अब क़तर के ऊंट-भेड़ों पर चला सऊदी अरब का चाबुक

इमेज कॉपीरइट Reuters

क़तर संकट की मार अब पालतू पशुओं पर भी पड़ने वाली है. सऊदी अरब ने क़तर के नागरिकों को आदेश दिया है कि वे अपने ऊंट और भेड़ों को सऊदी अरब की चरागाहों से निकालकर अपने देश ले जाएं.

क़तर के कई नागरिक अपने पशुओँ को सऊदी अरब में रखते हैं क्योंकि इस छोटे से देश में पर्याप्त चरागाह नहीं हैं.

क़तर के अधिकारियों के मुताबिक, करीब 15 हज़ार ऊंट और 10 हज़ार भेड़ें पहले ही सरहद पार करके क़तर पहुंच चुकी हैं.

क़तर में पशुओं के लिए अस्थायी शिविर लगाए गए हैं, जिनमें चारे और पानी का इंतजाम किया गया है.

देखें: क़तर संकट की कहानी

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इसी महीने सऊदी अरब समेत कई खाड़ी देशों ने क़तर पर चरमपंथ को बढ़ावा देने की मदद करते हुए उससे राजनयिक संबंध ख़त्म कर लिए और आवागमन के रास्ते भी बंद कर दिए थे. क़तर ने आरोपों को ख़ारिज़ किया है.

क़तर के नगरपालिका और पर्यावरण मंत्रालय ने कहा है कि जब तक जानवरों के लिए ज़्यादा उपयुक्त इलाकों की व्यवस्था नहीं की जाती, इन अस्थायी शिविरों का संचालन जारी रहेगा.

मंत्रालय ने कहा है कि प्रभावित पशु मालिकों की मदद के लिए पशु विशेषज्ञ, ड्राइवर और दूसरे कर्मचारी पहले से ही वहां मौजूद हैं. क़तर के अधिकारी जसीम क़त्तन ने सोमवार को अल-राया वेबसाइट से कहा था कि 25 हज़ार ऊंट और भेड़ पहले ही क़तर पहुंच चुके हैं.

पढ़ें: क़तर पर नाकेबंदी में ढील दें खाड़ी देश: अमरीका

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हाल के दिनों में सोशल मीडिया पर ऐसे कई वीडियोज़ आए हैं, जिसमें ऊंटों के बड़े झुंड सऊदी अरब की सीमा पार करके आते दिख रहे हैं.

सऊदी अरब के इस नए क़दम से क़तर के पशु मालिक ख़ासे नाराज़ हैं.

40 वर्षीय अली मागारेह ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स से कहा, 'हम बस वहां रहना चाहते हैं, सऊदी अरब जाकर अपने ऊंटों की देखभाल करना चाहते हैं और वापस आकर अपने परिवार की देखभाल करना चाहते हैं.'

उन्होंने कहा, 'हम इन राजनीतिक वजहों में नहीं पड़ना चाहते. हम खुश नहीं हैं.'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे