जब पति शॉपिंग कराने में दिलचस्पी ना ले तो...

हसबैंड स्टोरेज में पतियां खेल रहे हैं बचपन के गेम्स इमेज कॉपीरइट THE PAPER
Image caption हसबैंड स्टोरेज में पतियां खेल रहे हैं बचपन के गेम्स

मॉल में पत्नी के साथ ख़रीदारी करने के लिए अब पति को अनमने मन से जाने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी. चीन ने एक ऐसी सुविधा की शुरुआत की है जिसमें पत्नियां अपने पतियों को छोड़ कर मॉल के भीतर ख़रीदारी करने जा सकेंगी.

शीशे से बने इस केबिन को मॉल ने 'हसबेंड स्टोरेज' के तौर पर बनाया है, यहां पत्नियां अपने पतियों को रख कर घंटों तक मज़े में खरीदारी करने का लुत्फ़ उठा सकती हैं.

चीन के अखबार 'द पेपर' के मुताबिक़ संघाई के ग्लोबल हार्बर मॉल में 'हसबैंड स्टोरेज' की सेवा शुरू की है.

दुनिया की सबसे ताकतवर महिला के पति कौन हैं?

ब्लॉग: मैंने कितनी बार अपने पति को नहीं पीटा

पति जी रहे हैं अपना बचपन

पतियों के लिए बनाए गए इस शीशे के केबिन में कुर्सी, कंप्यूटर, गेम पैड, जहां वो अपने बचपन का वीडियो गेम खेल सकते हैं.

ये वीडियो गेम 1990 के दशक के हैं. वे यहां घंटों बैठ कर अपने बचपन को जी सकते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption पतियों ने नई सुविधा का किया है स्वागत

अख़बार के अनुसार फिलहाल यह सुविधा मुफ़्त में मौज़ूद है. भविष्य में इसकी लोकप्रियता के आधार पर शुल्क का निर्धारण किया जाएगा.

तब इसे इस्तेमाल करने वाले को अपने मोबाइल फ़ोन से एक क्यूआर कोड स्कैन करने के साथ ही एक छोटी सी रक़म का भुगतान करना होगा.

नई सुविधा की ख़ुशी

द पपेर से अपने अनुभव साझा करते हुए एक पति ने कहा, "यह बेहद सुंदर आइडिया है."

यांग नामक इस व्यक्ति ने कहा, "मजा आ गया... यह किसी सुंदर अनुभव से कम नहीं था. ऐसा लगा कि हम स्कूली दिनों को जी रहे हैं"

वहीं, वू ने बनाए गये हसबेंड स्टोरेज को छोटा बताया. उन्होंने कहा, "केबिन बहुत ही छोटा है. थोड़ी देर में ही सांसे फूलने लगीं. पांच मिनट गेम खेला ही था कि मैं पसीने से भीग गया."

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption हसबेंड स्टोरेज में सुविधाएं बढ़ाने की मांग कर रहे पति

सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय

चीन की सोशल मीडिया पर हसबेंड स्टोरेज चर्चा का विषय बना हुआ है. लोग अपनी अपनी प्रतिक्रिया सोशल साइट्स पर पोस्ट कर रहे हैं.

लोग हसबेंड केबिन को थोड़ा चौड़ा बनाने की मांग कर रहे हैं.

सोशल मीडिया पर एक यूज़र ने लिखा है, "इन पतियों को इन्सेन्टिव मिलना चाहिए. वे शॉपिंग को बढ़ावा देने में मदद कर रहे हैं"

जबकि कुछ महिलाएं इस फ़ैसले से ख़ुश नहीं हैं. एक महिला लिखती हैं, "अगर पति गेम ही खेलते रहेंगे तो उन्हें फिर साथ ले जाने का क्या फ़ायदा. मैं चाहती हूं कि पति हमारे कामों में रूचि लें"

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)