चीनी राष्ट्रपति के लिए थी मोदी-ट्रंप की ये केमिस्ट्री?

इमेज कॉपीरइट Reuters

भारतीय प्रधानमंत्री मोदी और अमरीका राष्ट्रपति की मुलाकात हमेशा ही चर्चा का विषय बनी है- चाहे वो मोदी-ओबामा की एक साथ चाय हो या फिर मोदी का ट्रंप से गले मिलना.

इस बार भी मोदी और अमरीकी राष्ट्रपति ट्रंप की पहली मुलाकात सोशल मीडिया और ख़बरों में छाई रही.

नरेंद्र मोदी ने बहुत अच्छा काम किया है: ट्रंप

ट्रंप-मोदी के बयान की पाँच मुख्य बातें

इमेज कॉपीरइट EPA

अमरीकी अख़बारों की बात करे तो न्यूयॉर्क टाइम्स का कहना है कि दोनों 'राष्ट्रवादी नेता' सोशल मीडिया के इस्तेमाल में माहिर हैं और इसके ज़रिए सीधे लोगों से जुड़ते हैं.

अख़बार के अनुसार व्हाइट हाऊस के एक आला अधिकारी के अनुसार मुलाकात के दौरान दोनों नेताओं की आत्मीयता काफ़ी हद कर चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग को दिखाने के लिए थी.

हाल में चीनी राष्ट्रपति उत्तर कोरिया से बात कर उसके बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम पर रोक लगाने की प्रक्रिया को आगे बढ़ाने में असमर्थ रहे थे.

अख़बार के अनुसार मुलाक़ात से पहले ट्रंप सरकार भारत को 22 ड्रोन बेचने के लिए राज़ी हो गई जिनका इस्तेमाल भारत हिंद महासागर में चीन के ख़िलाफ़ चीनी नौसेना की जासूसी करने के लिए कर सकता है.

'गले पड़ने के साथ अब जकड़ने भी लगे हैं मोदी'

ट्रंप मोदी मुलाक़ातः मोदी 8, ट्रंप 0

इमेज कॉपीरइट Getty Images

वॉशिंगटन पोस्ट की बात करें तो वेबसाइअट में छपी एक ख़बर के अनुसार जैसा कि ट्रंप ने कहा वो और मोदी सोशल मीडिया पर बड़े नेता हो सकते हैं लेकिन उनके सामने बैठे दर्जनों पत्रकारों को इससे कोई फायदा होता नहीं दिखाई दिया.

पत्रकारों को मुलाक़ात से पहले ही बता दिया गया था कि कोई भी प्रश्न नहीं लिया जाएगा. हालांकि वेबसाइट के अनुसार साझा प्रेस कॉन्फ्रेस के दौरान पत्रकारों के सवालों के जवाब देना आम बात है.

ख़बर में कहा गया है कि इस दौरान मोदी और ट्रंप के बीच पेरिस जलवायु समझौते को ले कर कोई बातचीत नहीं हुई.

हाल में ट्रंप ने पेरिस जलवायु समझौते से बाहर निकलने का एलान किया था और कहा था कि इस समझौते के तहत अमरीका से उम्मीद की जा रही है कि वो अपने कोयले के खदानों को बंद करेगा लेकिन भारत और चीन पर कोई ऐसी पाबंदी नहीं है.

ट्रंप की टा टा के बाद पेरिस समझौते का क्या ?

पेरिस समझौते से ट्रंप पीछे हटे होंगे ये 5 असर

इमेज कॉपीरइट AFP

ट्रंप के साथ मुलाकात से पहले द वॉल स्ट्रीट जर्नल में मोदी का एक लेख छपा है. इसमें पीएम मोदी ने लिखा कि दोनों देश साइबर तकनीक, स्वास्थ्य और अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में साथ काम करेंगे.

उन्होंने लिखा, "जब भी भारत और अमरीका एक साथ काम करते हैं दुनिया को इससे फायदा होता है."

तस्वीरों मेंः ट्रंप के पंजे से कैसे बचे मोदी

क्या ट्रंप पर चलेगा नरेंद्र मोदी का जादू?

इमेज कॉपीरइट Reuters

यूएसए टूडे ने इस मुलाकात के संबंध में अमरीका और भारत में चार समानताओं के बारे में लिखा. अख़बार के अनुसार (1) दोनों देश दुनिया के बड़े गणतंत्र हैं, (2) दोनों नेताओं को आलोचक मुसलमान विरोधी मानते हैं, (3) अमरीकी तकनीकी कंपनियों में बहुत संख्या में भारतीय काम करते हैं और (4) दोनों ही देश चीन को आर्थिक और सैन्य ताकत के तौर पर एक ख़तरा मानते हैं.

एक और ख़बर में न्यूज़ वेबसाइट ने कहा है कि ट्रंप का कहना है कि खास तौर से कथित इस्लामिक स्टेट के विरोध में लड़ने के लिए दोनों देशों के बीच सैन्य सहयोग को बढ़ावा दिया जाएगा.

दुनिया चाहती तो भारत के बाल नोंच लेती...

मोदी के अमरीकी दौरे से चीन क्यों है ख़ुश?

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के साथ ट्रंप

ब्रितानी अख़बार फाइनेंशियल टाइम्स की वेबसाइट में छपी एक ख़बर के अनुसार ट्रंप नेताओं से हाथ मिलाना पसंद करते हैं ना कि गले मिलना. लेकिन मोदी को 'सच्चा मित्र' कह चुके ट्रंप के लिए उनसे हाथ मिलाना और फिर गले मिलना देखना दिलचस्प रहा.

अख़बार के अनुसार जब मोदी ने ट्रंप को गले लगाया तो जर्मोफोब ट्रंप (कीटाणुओं से डरने वाले ट्रंप) को इसका जवाब गले मिल कर देना पड़ा.

अख़बार का कहना है कि दोनों नेताओं की छोटी सी मुलाकात के दौरान अच्छी केमिस्ट्री देखने को मिली.

क्यों अमरीका और भारत एक दूसरे के लिए हैं ज़रूरी ?

'फ़ायदा न हुआ तो ट्रंप का रुझान भारत से हट भी सकता है'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अमरीका से छपने वाली टाइम मैगज़ीन की वेबसाइट पर छपी एक ख़बर के अनुसार भविष्य में दोनों देशों के रिश्ते तय करने में इस केमिस्ट्री की भूमिका अहम होगी.

दोनों नेता संबंधों में आत्मीयता दिखाना चाहते थे और दो बार गले भी मिले, लेकिन दोनों ने पत्रकारों के सवालों के कोई जवाब नहीं दिए.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अख़बार का कहना है कि अमरीकी विदेश मंत्रालय के हिज़बुल मुजाहिदीन नेता मोहम्मद यूसुफ़ शाह उर्फ़ सैयद सलाहुद्दीन का नाम अंतरराष्ट्रीय आंतकवादियों की सूची में शामिल करना ये बताता है कि अमरीका भारत के साथ काम करना चाहता है.

हालांकि अख़बार ये भी कहता है कि ये क़दम पाकिस्तान के ख़िलाफ़ अमरीका की सख्त नीति का संकेत है या नहीं ये अभी नहीं कहा जा सकता.

'अंतरराष्ट्रीय आंतकवादियों' की सूची में सैयद सलाहुद्दीन

कश्मीर के प्रदर्शनों को जनमत संग्रह मानें: सलाहुद्दीन

ब्रितानी अख़बार इंडिपेंडेट की वेबसाइट में छपी एक ख़बर के अनुसार जानकारों का मानना है कि विश्व नेताओं के साथ ट्रंप की मुलाकात अधिकतर सौदों के इर्दगिर्द होती है. भारत के साथ भी उनकी मुलाक़ात में सैन्य सहयोग और हथियारों के सौदे हुए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)