अमरीका: चीनी एजेंट को गोपनीय जानकारी देने वाला पूर्व अधिकारी गिरफ़्तार

चीन, अमरीका इमेज कॉपीरइट Getty Images

अमरीका के एक पूर्व राजनयिक को एक चीनी एजेंट को गोपनीय दस्तावेज़ देने के आरोप में गिरफ़्तार किया गया है.

एक एफ़िडेविट के मुताबिक, बताया जाता है कि वर्जीनिया के रहने वाले 60 साल के केविन मैलरी इस साल मार्च-अप्रैल में शंघाई गए थे.

समाचार एजेंसी एपी के मुताबिक, वह शिकागो एयरपोर्ट पर उनके पास से दो बैग में मिले 16,500 डॉलर (10.65 लाख रुपये) कैश का स्रोत भी नहीं बता सके.

संघीय जासूसी कानून के तहत उन्हें अपनी ज़िंदगी जेल में गुज़ारनी पड़ सकती है.

पढ़ें: अमरीका ने क्यों दी चीन को नई चेतावनी?

उनके पास उच्च स्तरीय क्लीयरेंस थी

एफ़बीआई ने पुष्टि की है कि जब वह सरकार के लिए काम कर रहे थे तो उन्हें उच्च-स्तरीय क्लीयरेंस दी गई थी.

2012 में जब वह सरकारी कर्मचारी नहीं रहे तो उनकी पहुंच रोक दी गई. इसके बाद वह निजी परामर्शदाता के तौर पर काम करने लगे.

मई में एफ़बीआई एजेंट्स के साथ अपनी मरज़ी से दिए इंटरव्यू में मैलरी ने कहा था कि शंघाई में उनकी चीनी थिंक टैंक शंघाई एकेडमी ऑफ सोशल साइंसेस (एसएएसएस) के लिए काम कर रहे एक शख़्स से मुलाक़ात हुई थी.

पढ़ें: विवादों का इतिहास है अमरीका और चीन

चीनी मंदारिन भाषा जानते हैं मैलरी

अमरीका के न्याय विभाग के मुताबिक, एफ़बीआई 2014 से यह मानती है कि चीन के जासूस अपनी पहचान छिपाने के लिए एस.ए.एस.एस. से अपने जुड़ाव का इस्तेमाल करते हैं.

चीनी मंदारिन भाषा जानने वाले मैलरी गुरुवार को अदालत में पेश किए गए और शुक्रवार को मामले की शुरुआती सुनवाई के दौरान दोबारा पेश किए जाएंगे.

राष्ट्रीय सुरक्षा के मामलों पर सहायक अटॉर्नी जनरल डेना जे बोएंटे ने कहा, 'इससे जनता का भरोसा तोड़ने और देश की सुरक्षा को ख़तरे में डालने के बारे में सोचने वालों को संदेश पहुंच जाना चाहिए.'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे