जब पत्रकार को गर्दन में लग गई गोली

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption आस्ट्रेलियाई पत्रकार एडम हार्वी

फिलीपींस में जारी संघर्ष के बीच एक आस्ट्रेलियाई पत्रकार एडम हार्वी गर्दन में गोली लगने से जख्मी हो गए हैं.

हार्वी मीडिया समूह एबीसी में कार्यरत हैं. उन्होंने ट्वीट के जरिए अपनी गर्दन के एक्सरे की तस्वीर जारी की है जिसमें एक गोली उनकी गर्दन में फंसी हुई दिखाई दे रही है.

फ़िलीपींस के होटल में बंदूकधारी का आतंक

दक्षिणी फ़िलीपींस में मार्शल लॉ लागू

एबीसी समूह के एक निदेशक ने हार्वी की चोट के जानलेवा होने से इनकार किया है.

'गोली लगी तो लगा कोई क्रिकेट बॉल लगी हो'

पत्रकार हार्वी ने अपने जख़्मी होने की घटना के बारे में बताया है.

उन्होंने कहा कि उन्होंने एक हेलमेट और जैकेट पहनी हुई थी, वह एक कार से खाना और पानी निकाल रहे थे तभी उन्हें लगा कि एक क्रिकेट बॉल उनकी गर्दन पर आकर लगी.

इमेज कॉपीरइट @ADHARVES

चोटिल होने के तुरंत बाद उन्होंने अपने सहयोगियों से फर्स्ट एड ली. उन्होंने सोचा कि उन्हें किसी गोली का छर्रा लगा, लेकिन जब उन्होंने एक्सरे कराया तो पता चला कि उन्हें गोली लगी है.

वे कहते हैं, "खुशनसीबी से गोली उनके किसी नाज़ुक हिस्से में लगने के जगह उनके जबड़े के ठीक पीछे लगी."

पत्रकार एडम हार्वी को बचाव के लिए गर्दन के चारों ओर कवर लगाने को कहा गया है.

फीलिपींस में जारी है संघर्ष

मई में मिंडानाओ द्वीप पर एक चरमपंथी संगठन के कथित इस्लामिक स्टेट के साथ जुड़े होने का दावा करने के बाद संघर्ष शुरू हो गया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption मारावी शहर में चरमपंथियों और सुरक्षाबलों के बीच जारी संघर्ष

खबरों के मुताबिक, सैकड़ों स्थानीय निवासी अभी भी फंसे हुए हैं.

'इस्लामिक स्टेट' ने कहाँ- कहाँ लगाई सेंध?

फिलीपींस के एक नेता ने गुरुवार को कहा है कि भागे हुए लोगों ने बताया है कि चरमपंथियों और सुरक्षाबलों के बीच जारी संघर्ष में कई लोग मारे गए हैं.

ये संघर्ष तब शुरु हुआ जब आर्मी की फिलीपींस में इस्लामिक स्टेट के प्रमुख नेता को पकड़ने की कोशिश असफल हो गई. इसके बाद स्थानीय चरमपंथियों ने द्वीप में कई जगहों पर हमला करते हुए लोगों को बंदी बनाना शुरू कर दिया.

इसके बाद फिलीपींस के राष्ट्रपति ने मिंडानाओ द्वीप पर मार्शल लॉ घोषित कर दिया है.

सरकार के मुताबिक, इस संघर्ष में अब तक 26 आम नागरिक, 58 सुरक्षाबल और 206 चरमपंथी मारे जा चुके हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)