मुझे किसी ने चोर-चोर नहीं कहा: माल्या

विजय माल्या इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारतीय बैंकों का क़र्ज़ बिना लौटाए फ़रार होकर पिछली मार्च से लंदन में रह रहे उद्योगपति विजय माल्या मंगलवार को पत्रकारों के सवालों के जवाब देते हुए ख़ासे असहज दिखे.

61 साल के विजय माल्या पर भारतीय बैंकों का 9000 करोड़ रुपए से अधिक का क़र्ज़ बकाया है.

विजय माल्या के ख़िलाफ़ ग़ैर ज़मानती वारंट्स जारी हो चुके हैं और विदेश मंत्रालय उनका पासपोर्ट रद्द कर चुका है.

माल्या के भारत प्रत्यर्पण के सिलसिले में वेस्टमिंस्टर मैजिस्ट्रेट कोर्ट में सुनवाई हो रही है और इसी के बाद पत्रकारों ने माल्या को घेर लिया था.

यूनाइटेड स्पिरिट्स के पूर्व चेयरमैन और किंगफिशर कंपनी के मालिक विजय माल्या ने मंगलवार को अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को ख़ारिज किया.

रिपोर्टरों से माल्या ने कहा, ''मेरे ख़िलाफ़ जो भी आरोप हैं उन्हें मैं ख़ारिज करता हूं. मेरे पास ख़ुद को बेगुनाह साबित करने के लिए पर्याप्त सबूत हैं.''

क्यों मुश्किल है विजय माल्या को भारत लाना?

विजय माल्या कैसे बने 'किंग ऑफ़ बैड टाइम्स'

झल्ला कर बोले- 'मुझे चोर नहीं कहा'

एक रिपोर्टर ने माल्या से पूछा कि उनकी अगली योजना क्या है? इस पर माल्या ने कहा, ''मैं कोर्ट में अपना पक्ष रखूंगा और अपनी ज़िंदगी बसर करूँगा.''

ऐसी खबरें आ रही थीं कि ब्रिटेन में भारत के चैंपियंस टॉफ़ी मैच के दौरान माल्या को लोगों ने चोर-चोर कहा था. इस पर माल्या ने झल्ला कर रिपोर्टरों से कहा कि उन्हें किसी ने चोर-चोर नहीं कहा.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

माल्या ने कहा, ''मुझे किसी ने चोर नहीं कहा और इसका मेरे पास वीडियो है. दो लोगों ने शराब पी रखी थी जो चीखने लगे, लेकिन आपने यह नहीं देखा कि कई लोगों ने आकर मेरा हालचाल पूछा.''

भारत सरकार ने इस साल 6 फ़रवरी को माल्या के प्रत्यर्पण के लिए औपचारिक आवेदन किया था. इस मामले में कोर्ट अब 6 जुलाई को सुनवाई करेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे