संकट क़तर-सऊदी अरब का, फंस गया पाकिस्तान?

  • 14 जून 2017
नवाज़ शरीफ़ इमेज कॉपीरइट Reuters

खाड़ी देशों में क़तर के अलग-थलग होने से उपजे संकट के बीच पाकिस्तानी मीडिया का कहना है कि पाकिस्तान को इस मामले में तटस्थ रहना चाहिए.

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ और आर्मी चीफ़ क़मर जावेद बाजवा 12 जून को इस मुद्दे पर उच्चस्तरीय बातचीत के लिए सऊदी अरब पहुंचे हैं.

पाकिस्तानी मीडिया को उम्मीद है कि नवाज़ शरीफ़ के सऊदी दौरे से मुस्लिम देशों के बीच संबंधों में सुधार की स्थिति बनेगी.

खाड़ी देशों में संकट की शुरुआत पांच जून को उस वक़्त हुई जब सऊदी अरब, मिस्र, संयुक्त अरब अमीरात और बहरीन ने क़तर से सारे संबंध ख़त्म कर दिए.

इन देशों ने कहा कि क़तर अतिवादी ग्रुपों को समर्थन दे रहा है और इससे मध्य-पूर्व में अस्थिरता बढ़ रही है. क़तर ने इन आरोपों को सिरे ख़ारिज कर दिया है.

क़तर का गहराता संकट आख़िर कहां ले जाएगा?

क़तर संकट क्यों और क्या है आगे की राह?

इमेज कॉपीरइट AFP

12 जून को नवाज़ शरीफ के सऊदी अरब दौरे को लेकर पाकिस्तानी मीडिया में काफ़ी हलचल रही.

टीवी चैनलों पर कई विशेषज्ञों का पैनल बैठा और अख़बारों में भी 13 जून को इस मुद्दे पर बड़े-बड़े संपादकीय लिखे गए.

'पाक की भूमिकासमझौता कराने वाले की हो'

रूढ़िवादी डेली नवा-ए-वक़्त ने ज़ोर देकर कहा है, ''पाकिस्तान को चाहिए इस मामले में वो अहम भूमिका अदा करे और मानवीय संकट पैदा होने से पहले इस संकट का समाधान खोज लिया जाए.''

इस उर्दू अख़बार ने आगे लिखा है, ''पाकिस्तान इस संटक में अहम भूमिका निभा सकता है.''

क़तर संकट पर खाड़ी देशों में क्यों है ख़ामोशी

'सऊदी शाह सलमान के दिल में हैं क़तर के लोग'

पाकिस्तान के अग्रणी अंग्रेज़ी अख़बार डॉन ने भी लिखा है कि मध्य-पूर्व के हालिया संकट की कई परतें हैं लेकिन पाकिस्तान को इस मामले में उलझना नहीं चाहिए.

डॉन ने लिखा है कि मध्य-पूर्व के संकट में उलझकर पाकिस्तान उसे संभाल नहीं सकता है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पाकिस्तान टुडे को उदारवादी अग्रेज़ी अख़बार माना जाता है.

उसने लिखा है, ''पाकिस्तान के क़तर और सऊदी दोनों से अच्छे संबंध हैं. ऐसे में किसी एक का पक्ष लेना उसके लिए मुश्किल भरा क़दम होगा. पाकिस्तान के लिए अच्छा होगा कि वह मुस्लिम देशों के बीच समझौता कराने वाले की भूमिका अदा कर संकट को ख़त्म करने की कोशिश करे न कि किसी एक का पक्ष ले.''

'पाकिस्तान इस संकट में फंस सकता है'

जिहादी समर्थक उर्दू अख़बार डेली उम्मत ने भी लिखा है कि पाकिस्तानी प्रधानमंत्री और आर्मी चीफ़ की सऊदी यात्रा से क़तर विवाद को सुलझाने में मदद मिलेगी.

अख़बार ने उम्मीद जताई कि इस मसले पर गंभीर कोशिश से विवाद को सुलझाया जा सकता है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सरकार समर्थक उर्दू भाषी जीओ टीवी के एंकर शहज़ेब ख़ानज़ादा ने कहा कि पाकिस्तान मुस्लिम देशों के बीच संबंधों को ठीक करने की कोशिश कर रहा है.

शहज़ेब ने उम्मीद जताई कि शरीफ़ क़तर और अन्य मुस्लिम देशों की यात्रा पर भी जाएंगे.

मुजीबुर रहमान शामी ने उर्दू भाषा के दुनिया टीवी पर कहा, ''पाकिस्तान इस संकट में पुल का काम कर सकता है और क़तर और सऊदी के बीच कलह के ख़त्म करने में अहम भूमिका अदा कर सकता है.''

जाने-माने पत्रकार नुसरत जावेद ने डॉन न्यूज़ टीवी पर चेतावनी देते हुए कहा, ''अगर यह मध्यस्थता नहीं परामर्श है तो सऊदी में पाकिस्तान के हितों को नुक़सान पहुंच सकता है क्योंकि सऊदी अरब पाकिस्तानी सेना की मदद की फ़र्माइश कर सकता है. जनरल बाजवा प्रधानमंत्री के साथ इसलिए गए हैं क्योंकि सैन्य मसलों पर भी बातचीत होनी है.''

इमेज कॉपीरइट Reuters

पश्चिम देश मतभेदों को हवा दे रहे हैं

दुनिया अख़बार ने क़तर संकट को लेकर अमरीका की आलोचना की है. उसने लिखा है कि खाड़ी के देशों में अमरीका मतभेदों को उकसा रहा है.

इस उर्दू भाषा के अख़बार ने लिखा है कि पश्चिम के देश अपना हित साधने के लिए अरब देशों में मतभेद पैदा कर रहे हैं.

जंग अख़बार की पाकिस्तान में अच्छी पहुंच है. जंग के एक लेख में क़तर संकट में अमरीका को घेरा गया है. इसमें लिखा है कि 'ईसाई पश्चिमी शक्तियां' मुस्लिम देशों के बीच फूट डाल रही हैं.

इस लेखक ने अपने आलेख में उम्मीद जताई है कि पाकिस्तान इस मामले में सकारात्मक भूमिका अदा करेगा और वह मुस्लिम देशों के ख़िलाफ़ हो रही साजिश को ख़त्म करेगा.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption सऊदी के साथ खड़ा है अमरीका

उर्दू भाषा के एक और उदारवादी अख़बार डेली एक्सप्रेस ने लिखा है, ''कुछ ताक़तें मुस्लिम देशों के बीच मतभेद पैदा करने में लगी हैं. ये ताक़तें इस विवाद में पाकिस्तान को भी घसीटना चाहती हैं. पाकिस्तान को संकट में बिना बात के ही नहीं फंसना चाहिए.''

जिहादी समर्थक उर्दू अख़बार ऑसाफ ने लिखा है, ''विदेशी ताक़तें खाड़ी के देशों में उपजे इस संकट का फायदा उठाना चाहती हैं. ये ताक़तें मुस्लिम देशों में फूट डालने की कोशिश कर रही हैं. मुस्लिम देशों के बीच पारस्परिक मतभेदों से अमरीका को फ़ायदा होगा.''

(बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की ख़बरें ट्विटर और फ़ेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)