साइबेरियाई टाइगर को सेल्फ़ी लेते देखा है?

साइबेरियाई टाइगर इमेज कॉपीरइट LAND OF THE LEOPARD NATIONAL PARK

रूस के 'लैंड ऑफ द लेपर्ड' नेशनल पार्क ने साइबेरियाई टाइगर की दिलचस्प तस्वीरें जारी की हैं.

इन तस्वीरों में इन बाघों का परिवार खेलते और कैमरे के लिए पोज़ करता हुआ-सा दिखाई दे रहा है.

2 लाख 60 हज़ार हेक्टेयर में पसरे पार्क में अंदाज़न 22 वयस्क साइबेरियाई टाइगर और सात शावक हैं.

एक समय ये प्रजाति शिकार की वजह से विलुप्त होने की कगार पर पहुंच गई थी, लेकिन उनकी संख्या अब सुधर रही है.

इमेज कॉपीरइट LAND OF THE LEOPARD NATIONAL PARK

'पारिवारिक जीवन'

'लैंड ऑफ द लेपर्ड' के मुताबिक, ज़मीन के स्तर पर लगे ऑटोमैटिक कैमरे से ये तस्वीरें ली गई हैं और पहली बार इस तरह से साइबेरियाई बाघ के पारिवारिक जीवन को रिकॉर्ड किया गया है.

'द साइबेरियन टाइम्स' के मुताबिक, ये कैमरे बाघों और ऐसे दूसरे विलुप्तप्राय: तेंदुओं की निगरानी के लिए लगाए गए थे.

वीडियो और तस्वीरों में शावकों को ज़मीन पर लौटते देखा जा सकता है.

पढ़ें: उस शिकार के बाद चीते नहीं दिखे भारत में

इमेज कॉपीरइट LAND OF THE LEOPARD NATIONAL PARK

कैमरे में ताक-झांक

इन शावकों की मां की तस्वीर पहले भी सामने आ चुकी है और उसे वैज्ञानिक टी7एफ नाम से जानते हैं. 2014 में उसकी तीन शावको के साथ तस्वीर सामने आई थी. माना जाता है कि इनमें से दो अब बड़े हो गए हैं और साइबेरिया से पड़ोस के चीन चले गए हैं.

एक और तस्वीर में एक शावक कैमरा की ओर बढ़ते और फिर उसमें झांकते हुए दिखता है. इसकी वजह से कैमरे का मेमरी कार्ड भी बाहर आ जाता है और वीडियो कट जाता है.

यह नेशनल पार्क रूस के प्रिमोर्स्की क्राई प्रांत के दक्षिण-पश्चिम हिस्से में है.

देखें: शेर को गर्मी लगे तो वो कहां जाएं?

इमेज कॉपीरइट LAND OF THE LEOPARD NATIONAL PARK

साइबेरियाई टाइगर

  • इसे अमुर टाइगर भी कहते हैं और इसका प्राकृतिक घर रूस में है.
  • वे विलुप्तप्राय: हैं और रूस में उनके शिकार पर पूरी तरह प्रतिबंध है. वहां कम सुविधाओं और कम वेतन के मारे रेंजर्स उन्हें शिकारियों से बचाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं.
  • 1930 के दशक में जब वे विलुप्त होने के कगार पर थे, उनकी संख्या घटकर 20 से 30 के बीच हो गई थी.
  • आज एक अंदाज़े के मुताबिक, साइबेरिया में 600 साइबेरियाई चीते हैं.

स्रोत: डब्ल्यूडब्ल्यूएफ

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे