आख़िरकार नहीं झुका क़तर, जारी रहेंगे प्रतिबंध

इमेज कॉपीरइट Reuters

अरब देशों के बीच अलग-थलग पड़े क़तर पर खाड़ी देशों के प्रतिबंध जारी रहेंगे, सऊदी अरब ने ये जानकारी दी है.

क़तर पर 'आतंकवाद का पोषण' करने का आरोप लगाते हुए खाड़ी देशों ने पिछले महीन उससे राजनयिक संबंध ख़त्म कर लिए थे और फिर उस पर प्रतिबंध भी लगाए थे.

क़तर को इन देशों की कुछ मांगों की सूची सौंपी गई थी जिन्हें मानने से क़तर ने इनकार कर दिया है.

इन मांगों का जवाब देने के लिए क़तर की समयसीमा बुधवार को ख़त्म हो रही थी.

सऊदी अरब, मिस्र, बहरीन और संयुक्त अरब अमीरात के विदेश मंत्रियों की काहिरा में बैठक हुई जिसमें कहा गया कि उन्हें अफ़सोस है कि क़तर ने उनकी मांगों को ठुकरा दिया है.

क़तर का भविष्य तय करने के लिए अहम बैठक

क़तर को 48 घंटे का अल्टीमेटम

सऊदी अरब, मिस्र, बहरीन और संयुक्त अरब अमीरात के विदेश मंत्रियों की काहिरा में बैठक हुई जिसमें कहा गया कि उन्हें अफ़सोस है कि क़तर ने उनकी मांगों को ठुकरा दिया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

इन देशों के अधिकारियों का कहना है कि क़तर स्थिति क गंभीरता को नहीं समझ रहा है.

सऊदी अरब, मिस्र, संयुक्त अरब अमीरात और बहरीन ने क़तर पर जिहादी गुटों की मदद करने के आरोप लगाए हैं.

क़तर: पड़ोसियों की मांगें मानने का मतलब

इन देशों ने क़तर की नीतियों में बदलाव की मांग की थी. क़तर से अल जज़ीरा न्यूज़ चैनल बंद करने और ईरान से संबंध ख़त्म करने समेत कई मांगें रखीं गईं थीं.

खाड़ी देशों के विदेश मंत्रियों की बैठक से पहले क़तर के विदेश मंत्री शेख़ मोहम्मद बिन अब्दुल रहमान अल थानी ने कहा कि क़तर के साथ संबंध ख़त्म करने का अर्थ है क़तर की घेराबदीं जो साफ़ तौर पर अपमान और आक्रामकता का सबूत है.

उन्होंने कहा, "असहमति का जवाब प्रतबिंध और अल्टीमेटम नहीं हो सकता, बल्कि बातचीत और तर्क हो सकता है. "

कब क्या हुआ?

  • 5 जून:सऊदी अरब, मिस्र समेत कई अरब देशों ने क्षेत्र को अस्थिर करने का आरोप लगाते हुए राजनयिक संबंध ख़त्म कर लिए थे. क़तर एयरवेज़ के लिए वायु क्षेत्र भी बंद कर दिया गया था.
  • 8 जून: क़तर ने कहा था कि वो अपनी विदेश नीति की स्वतंत्रता का समर्पण नहीं करेगा, अमरीका ने खाड़ी देशों की एकता की अपील की थी.
  • 23 जून: क़तर को 13 मांगों की सूची थमाई गई थी और इन्हें मानने के लिए 10 दिन का समय दिया गया था. इसमें अल जज़ीरा न्यूज़ चैनल बंद करने, तुर्की का सैन्य अड्डा बंद करने, मुस्लिम ब्रदहुड से संबंध ख़त्म करने और ईरान से राजनयिक रिश्ते तोड़ने की मांग की गई थी.
  • 1 जुलाई: क़तर के विदेश मंत्री ने कहा कि खाड़ी देशों को नहीं मानेंगे लेकिन सही परिस्थितियों में बातचीत के लिए तैयार है.
  • 3 जुलाई : सऊदी अरब और उसके सहयोगियों ने मांगे मानने के लिए क़तर को दिया अल्टीमेटम 48 घंटे बढ़ा दिया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)