लंदन में क़तर के पास महारानी से भी ज़्यादा ज़मीन

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption ब्रिटेन के 29% एलएनजी आयात का लगभग पूरा हिस्सा क़तर से आता है

लंदन के किसी भी हिस्से से गुज़रें तो ऐसा शायद ही संभव हो कि आप किसी चमचमाते हुए होटल या बहुमंज़िला इमारत की बात करें और उसमें क़तर का पैसा न लगा हो.

बीते कई सालों में क़तर ने ब्रिटेन में तकरीबन 35 बिलियन पाउंड का निवेश किया है जो कि अगले पांच सालों में 40 बिलियन पाउंड तक पहुंचने वाला है.

क़तर का गहराता संकट आख़िर कहां ले जाएगा?

क़तर का फूटा गुस्सा, समझौते से किया इनकार

इमेज कॉपीरइट PA

इसी आधार पर कहा जाने लगा है कि लंदन में जितनी ज़मीन क़तर के पास है उतनी जमीन 'महारानी' के पास भी नहीं है.

क़तर ने ब्रिटेन से लेकर अमरीका और तमाम अन्य देशों में दुनिया भर में 335 बिलियन डॉलर का निवेश किया हुआ है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption क़तर के पास लंदन का मशहूर वॉकी टॉकी कमर्शियल टॉवर है

हालांकि, आने वाले पांच से दस सालों में निवेश की ये रफ्तार थोड़ी धीमी पड़ सकती है क्योंकि अब क़तर 35 बिलियन अमरीकी डॉलर के साथ निवेश के लिए अमरीका की ओर रुख कर रहा है.

लंदन में कितनी है क़तर की संपत्ति

प्रॉपर्टी रिसर्च कंपनी डाचा के मुताबिक, लंदन में क़तर के पास 879 कमर्शियल और रेजिडेंशियल संपत्तियां हैं. इनमें से 26 मिलियन स्कैवयर फीट जमीन कमर्शियल कैटेगरी में आती है.

इस प्रॉप्रटी साम्राज्य के केंद्र में कैनेरी वार्फ ग्रुप है जिसे क़तर ने ब्रुकफील्ड प्रॉपर्टी पार्टनर्स के साथ मिलकर 2015 में 2.6 बिलियन पाउंड की कीमत पर खरीदा था.

इस ग्रुप के पास लंदन के साउथ बैंक पर बना शैल सेंटर और 20 फेनचर्च स्ट्रीट (वॉकी टॉकी बिल्डिंग) है.

इसके पास लंदन के सेवॉय होटल (10%) से लेकर शार्ड होटल (95%) में हिस्सेदारी है. हाल ही में, क़तर ने हैरॉड्स डिपार्टमेंटल स्टोर को भी 1.5 बिलियन पाउंड में खरीदा है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption क़तर ने द शार्ड से लेकर वॉकी टॉकी टॉवर को खरीदा है

इसी बीच क़तर इन्वेस्टमेंट अथॉरिटी की रियल इस्टेट डेवलपमेंट यूनिट ने लंदन के ग्रोसवेनर स्कैवयर पर स्थित अमरीकी दूतावास को एक लग्ज़री होटल में बदलना शुरू कर दिया है.

तो क़तर ने दी थी 6400 करोड़ रुपये की फ़िरौती?

क़तर पर नाकेबंदी में ढील दें खाड़ी देश: अमरीका

साल 2012 के ओलंपिक एथलीट विलेज के विकास और ऐसे तमाम अन्य प्रोजेक्ट्स पर काम जारी है जिनसे तकरीबन 4000 रेजिडेंशियल यूनिट्स को लीज पर दिया जाएगा.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption क़तर के पास होटल शार्ड में भी 95% हिस्सेदारी है

अगर होटलों में निवेश की बात करें तो क़तर के पास बार्कले, कनॉट, पार्क लेन में इंटरकॉन्टिनेंटल और क्लेरिज़ जैसे तमाम होटल हैं.

ब्रिटेन के गैस आयात में क़तर का प्रभाव

ब्रिटेन के ईधन आयात में 29% फीसदी प्राकृतिक गैस का हिस्सा है.

ब्रिटेन अपनी जरूरत की नैचुरल का लगभग पूरा आयात ही क़तर से करता है जो बड़े बड़े जहाजों में मिडफोर्ड हेवन के साउथ टर्मिनल से होता हुआ आता है.

इस टर्मिनल में भी क़तर पेट्रोलियम की 67.5% हिस्सेदारी है.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption ब्रिटेन के 29% एलएनजी आयात का लगभग पूरा हिस्सा क़तर से आता है

इसके अलावा ब्रिटेन के कॉरपोरेट घरानों जैसे सेंसबरी में 22%, लंदन हीथ्रो एयरपोर्ट में 20%, ब्रिटिश एयरवेज की मालिक कंपनी इंटरनेशनल एयरलाइंस ग्रुप में 20% हिस्सेदारी है.

क़तरः क्या ट्रंप को अपनी पीठ थपथपानी चाहिए

लेकिन विवाद भी कम नहीं

ब्रिटेन में क़तर निवेश विवादों से भी दूर नहीं है. मसलन, चेल्सा बैरक्स साइट की नई डिजाइन प्रिंस फिलिप्स को पसंद नहीं आई तो साल 2015 तक ये प्रोजेक्ट रुका रहा.

इसके साथ ही साल 2008 में क़तर और अबु धाबी ने बार्कले बैंक में 7.3 बिलियन पाउंड का निवेश किया जिसमें से चार बिलियन पाउंड क़तर ने किया था.

ब्रिटेन सरकार के बेल आउट पैकेज से किनारा करने वाले बार्कले बैंक के निवेश जुटाने के तरीकों पर दो जांचें चल रही हैं. इसके अलावा बैंक पर 700 मिलियन पाउंड का कोर्ट केस भी चल रहा है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption क़तर ने बार्कले समेत कई अन्य बैंकों में निवेश करके ब्रिटेन के बैंकिंग उद्योग में भी निवेश किया हुआ है

हालांकि, क़तर की हिस्सेदारी किसी तरह से जांच के घेरे में नहीं है और ये बैंक में 6 फीसदी की हिस्सेदारी रखता है.

लेकिन क़तर ने ब्रिटेन के बैंकिग उद्योग में अन्य तरीकों से भी प्रवेश करना शुरू कर दिया है जिसमें नुकसान में चल रहे पेनमर स्टॉक ब्रोकर और इंवेस्टमेंट बैंक में 44% की हिस्सेदारी खरीदना भी शामिल है.

इसका उद्देश्य पेनमर को मजबूत बनाकर ब्रिटेन के प्रमुख इन्वेस्टमेंट बैंक के रूप में स्थापित करना है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे