दुनिया चाहती तो भारत के बाल नोंच लेती...

इमेज कॉपीरइट PMO

अमरीका के वर्जिनिया में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय समुदाय के लोगों को संबोधित किया है. आइए एक नज़र डालते हैं मोदी के संबोधन की ख़ास बातों पर.

1. सर्जिकल स्ट्राइक एक ऐसी घटना थी, अगर दुनिया चाहती तो भारत के बाल नोंच लेती, हमें कटघरे में खड़ा कर देती, विश्व हम से जबाव मांगता, दुनिया में हमारी आलोचना होती, लेकिन पहली बार आपने अनुभव किया होगा भारत के इतने बड़े कदम पर विश्व में किसी ने सवाल नहीं उठाया. जिनकों भुगतना पड़ा उनकी बात अलग है.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption भारत के डायरेक्टर जनरल ऑफ़ मिलिट्री ऑपरेशन्स (डीजीएमओ) लेफ़्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में जानकारी देते हुए.

सर्जिकल स्ट्राइक: दो मुल्क, दो नज़रिए

2. 21वीं सदी का हिंदुस्तान बनाने की दिशा में भारत अनेक आर्थिक क्षेत्रों में उदारतापूर्वक अपनी नीतियों को आगे बढ़ा रहा है. देश सिर्फ रुपयों से ही आगे बढ़ता है, ऐसा नहीं है, उसकी सबसे बड़ी ताकत उसका मानव संसाधन और प्राकृतिक सम्पदा होती है. जो देश जवान हो, उसके सपने भी जवान होते हैं, उसके सामर्थ्य में भी जवानी होती है.

2040 तक अमरीका को पछाड़ देगा भारत

3. भारत को आज़ादी के बाद जितनी मात्रा में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश मिला होगा, उससे आज कहीं अधिक मात्रा में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश भारत में आ रहा है. दुनिया की तमाम क्रेडिट एजेंसियां भारत के सामर्थ्य को स्वीकार करती हैं. विश्व भारत को निवेश के लिए शीर्ष जगहों में देख रहा है.

पीएम मोदी ने मौक़ा गंवा दिया है: द इकनॉमिस्ट

मोदी और ट्रंप की पहली मुलाक़ात में क्या होगा?

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption दुनिया की सबसे बड़ी इंटरनेट कंपनियो में से एक गूगल के मौजूदा सीईओ सुंदर पिचाई भारत में पैदा हुए थे.

4. भारत का बुद्धिधन जो आज विश्वभर में फैला हुआ है, उसे मैं निमंत्रण देता हूं कि आपके पास जो सामर्थ्य जो अनुभव है, जो भारत के काम आ सकता है, जिस देश ने आपको बड़ा बनाया, उस मिट्टी का कर्ज चुकाने के लिए इससे उत्तम अवसर शायद कभी नहीं आएगा.

दुनिया को उज़मा की नज़र से देखें या सुषमा की

5. तीन साल में आपने देखा होगा कि भारत के विदेश मंत्रालय ने मानवता के हिसाब से नई ऊंचाइयों को हासिल किया है. 80 हजार से ज्यादा हिंदुस्तानी, दुनिया के किसी भी देश में कहीं ना कहीं संकट में फंसे तो प्रो-एक्टिव होकर भारत सरकार उन्हें सही-सलामत ले आई. रात के 2 बजे भी दुनिया के किसी भी देश में किसी पीड़ित भारतीय ने ट्वीट किया हो, 15 मिनट में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का जबाव आता है, 24 घंटे में सरकार एक्शन लेती है और परिणाम लाकर रहती है.

इमेज कॉपीरइट PRAKASH SINGH/AFP/GETTY IMAGES
Image caption डॉक्टर उज़मा पाकिस्तान से लौटने के बाद भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे