फ्रांस: संसद में इमैनुएल मैक्रों को मिला 'बहुमत'

इमेज कॉपीरइट EPA

फ्रांस के गृह मंत्री का कहना है कि संसदीय चुनावों में मौजूदा राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों की पार्टी ने बहुमत हासिल कर लिया है.

मतों की गिनती का काम लगभग पूरा किया जा चुका है और मैंक्रों की लॉ रिपब्लिक एन मार्श और सहयोगी डेमोक्रेटिक मूवमेंट पार्टी को तीन सौ से अधिक सीटों पर जीत मिली है.

577 सीटों वाली नेशनल असेंबली में ये सुरक्षित आंकड़ा माना जाता है.

इससे पहले मतगणना से पहले आए रुझानों के अनुसार मैक्रों की पार्टी को करीब 60 फीसदी से अधिक सीटें मिलने की उम्मीद जताई जा रही थी.

इमैनुएल मैक्रों की जीत के 5 कारण

नेपोलियन के बाद फ्रांस के सबसे युवा 'प्रशासक' होंगे मैक्रों

इमेज कॉपीरइट EPA

पूर्व इन्वेस्टमेंट बैंकर मध्यमार्गी इमैनुएल मैक्रों इसी साल हुए राष्ट्रपति चुनावों में देश के पहले युवा राष्ट्रपति चुने गए थे.

इसी साल मई में हुए राष्ट्रपति चुनावों में 39 साल के मैक्रों को 66.06 फ़ीसदी वोट मिले थे.

मैक्रों की पार्टी साल भर पहले ही अस्तित्व में आई थी और इसके कई सदस्यों ने पहले किसी सरकारी पद पर काम नहीं किया था.

'दुनिया को फ्रांस की सबसे ज़्यादा ज़रूरत'

फ्रांस: मैक्रों की बीवी का बेटा उनसे दो साल बड़ा है

जानकारों का कहना है कि लोग इस नई पार्टी के बदलाव और परिवर्तन की अपील के पक्ष में अपने वोट डाल रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

संसदीय चुनावों में बहुमत के साथ जीत से मैक्रों अब अपने सुधारवादी कार्यक्रमों को लागू करने की दिशा में पहल कर सकते हैं.

राष्ट्रपति बनने के बाद मैक्रों ने कहा था कि वो विचारों के आधार पर बंटे हुए देश को जोड़ेंगे और चरमपंथ और जलवायु परिवर्तन के ख़तरों का मुकाबला करेंगे.

पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष कैथरीन बार्बाडू ने कहा है कि देश के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के पास अब साफ तौर पर नेशनल असेंबली में बहुमत है और अब फ्रांस के लोगों से इमैनुएल मैक्रों ने जो वायदे किए थे वो उन्हें पूरा कर सकेंगे.

किसे चुनेगा फ्रांस- इमैनुएल मैक्रों या ल पेन?

दिल थामकर देखिए ट्रूडो और मैक्रों की तस्वीरें

इमेज कॉपीरइट AFP

इधर दक्षिणपंथी पार्टी फ्रंट नेशनल की नेता मैरीन ल पेन ने देश की संसद चुनाव में पहली बार जीत हासिल की है.

मैरीन राष्ट्रपति चुनाव में भी उतरी थीं उन्हें मैक्रों के 66.06 फ़ीसदी वोट के मुक़ाबले 33.94 फ़ीसदी वोट मिले.

अपने समर्थकों को संबोधित करते हुए मैरीन ने कहा कि अधिकतर फ्रांसीसी लोग मैक्रों की नीतियों का समर्थन नहीं करते.

उन्होंने कहा, "इमैनुएल मैक्रों की सरकार को नेशनल असेंबली में भारी बहुमत मिला है. लेकिन उन्हें पता होना चाहिए कि देश के अधिकतर लोग उनके विचारों से सहमत नहीं हैं और कोई भी फ्रांसीसी नागरिक ऐसी परियोजना का समर्थन नहीं करेगा जिससे देश कमज़ोर होता हो."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)