अमरीकी विमानों ने दक्षिणी चीन सागर में दिखाया दम

इमेज कॉपीरइट Twitter/@PACAF

अमरीका के दो लड़ाकू विमानों ने विवादित चीन सागर के पूर्वी हिस्से में उड़ान भरी है.

अमरीकी वायु सेना ने एक बयान जारी कर कहा है कि जापान के साथ संयुक्त सैन्य अभ्यास में अमरीकी लड़ाकू विमानों बी-1बी लांसर्स ने उड़ान भरी.

इसके बाद इन लड़ाकू विमानों ने दक्षिणी चीन सागर के ऊपर से भी उड़ान भरी.

उत्तर कोरिया पर दबाव की कोशिश

मंगलवार को, उत्तर कोरिया ने लंबी दूरी की मिसाइल का परीक्षण किया था और कहा जा रहा है कि ये मिसाइल अमरीका के अलास्का को निशाने पर ले सकती है.

नज़रिया: दसों दिशाओं से चुनौती झेल रहा है चीन

भारत से ताज़ा विवाद पर चीन की क्या है दलील

इमेज कॉपीरइट AFP

अमरीकी वायुसेना ने बयान में कहा है कि यह हमारे सहयोगियों के साथ ऑपरेशंस के संचालन करने की क्षमता को साफ तौर पर दर्शाता है.

जापान के साथ सैन्य युद्धाभ्यास ये दिखाता है कि प्रशांत महासागर में जापान और अमरीका मिलकर किसी भी उकसाने या अस्थिर करने वाली कार्रवाई से निपट सकते हैं.

उत्तर कोरिया के परमाणु परीक्षण के जवाब में अमरीका भी दक्षिण कोरियाई सागर में संयुक्त बैलेस्टिक मिसाइल अभ्यास कर रहा है.

भारत और चीन के बीच तनातनी की वजह क्या है?

इमेज कॉपीरइट AFP

उधर, दक्षिणी चीन सागर पर दावेदारी को लेकर तनाव लगातार बढ़ता जा रहा है. इस इलाके पर चीन के पड़ोसी देश ब्रूनेई, मलेशिया, फिलीपींस, ताइवान और वियतनाम भी अपना दावा करते आए हैं.

दक्षिणी चीन सागर के रास्ते हर साल करीब अरबों डॉलर का व्यापार होता है. माना जाता है कि इसी कारण चीन इस इलाके में अपना दबदबा चाहता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)