लोग खिड़कियों से बच्चों को फेंक रहे थे - लंदन में हादसे के चश्मदीद.

इमेज कॉपीरइट Reuters

पश्चिमी लंदन के लाटिमर रोड पर स्थित एक 24 मंज़िला रिहाइशी इमारत में लगी आग में अब तक 12 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हुई है. लगभग 68 लोग अस्पतालों में भर्ती हैं लेकिन कई अन्य लोगों का कुछ अतापता नहीं है. कई लोग मारे गए हैं.

आग लगने के दस घंटे बाद भी ग्रेनफेल टावर से आग निकल रही है. लंदन के फ़ायर कमिश्नर ने कहा है कि फिलहाल ये बताना मुश्किल है कि कुल कितने लोगों की मौत हुई है, इसके बारे में अभी पुख्ता जानकारी नहीं मिल सकी है.

लंदन के टावर में भीषण आग,

तस्वीरें- लंदन के टॉवर में लगी आग से तबाही

इस घटना के कुछ चश्मदीदों और आग से बच कर निकलने वाले कुछ लोगों की आपबीती पढ़िए -

जोडी मार्टिन- 'लोग खिड़कियों से टॉर्च लाइट फेंक रहे थे'

मेरे चारों ओर इमारत के टुकड़े गिर रहे थे, अचानक मैं एक गर्म मेटल के टुकड़े से टकराई.

मैं बस लोगों पर चीख रही थी कि वो बाहर निकलें. और वो लोग मुझे चिल्ला कर बता रहे थे कि कॉरिडोर में धुंआ भर गया है. मुझे लगता है कि उन्हें लगा कि इमारत में फायर ब्रिगेड पहुंच चुकी है.

इमेज कॉपीरइट EPA

जैसे-जैसे आग बढ़ रही थी मैं देख रही थी कि फायर ब्रिगेड के लोग भी वहां पहुँच चुके हैं क्योंकि मैं इमारत के भीतर से फ्लैशलाइट देख सकती थी. लेकिन केवल चौथी मंज़िल तक.

मुझे नहीं लगता कि वो लोग चौथी मंज़िल से ऊपर भी गए होंगे क्योंकि शायद ऐसा करना असंभव हो गया होगा.

लोग अपनी खिड़कियों से अपने फोन की टॉर्च जला कर दिखा रहे थे और पूरी इमारत धुंए और आग की लपटों में घिरी थी

मुझे लगता है कि इमारत में बहुत सारे लोग थे लेकिन ज़्यादा लोग बाहर निकल नहीं पाए.

इमेज कॉपीरइट AFP

तमारा बाहर थीं- '15 मिनटों में टॉवर धू-धू कर जलने लगा'

एक बजे के आसपास मेरी मां ने मुझे फ़ोन किया और कहा कि शायद बाहर आग लगी है. हम लोग बाहर आए.

जब तक मैं वहां पहुंची इमारत का बांया हिस्सा पूरी तरह जल चुका था और दाहिने हिस्से में आग बढ़ रही थी. पूरी इमारत ही आग की लपटों में घिरी थी.

लोग मदद के लिए पुकार रहे थे- 'हेल्प मी, हेल्प मी, हेल्प मी'. मैं, मेरा भाई और हम कुछ लोग जो इसी इलाके में रहते हैं इमारत के उस हिस्से तक पहुंचे जहां हम नज़दीक जा सकते थे.

लोग खिड़कियों से अपने बच्चों को बाहर फेंक रहे थे. वो कह रहे थे, 'बस मेरे बच्चों को बचा लो'.

इमेज कॉपीरइट PA

वहां फायर ब्रिगेड थी, पुलिस एंबुलेंस थी, लेकिन कोई कुछ कर नहीं पा रहे थे क्योंकि वो अंदर जा नहीं पा रहे थे. वो कह रहे थे कि जहां हो वहीं रहो हम फिर आकर आपको निकालेंगे.

लेकिन आग ज़्यादा तेज़ी से फैल रही थी, उनके पास काम बहुत था, वो जल्दी लौट नहीं पाए.

और 15 मिनटों में पूरी इमारत धू-धू कर जलने लगी, लोग अब भी खिड़कियों पर खड़े चीख रहे थे- 'हेल्प मी, हेल्प मी'

आप देख सकते थे कि जहां वो थे वहां आखिरी कमरे में भी आग आ गई थी.

इमेज कॉपीरइट PA

महाद चौथी मंज़िल से बच्चों को लेकर भागे-

मैंने अपनी पत्नी को बताया. मैं चिल्ला रहा था, आग लग गई है, जल्दी बाहर निकलो.

हमने कुछ तौलिए गीले किए और बच्चों के कमरे में गए और उन्हें पूरी तरह से तौलिए में लपेट कर बाहर की तरफ भागे.

वहां इतना घना अंधेरा था, इतना धुंआ था, कुछ लोग सीढ़ियों से नीचे की तरफ दौड़ रहे थे, कुछ लोगों के हाथों में बक्से थे, वहां हर तरफ अफरा-तफरी मची हुई थी.

इमेज कॉपीरइट AFP

पॉल 7वीं मंज़िल से बच कर निकले-

मैं फायर अलार्म सुन कर बाहर नहीं निकला. मैंने इमारत के नीचे देखा, लोग चीख रहे थे. वो दूसरों से कह रहे थे 'नीचे मत कूदो, इमारत से नीचे मत कूदो.'

सच कहूं तो मुझे नहीं पता कि क्या वाकई लोग अपनी जान बचाने के लिए इमारत से नीचे कूद रहे थे या नहीं. लेकिन इस घटना के बारे में मैं कह सकता हूं कि इमारत के फायर अलार्म बजे ही नहीं.

लंदन के टावर में भीषण आग,

तस्वीरें- लंदन के टॉवर में लगी आग से तबाही

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
लंदन के बहुमंजिला टावर में भीषण आग

इमारत में रहने वाली सांड्रा रुईज़ आग से बच कर बाहर निकलीं. उन्होंने बताया- 'बाहर कई लोग बैठे हुए थे और खोए-खोए दिख रहे थे.'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

उन्होंने कहा कि जो लोग उनकी मदद के लिए यहां आए हैं वो कोशिश कर हैं कि किसी तरह से उनकी मदद कर पाएं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे