क़ैदियों का मन बहलाने पहुँचीं 'स्ट्रिपर्स', जाँच के आदेश

इमेज कॉपीरइट DURBAN CRIME N ALL

दक्षिण अफ़्रीका के सन सिटी के नाम से जाने जाने वाले जेल में एक आयोजन के दौरान क़ैदियों के लिए महिला स्ट्रिपर्स बुलाई गईं.

सोशल मीडिया पर आई तस्वीरों में जोहांसबर्ग की एक जेल में कम कपड़े पहनी दो महिलाओं को नारंगी रंग के कपड़े पहने पुरुष क़ैदियों के साथ देख जा सकता है.

सोमवार को जेल अधिकारियों ने तस्वीरों की पुष्टि की.

द. अफ्रीका: महिलाओं के समर्थन में पुरुषों का मार्च

'दरअसल आपकी ब्रा की स्ट्रिप दिख रही है'

मौजूदा कमिश्नर जेम्स स्मॉलबर्गर ने पत्रकारों को बताया कि इस मामले की पूरी जांच की जा रही है. उन्होंने कहा, "शनिवार से सोशल मीडिया में जो तस्वीरें देखने में आ रही हैं उसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा."

उन्होंने कहा कि इस मामले में कुल 13 अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया है और उनके साथ 'नरमी नहीं बरती जाएगी'.

जेल में यूथ मंथ के दौरान 21 जून को एक ख़ास कार्यक्रम का आयोजन किया गया था. क़ैदियों के पुनर्वास में इस कार्यक्रम की अहम भूमिका होती है.

लेकिन अधिकारियों का कहना है इस दौरन महिलाओं की उपस्थिति और उनके कपड़ों ने उन्हें सकते में डाल दिया.

इमेज कॉपीरइट DURBAN CRIME N ALL

गोटेंग जेल के प्रवक्ता ऑफेन्त मोरवाने ने स्थानीय न्यूज़ वेबसाइट टाइम्सलाइव को बताया, "हमने देखा कि जब महिलाएं नाचने के लिए आईं तो उन्होंने अंतर्वस्त्र ही पहने हुए थे. उन्होंने क़ैदियों के सामने स्ट्रिप शो किया."

इन तस्वीरों के सामने आने के बाद लोगों ने कहना शुरू कर दिया कि क़ैदियों की ज़िंदगी बाहर से ज़्य़ादा जेल के अंदर है.

कईयों को इस बात का ग़ुस्सा था कि जेल में इस तरह के आयोजन को अनुमति कैसे दी गई.

क्या संस्कृति को बढ़ावा देते हैं स्ट्रिप क्लब?

दिलचस्प तस्वीरों में सिमटा पूरा अफ्रीका

स्मॉलबर्गर ने पत्रकारों से कहा कि इस आयोजन में सरकारी पैसों का इस्तेमाल नहीं हुआ है और जिन महिलाओं को जेल में बुलाया गया था उनके लिए बाहर से मदद मिली थी.

उन्होंने कहा कि इससे पहले अधिकारियों ने मनोरंजन के एक प्रस्ताव को ख़ारिज कर दिया था.

उनका कहना था, "महिलाओं को क़ैदियों के सामने इस तरह आना मंजूर नहीं है. जेल अधिकारियों को इस आयोजन को होने ही नहीं देना चाहिए था और इसे तुरंत रोका जाना चाहिए था. इस तरह का मनोरंजन हमारी नीतियों के ख़िलाफ़ है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे