जब चे गेवारा इनसे मिलकर भारत के दीवाने हो गए

चे ग्वेरा इमेज कॉपीरइट Keystone/Getty Images

14 जून, 1928 यानी नवासी साल पहले आज ही के दिन लातिनी अमरीकी क्रांतिकारी चे गेवारा का जन्म एक मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ था.

चे गेवारा ये वो शख्स था जो पेशे से डॉक्टर था, 33 साल की उम्र में क्यूबा का उद्योग मंत्री बना, लेकिन फिर लातिनी अमरीका में क्रांति का संदेश पहुँचाने के लिए ये पद छोड़कर फिर जंगलों में पहुँच गया.

एक समय अमरीका का सबसे बड़ा दुश्मन, आज कई लोगों की नज़र में एक महान क्रांतिकारी है.

अमरीका की बढ़ती ताकत को पचास और साठ के दशक में चुनौती देने वाला यह युवक - अर्नेस्तो चे गेवारा पैदा हुआ था अर्जेंटीना में.

कौन था श्रीलंका का 'चे ग्वेरा'?

ज़िंदा है "अफ्रीकी चे ग्वेरा" की विरासत

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images
Image caption फिदेल कास्त्रो के साथ चे ग्वेरा

सत्ता से संघर्ष की ओर

वो चाहते तो अर्जेंटीना की राजधानी ब्यूनस आयर्स के कॉलेज में डॉक्टर बनने के बाद आराम की ज़िंदगी बसर कर सकते थे.

लेकिन अपने आसपास ग़रीबी और शोषण देखकर युवा चे का झुकाव मार्क्सवाद की तरफ़ हो गया और बहुत जल्द ही इस विचारशील युवक को लगा कि दक्षिणी अमरीकी महाद्वीप की समस्याओं के निदान के लिए सशस्त्र आंदोलन ही एकमात्र तरीक़ा है.

1955 में यानी 27 साल की उम्र में चे की मुलाक़ात फ़िदेल कास्त्रो से हुई. जल्द ही क्रांतिकारियों ही नहीं, लोगों के बीच भी 'चे' एक जाना-पहचाना नाम बन गया.

क्यूबा ने फ़िदेल कास्त्रो के क़रीबी युवा क्रांतिकारी के रूप में चे को हाथों-हाथ लिया.

क्रांति में अहम भूमिका निभाने के बाद चे 31 साल की उम्र में बन गए क्यूबा के राष्ट्रीय बैंक के अध्यक्ष और उसके बाद क्यूबा के उद्योग मंत्री.

1964 में चे संयुक्त राष्ट्र महासभा में क्यूबा की ओर से भाग लेने गए. चे बोले तो कई वरिष्ठ मंत्री इस 36 वर्षीय नेता को सुनने को आतुर थे.

नहीं रहे क्यूबा के पूर्व राष्ट्रपति फ़िदेल कास्त्रो

चे ग्वेरा के मोटरसाइकिल साथी ग्रेनाडो नहीं रहे

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

लोकप्रिय नाम

आज क्यूबा के बच्चे चे गेवारा को पूजते हैं. और क्यूबा ही क्यों पूरी दुनिया में चे गेवारा आशा जगाने वाला एक नाम है.

दुनिया के कोने-कोने में लोग उनका नाम जानते हैं और उनके कार्यों से प्रेरणा लेते हैं.

चे की जीवनी लिखने वाले जॉन एंडरसन ने कहा था, "चे क्यूबा और लातिनी अमरीका ही नहीं दुनिया के कई देशों के लोगों के लिए एक प्रेरणा स्रोत हैं."

उनके मुताबिक, "मैंने चे की तस्वीर को पाकिस्तान में ट्रकों, लॉरियों के पीछे देखा है, जापान में बच्चों के, युवाओं के स्नो बोर्ड पर देखा है. चे ने क्यूबा को सोवियत संघ के करीब ला खड़ा किया. क्यूबा उस रास्ते पर कई दशक से चल रहा है. चे ने ही ताकतवर अमरीका के ख़िलाफ़ एक-दो नहीं कई विएतनाम खड़ा करने का दम भरा था. चे एक प्रतीक है व्यवस्था के ख़िलाफ़ युवाओं के ग़ुस्से का, उसके आदर्शों की लड़ाई का."

फ़िदेल कास्त्रो: वो कम्युनिस्ट सिपाही जो अमरीका से डरा नहीं

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images
Image caption चे ग्वेरा को 9 अक्तूबर, 1967 को बोलीविया मारा गया था

चे की बोलीविया में हत्या

37 साल की उम्र में क्यूबा के सबसे ताक़तवर युवा चे गेवारा ने क्रांति का संदेश अफ़्रीका और दक्षिणी अमरीका में फैलाने की ठानी.

कांगो में चे ने विद्रोहियों को गुरिल्ला लड़ाई की पद्धति सिखाई. फिर चे ने बोलीविया में विद्रोहियों को प्रशिक्षित करना शुरू किया.

अमरीकी खुफ़िया एजेंट चे गेवारा को खोजते रहे और आख़िरकार बोलीविया की सेना की मदद से चे को पकड़कर मार डाला गया.

अर्नेस्टो चे गेवारा आज दिल्ली के पालिका बाज़ार में बिक रहे टी-शर्ट पर मिल जाएंगे, लंदन में किसी की फ़ैशनेबल जींस पर भी, लेकिन चे क्यूबा और दक्षिण अमरीकी देशों के करोड़ों लोगों के लिए आज भी किसी देवता से कम नहीं है.

आज अगर चे गेवारा ज़िंदा होते तो 89 साल के होते, लेकिन चे को जब 9 अक्तूबर, 1967 को मारा गया उनकी उम्र थी महज़ 39 साल.

इमेज कॉपीरइट Photodivision.gov.in

भारत यात्रा

यह कम ही लोगों की जानकारी में है कि चे गेवारा ने भारत की भी यात्रा की थी. तब वे क्यूबा की सरकार में मंत्री थे.

चे ने भारत की यात्रा के बाद 1959 में भारत रिपोर्ट लिखी थी जो उन्होंने फ़िदेल कास्त्रो को सौंपी थी.

इस रिपोर्ट में उन्होंने लिखा था, "काहिरा से हमने भारत के लिए सीधी उड़ान भरी. 39 करोड़ आबादी और 30 लाख वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल. हमारी इस यात्रा में सभी उच्‍च भारतीय राजनीतिज्ञों से मुलाक़ातें शामिल थीं. नेहरू ने न सिर्फ दादा की आत्‍मीयता के साथ हमारा स्‍वागत किया बल्कि क्यूबा की जनता के समर्पण और उसके संघर्ष में भी अपनी पूरी रुचि दिखाई."

इमेज कॉपीरइट Photodivision.gov.in

चे ने अपनी रिपोर्ट में लिखा, "हमें नेहरू ने बेशकीमती मशविरे दिए और हमारे उद्देश्‍य की पूर्ति में बिना शर्त अपनी चिंता का प्रदर्शन भी किया. भारत यात्रा से हमें कई लाभदायक बातें सीखने को मिलीं. सबसे महत्‍वपूर्ण बात हमने यह जाना कि एक देश का आर्थिक विकास उसके तकनीकी विकास पर निर्भर करता है और इसके लिए वैज्ञानिक शोध संस्‍थानों का निर्माण बहुत ज़रूरी है- मुख्‍य रूप से दवाइयों, रसायन विज्ञान, भौतिक विज्ञान और कृषि के क्षेत्र में."

अपनी विदाई को याद करते हुए चे गेवारा ने लिखा था, "जब हम भारत से लौट रहे थे तो स्‍कूली बच्‍चों ने हमें जिस नारे के साथ विदाई दी, उसका तर्जुमा कुछ इस तरह है- क्यूबा और भारत भाई-भाई. सचमुच, क्यूबा और भारत भाई-भाई हैं."

(बीबीसी संवाददाता आकाश सोनी का ये लेख 9 अक्टूबर, 2007 को प्रकाशित हुआ था)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)