कौन है ब्रितानी चुनाव की किंगमेकर डीयूपी?

  • 9 जून 2017
इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption एरलीन फ़ॉस्टर की डीयूपी ने इस बार दस सीटें जीती हैं.

ब्रिटेन के संसदीय चुनाव में सत्ताधारी कंज़रवेटिव पार्टी को सबसे ज्यादा सीटें (318) मिली हैं, लेकिन प्रधानमंत्री टेरीज़ा मे के नेतृत्व में पार्टी स्पष्ट बहुमत हासिल नहीं कर सकी है.

प्रधानमंत्री टेरीज़ा मे ने कहा है कि वो अल्पमत की सरकार बनाएंगी और इसके लिए वो उत्तरी आयरलैंड की पार्टी डीयूपी (10 सीटें) का समर्थन लेंगी. इस तरह 650 सदस्यीय निचले सदन में उन्हें 328 सांसदों का समर्थन हासिल हो जाएगा जो बहुमत के आंकड़े (326) से ज़्यादा है.

अभियान

डेमोक्रेटिक यूनियनिस्ट पार्टी (डीयूपी) ने 2015 आम चुनावों में अपना चुनाव अभियान वेस्टमिंस्टर में किंगमेकर बनने के इर्द-गिर्द ही चलाया था.

अपने चुनावी पोस्टरों में उन्होंने लिखा था, "अधिक वोट, अधिक सीटें, अधिक प्रभाव और उत्तरी ऑयरलैंड के लिए ज़्यादा काम."

लेकिन जब डेविड कैमरन ने बहुमत से सत्ता हासिल की थी तो उनके इस विचार को भी भुला दिया गया.

लेकिन अब हुए मध्याविधि चुनाव में 10 सीटें जीतने वाली डीयूपी असल में किंगमेकर बन गई है.

बहुमत के लिए 326 सीटों के आंकड़े से पीछे रहने वाली टेरीज़ा मे की कंज़रवेटिव पार्टी (318 सीट), डीयूपी (10 सीट) के समर्थन से ही सरकार बनाने जा रही है.

डीयूपी के नेता लेबर पार्टी के जेरेमी कॉर्बिन के प्रति अपनी नाराज़गी का इज़हार कर चुके थे ऐसे में लेबर पार्टी के गठबंधन में डीयूपी का शामिल होना मुश्किल माना जा रहा था.

टेरीज़ा मे की नीतियां डीयूपी के ज़्यादा क़रीब हैं.

ब्रितानी चुनाव से जुड़ी 10 रोचक बातें

ब्रिटेन के पहले पगड़ीधारी सिख सांसद

इमेज कॉपीरइट PA
Image caption डीयूपी लेबर पार्टी के नेता जेरेमी कोर्बिन की नीतियों की विरोधी है.

डीयूपी का सफ़र

डीयूपी उत्तरी आयरलैंड की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी है. ब्रिटेन में यूनाइटेड किंग्डम इंडिपेंडेस पार्टी (यूकिप) के उदय से पहले डीयूपी ही यूरोपीय संघ को लेकर सबसे ज़्यादा आशंकित थी.

डीयूपी समलैंगिक विवाह और गर्भपात का भी विरोध करती है.

डीयूपी सांसद लेबर पार्टी के नेता जेरेमी कॉर्बिन के सिन फ़िन से कभी रहे संबंधों और सुरक्षा पर उनके विचारों को लेकर लगातार उनका विरोध करते रहे हैं. सिन फ़िन आयरलैंड का राजनीतिक दल है.

इस बार डीयूपी ने अपना चुनाव अभियान ब्रिटिश गणराज्य को एकजुट बनाए रखने के इर्द-गिर्द चलाया.

ब्रेक्ज़िट के मुद्दे पर डीयूपी आयरलैंड गणराज्य के साथ उत्तरी आयरलैंड की सीमा को जितना हो सके उतना निर्बाध और खुला चाहती है. वो सिन फ़िन की मांग वाले यूरोपीय यूनियन में आयरलैंड को ख़ास दर्जा दिए जाने को भी नकारती है.

ब्रिटेन चुनावः रिकॉर्ड संख्या में जीते भारतीय मूल के उम्मीदवार

प्रीत गिल बनीं ब्रिटेन की पहली महिला सिख सांसद

इमेज कॉपीरइट Press Eye
Image caption उत्तरी आयरलैंड की एरलीन फ़ॉस्टर की स्थिति अब वेस्टमिंस्टर में मज़बूत हो गई है.

डीयूपी का घोषणापत्र

डीयूपी ने अपने चुनावी घोषणापत्र में उत्तरी आयरलैंड और ग्रेट ब्रिटेन के बीच चलने वाले जहाज़ों के किराए की समीक्षा, हवाई यात्रा पर ड्यूटी को ख़त्म करने और पर्यटन सेवाओं पर वैट कम करने का वादा किया था.

डीयूपी ने बीते चुनावों के मुकाबले दो सीटें अधिक जीती हैं. उसे आयरलैंड में हुए ध्रुवीकरण का फ़ायदा मिला है.

हालांकि उत्तरी आयरलैंड की विधानसभा के लिए मार्च में हुए चुनावों में पार्टी को मुश्किलों का सामना करना पड़ा था और उसकी विरोधी सिन फ़िन ने बढ़त हासिल की थी.

ये चुनावी मुकाबला और भी कठिन था, लेकिन इस बार डीयूपी ने सिन फ़िन को उत्तरी आयरलैंड की सबसे बड़ी पार्टी बनने से रोक दिया है.

हालांकि सिन फ़िन ने भी अच्छा प्रदर्शन करते हुए सात सीटें जीत ली हैं जो उसके लिए रिकॉर्ड है. सिन फ़िन के सांसद वेस्टमिंस्टर में उपस्थित नहीं होते हैं और वो इस बार भी अपनी गैर हाज़िर रहने की नीति पर कायम रहेंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे