होंने कहा, "टेरीज़ा मे ने पूर्ण बहुमत के लिए समय से पहले चुनाव कराया था लेकिन उनकी सीटों, वोटों और समर्थन में कमी आई है. उन्हें इस्तीफ़ा देकर जनता का सच्चा प्रतिनिधित्व करने वाली सरकार बनने का रास्ता देना चाहिए."

ब्रिटेन में क्यों इस्तेमाल नहीं होती ईवीएम?

ब्रिटेन चुनावः रिकॉर्ड संख्या में जीते भारतीय मूल के उम्मीदवार

इमेज कॉपीरइट Getty Images

बड़ी जीत-बड़ी हार

  • कंज़र्वेटिव नेता टेरीज़ा मे मेडेनहेड सीट से फिर चुनी गईं.
  • लिबरल डेमोक्रेट के दिग्गज और पूर्व उप-उप्रधानमंत्री निक क्लेग हारे.
  • स्कॉटिश नेशनल पार्टी (एसएनपी) के उप नेता स्कॉटिश कंज़र्वेटिव से एंगस रॉबर्ट्सन हारे.

ब्रिटेन में त्रिशंकु संसद, आगे क्या होगा?

Please enable Javascript to view our results map

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)