उत्तर कोरिया से रिहा हो कर लौटे छात्र की मौत

इमेज कॉपीरइट Reuters

बीते सप्ताह उत्तर कोरिया में 15 महीनों की कैद से रिहा हो कर अमरीका लौटे अमरीकी छात्र 22 वर्षीय आटो वार्मबियर की मौत हो गई है.

वार्मबियर के पिता ने उनकी मौत की पुष्टि की है.

आटो वार्मबियर के परिवार ने एक विज्ञप्ति में कहा कि उनके बेटे की मौत परिवार के सदस्यों के बीच दोपहर 2.20 को हुई.

'मैं उत्तर कोरिया की बात नहीं मानता'

उत्तर कोरिया ने अमरीकी छात्र को गिरफ़्तार किया

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने आटो की मौत पर शोक प्रकट किया है और कहा है कि उत्तर कोरिया एक क्रूर सत्ता है और वहां पर आटो को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा.

उन्होंने कहा, "किसी भी परिवार के लिए कम उम्र में अपने बच्चे को खोने से अधिक दुखदायी कुछ नहीं होता."

ओटो वार्मबियर कोमा में कैसे पहुंचे ये अभी पता नहीं चल पाया है.

कोमा की स्थिति में हुए थे रिहा

इमेज कॉपीरइट AFP

उत्तर कोरिया ने वार्मबियर को कोमा की स्थिति में रिहा किया था. अमरीका पहुंचते ही उन्हें सिनसिनाटी में उनके घर के नज़दीक अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

अस्पताल में उनका इलाज कर रहे डॉक्टरों का कहना है कि उन्हें गंभीर दिमागी चोटें थीं.

उ. कोरिया में एक और अमरीकी पकड़ा गया

उत्तर कोरिया ने अमरीकी छात्र को जेल में डाला

उत्तर कोरिया के अनुसार कि आटो वार्मबियर की हालत के लिए बोट्युलिज़्म और नींद की गोली ज़िम्मेदार है.

हालांकि अमरीकी डॉक्टरों ने इस दलील को मानने से इंकार कर दिया था.

आटो के पिता का आरोप है कि उत्तर कोरिया में उनके बेटे पर जुल्म किए गए हैं जिसके चलते उनकी मौत हो गई.

'उत्तर कोरिया के ज़ुल्मों से गई जान'

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption आटो वार्मबियर के पिता फ्रेड

वार्मबियर परिवार ने विज्ञप्ति में कहा है, "जब जून की 13 तारिख को वार्मबियर घर लौटे तो वो बात करने, देख सकने या किसी के बात सुनने की हालत में नहीं थे. वो सहज नहीं दिख रहे थे और परेशान थे."

उनका कहना है, "घर लौटने के एक दिन बाद उनके चेहरे के भाव बदले और वो शांत थे. मुझे लगता है कि वो महसूस कर पा रहे थे कि वो घर लौट आए हैं."

इससे पहले बीते सप्ताह एक प्रेस वार्ता के दौरान आटो के पिता फ्रेड वार्मबियर ने कहा था कि उन्होंने 15 महीनों तक उनके बेटे के बारे में कोई जानकारी नहीं मिली.

उन्होंने कहा था, "सिर्फ़ एक हफ़्ते पहले उत्तर कोरिया की सरकार ने किया कि आटो वार्मबियर पूरे एक साल से कोमा में थे."

चोरी की सज़ा 15 साल सश्रम कारावास

इमेज कॉपीरइट Reuters

वर्जिनिया विश्वविद्यालय के छात्र वार्मबियर को बीते साल जनवरी में उत्तर कोरिया का दौरा करते समय एक होटल से प्रचार चिन्ह की चोरी करने की कोशिश के लिए गिरफ्तार किया गया था.

उन्हें 15 साल के कठिन कारावास की सज़ा सुनाई गई थी.

उनके दिमाग़ में गंभीर चोटें आने के कारण उन्हें मेडिकल आधार पर उत्तर कोरिया से रिहा किया गया था.

बाद में सरकारी टीवी पर आटो ने कहा था कि एक चर्च समूह ने उनसे यात्रा की निशानी लाने को कहा था. उन्होंने यह भी कहा था कि यह उनकी ज़िंदगी की बड़ी भूल थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)