वुसत का ब्लॉगः पप्पू सत्ता के परचे में पास होगा या फेल!

इमेज कॉपीरइट Getty Images

आपके यहां इन दिनों जीएसटी को लेकर जितनी हाहाकार मची पड़ी है उससे दस गुना उधम हमारे पाकिस्तान में जेआईटी यानी ज्वाइंट इनवेस्टिगेशन टीम को लेकर मचा पड़ा है

जीएसटी तो मोदी सरकार ने लागू किया मगर पाकिस्तान में जेआईटी सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री और उनके परिवार पर लागू कर दी.

आपके यहां व्यापारी जीएसटी को अन्याय और मोदी सरकार न्याय जता रही है और हमारे यहां जेआईटी को शरीफ़ सरकार अन्याय और जनता न्याय समझ रही है.

पल्ले से रकम कोई भी नहीं ढीली करना चाहता. न भारत में जीएसटी का मारा व्यापारी और न पाकिस्तान में जेआईटी का मारा हुक्मरान व्यापारी परिवार.

सुप्रीम कोर्ट के पांच में से दो जजों ने कहा प्रधानमंत्री ने पनामा केस में अपने परिवार के बारे में मालूमात या तो छुपाई या फिर आधा सच बोला.

इसलिए पप्पू सत्ता के परचे में फेल है.

पनामा: फ़ैसला जो नवाज़ शरीफ का राजनीतिक भविष्य तय करेगा

'जब से भारत में मोदी और अमरीका में ट्रंप आए हैं...'

इमेज कॉपीरइट AFP

पास या फेल

मगर तीन जजों ने कहा, हो सकता है पप्पू फेल हो लेकिन वायवा यानी ज़बानी इम्तिहान लेने में कोई हर्ज़ नहीं.

अगर वायवा क्लीयर कर लिया तो पप्पू पास वरना फेल.

और ये वायवा लेगी ज्वाइंट इनवेस्टिगेशन टीम जिसमें आईएसआई, मिलेट्री इंटेलिजेंस, स्टेट बैंक सिक्यूरिटी एंड एक्सचेंज कमीशन, फेडरल बोर्ड ऑफ रेवेन्यू और फेडरल इनवेस्टिगेशन एजेंसी एफआईए, इनका एक-एक एक्ज़ामनर बैठेगा.

पप्पू ने कहा मुझे कोई आपत्ति नहीं.

मैं सुप्रीम कोर्ट की बनाई जेआईटी को वायवा देने को तैयार हूं मगर मुझसे अगर आउट ऑफ सिलेबस सवालात पूछे गए तो उनका जवाब नहीं दूंगा.

इमेज कॉपीरइट AFP

सवाल

लेकिन जेआईटी पर चूंकि सुप्रीम कोर्ट का हाथ है इसलिए पप्पू से हर तरह का सवाल पूछा गया.

जबकि पप्पू ने सिर्फ पांच सवालों के जवाब का रट्टा लगाया हुआ था.

और फिर फड्डा शुरू हो गया. और पप्पू ने जेआईटी पर अविश्वास जता दिया.

आज जेआईटी अपनी रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को पेश करेगी और सुप्रीम कोर्ट वायवा में पप्पू की प्रोग्रेस का जायजा लेकर फ़ैसला करेगी कि पप्पू सत्ता के परचे में पास है या फेल.

अकबर के ज़माने में प्राइवेट टीवी चैनल होते तो?

तो जाधव मामले में भारत का पलड़ा इसलिए भारी रहा!

इमेज कॉपीरइट Getty Images

आपके यहां तो भले लालू जी हों कि स्वर्गवासी जयललिता, जेल की लॉन्ड्री में कपड़े धुल-धुला के दोबारा पहनने का इंतज़ाम है.

मगर हमारे यहां फाइव स्टार नेताओं को जेल भेजने का फ़ैशन बहुत पहले ही आउट ऑफ फ़ैशन हो गया.

आखिरी क़ैदी आसिफ अली ज़रदारी थे जो दो दस वर्ष जेल में रहे पर उन पर एक भी आरोप साबित न हो सका.

अब अगर नवाज़ शरीफ़ पर लगे आरोप सच साबित हो जाते हैं तो ज़्यादा से ज़्यादा ये होगा कि वो पांच वर्ष चुनाव नहीं लड़ पाएंगे.

लेकिन इससे कोई ख़ास फर्क़ नहीं पड़ने वाला.

इमेज कॉपीरइट Twitter

बैटिंग लाइन

नवाज़ शरीफ परिवार की भी बैटिंग लाइन भी इंडियन क्रिकेट टीम की तरह सात बल्लेबाज़ों तक जाती है.

आपने अमिताभ बच्चन की फिल्म सरकार तो देखी होगी. हमारे सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों ने भी शायद देखी है.

तभी तो पनामा केस का फ़ैसला बालजाक की इस लाइन से शुरू होता है हर बड़ी पूंजी के पीछे जुर्म छुपा हुआ है.

और जब यही पूंजी राजनीति के साथ सात फेरे लेले तो लोकतंत्र कपड़े फाड़ के जंगल की ओर निकल पड़ता है.

मगर जंगल में भी लोकतंत्र को क्या मिलेगा? वहां भी तो जंगल का क़ानून है.

दुनिया को उज़मा की नज़र से देखें या सुषमा की

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे