इराक़ ने शुरू की मोसुल को वापस हासिल करने की कोशिशें

इराक़ युद्ध इमेज कॉपीरइट Reuters

इराक़ की सेना ने कथित चरमपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट के कब्ज़े वाले पुराने मोसुल शहर को वापस हासिल करने के लिए चरमपंथियों पर धावा बोल दिया है.

पुराना मोसुल शहर इस चरमपंथी संगठन के कब्ज़े वाला आख़िरी शहर है.

मोसुल में आम लोगों पर 'बड़ा ख़तरा': यूएन

मोसुल में इराक़ी सेना ने आईएस को घेरा

सयुंक्त राष्ट्र संघ के मुताबिक़, घनी आबादी वाले पुराने मोसुल शहर में तक़रीबन एक लाख लोगों के फंसे होने की आशंका है.

उन्हें मौका मिलने पर शहर छोड़ने को कहा गया है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इस्लामिक स्टेट से जुड़े मीडिया संगठनों के मुताबिक़, चरमपंथियों ने इराक़ी सेना की कोशिशों पर पानी फेर दिया है और सुबह के वक़्त पुलिस पोस्ट पर हमले किए हैं.

वहीं, इराक़ी सुरक्षाबलों ने बीबीसी को बताया है कि उन्हें पुराने मोसुल में छिपे चरमपंथियों की संख्या के बारे में जानकारी नहीं है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption पुराने मोसुल शहर में जारी संघर्ष के दौरान गश्त करते सुरक्षाबलों के जवान

सयुंक्त राष्ट्र संघ के मुताबिक, मोसुल के पश्चिमी हिस्से में बीते दो हफ़्तों में 230 नागरिक मारे जा चुके हैं.

इनमें से कुछ लोग हवाई हमलों और कुछ बचकर भागते समय इस्लामिक स्टेट के स्नाइपर्स का शिकार हुए हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हाल ही में इस इलाके से भागने में सफल हुए लोगों के मुताबिक पुराने मोसुल में हालात बेहद खराब हैं और सैकड़ों खाने और पानी की कमी से जूझ रहे हैं.

अंत की शुरुआत - बीबीसी मध्य-पूर्व प्रोड्यूसर जोआन सोली

इराक़ी सुरक्षा बलों ने धीरे-धीरे मोसुल शहर के चारों ओर घेरा डालना शुरू कर दिया है. अब पीछे हटने का कोई रास्ता नहीं है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हालांकि, इराक़ और गठबंधन सेनाओं से जुड़े सूत्र बता चुके हैं कि पुराने मोसुल के साथ बहने वाली नदी की तरफ़ भारी मात्रा में लोग हैं.

ऐसे में इस क्षेत्र में जारी संघर्ष के बीचों-बीच इतने लोगों यानी चरमपंथियों, सुरक्षाबल और आम नागरिकों की मौजूदगी बताती है कि इस जंग के अंत में भारी नुकसान होगा.

इराक़ी सरकार के लिए पुराने मोसुल शहर को एक बार फिर हासिल करना एक जंग जीतने जैसा है.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption मोसुल शहर की नूरी मस्ज़िद में खींची गई थी ये तस्वीर

तीन साल पहले इसी शहर में स्थित नूरी मस्ज़िद से आईएस प्रमुख अबु-बक़र-अल-बग़दादी की सबसे ताकतवर तस्वीर सामने आई थी.

अब इराक़ इस तस्वीर को नूरी मस्ज़िद पर इराक़ी कब्जे की तस्वीर से बदलना चाहता है.

अब चाहे मस्ज़िद पर उसी जगह खड़े होकर इराक़ी झंडे लहराए जाएं या इराक़ी सैनिक सेल्फी लेते दिखें या मस्ज़िद को जमींदोज़ कर दिया जाए - लेकिन सुरक्षाबल ऐसा करना चाहते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हालांकि, ये जंग अभी जारी रहेगी. मोसुल और सीरियाई सीमा तक के क्षेत्र को सुरक्षित किया जाना है.

बगदाद और मोसुल के बीच हाविजा कस्बा अभी भी इस्लामिक स्टेट के कब्ज़े में है.

पश्चिमी मोसुल से भागना - नफीश कोहनवार्ड. बीबीसी फ़ारसी सेवा

हम एक ऐसे परिवार के संपर्क में थे जिनके घर के ठीक बगल में एक आईएस का स्नाइपर तैनात था. इस घर में तीन परिवार फंसे थे जिनमें एक नौ महीने की गर्भवती महिला और बूढ़े लोग शामिल थे.

इमेज कॉपीरइट Reuters

उन लोगों को डर लग रहा था कि कहीं उनके घर पर बम न गिरा दिया जाए. एक नज़दीकी घर भी तबाह हो चुका था.

हमनें इस घर के पते को अमरीकी नेतृत्व वाली सेनाओं को दिया.

उन्होंने इस पते को नक़्शे पर देखकर बम न गिराने के लिए चिह्नित कर दिया. इसके बाद इन लोगों को बचाने के लिए एक योजना भी बनाई गई.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

उस रात उन लोगों ने बताया कि उन्होंने उम्मीद छोड़ दी थी.

लेकिन उन्होंने उनके घर के पास हुए एक धमाके से उठे धुएं और धूल की आड़ लेकर आईएस के स्नाइपर को चकमा दे दिया.

अमरीकी नेतृत्व वाली गठबंधन सेना बीते नौ महीनों से इराक़ के दूसरे शहर मोसुल को आईएस से हासिल करने की कोशिश कर रही है.

इराक़ी सेना इस शहर के पूर्वी हिस्से को बीते अक्टूबर महीने में ही जीत चुकी है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इस गठबंधन सेना में इराक़ी सुरक्षा बल, कुर्दिश पेशमर्गा लड़ाके, सुन्नी अरब आदिवासी, शिया लड़ाके, अमरीकी लड़ाकू विमान और सलाहकार शामिल हैं.

कथित चरमपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट ने साल 2014 में मोसुल पर कब्ज़ा करने के बाद अपने कब्ज़े वाले क्षेत्र को ख़लीफ़ा का क्षेत्र घोषित कर दिया था.

इसके बाद से ये हिस्सा इस्लामिक स्टेट के नियंत्रण में है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे