मुंबई: जेल में महिला क़ैदी की हत्या, 6 महिला पुलिसकर्मियों पर आरोप

इमेज कॉपीरइट Ashwin Aghor
Image caption मंजुला शेट्ये

मुंबई की बाइकला जेल की महिला जेलर और पांच महिला गार्ड्स पर आरोप है कि उन्होंने एक महिला क़ैदी की पीट-पीटकर हत्या कर दी.

38 वर्षीय महिला क़ैदी मंजुला शेट्ये की हत्या के आरोप में पुलिस ने इन छह महिला पुलिसकर्मियों के ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज किया है.

मुंबई पुलिस की प्रवक्ता रश्मि करंदीकर ने स्थानीय पत्रकार अश्विन अघोर से बातचीत में कहा कि मामले की जांच जारी है. उन्होंने कहा, 'छह महिलाओं, जिनमे पांच जेल गार्ड शामिल हैं, के ख़िलाफ़ जांच की जा रही है.'

महिला कैदी मंजुला शेट्ये की हत्या के सिलसिले में अब तक किसी को गिरफ़्तार नहीं किया गया है.

पढ़ें: किसी की हत्या करने में भीड़ क्यों नहीं डरती?

अंडा और ड़ा पाव कम होने पर हुई पिटाई: चश्मदीद

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption प्रतीकात्मक तस्वीर

चश्मदीदों के मुताबिक, बाइकला जेल में मंजुला 23 जून की सुबह क़ैदियों को नाश्ता दे रही थीं. एक अंडा और दो वड़ा पाव कम होने के कारण जेलर ने उन्हें अपने कमरे में बुलाकर पीटा. गवाहों के मुताबिक़, इसके बाद पांच महिला गार्ड्स ने मंजुला को उनके कमरे में ले जाकर पीटना शुरू कर दिया.

ख़ून से लथपथ मंजुला को अस्पताल ले जाया गया लेकिन अगले दिन सुबह उनकी मौत हो गई.

मनोवैज्ञानिक वजहें

महिलाओं की तरफ से एक महिला क़ैदी के ख़िलाफ कथित अत्याचार प्रशासन के लिए चिंता का सबब है. मनोचिकित्सक डॉक्टर नेहा किशनपुरिया इसके कई कारण मानती हैं:

  • पर्सनालिटी डिसऑर्डर इसका एक कारण हो सकता है.
  • माहौल का असर. जेल के अंदर क्रिमिनल माहौल होता है. वहां काम करते-करते उसका असर हो सकता है.
  • काम का बोझ. अकसर जेलों में स्टाफ़ की कमी होती है जिसके कारण काम करने वाले स्टाफ़ पर काम का बोझ बढ़ता है. स्ट्रेस और थकावट का पर्सनैलिटी पर असर होता है.
  • स्टाफ़ को छुट्टी चाहिए ताकि वो नॉर्मल हो सकें. इन्हें आराम की ज़रूरत भी होती है.

पढ़ें: ईद की ख़रीदारी कर ट्रेन से जा रहे नौजवान की हत्या

इंद्राणी मुखर्जी भी हैं इसी जेल में

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK PAGE OF INDRANI MUKHERJEE
Image caption इंद्राणी मुखर्जी

ख़बरों के मुताबिक, पुलिस ने पहले मामला दबाने की कोशिश की और दावा किया कि मंजुला की मौत दिल का दौरा पड़ने से हुई थी.

लेकिन पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट और चश्मदीदों के बयान के बाद पुलिस को हत्या का मुक़दमा दर्ज करना पड़ा. इस कथित हत्या के बाद दूसरी क़ैदियों ने हंगामा किया.

पुलिस ने उनमें से कुछ के ख़िलाफ़ भी हिंसा भड़काने का मामला दर्ज किया है, जिनमें अपनी बेटी शीना बोरा की हत्या के इलज़ाम में जेल में बंद इंद्राणी मुखर्जी भी शामिल हैं.

मंजुला अपनी भाभी की हत्या के कारण उम्रक़ैद की सजा काट रही थीं. उनकी मां भी यही सज़ा काट रही थीं, लेकिन उनकी मौत हो चुकी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे