उरुग्वे: यहां मौज मस्ती के लिए बिक रहा है गांजा

गांजे की बिक्री इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption गांजा खरीदने के लिए रजिस्ट्रेशन कराते लोग

मौज-मस्ती के लिए गांजे की क़ानूनी तौर पर बिक्री करने वाला उरुग्वे दुनिया का पहला देश बन गया है.

बुधवार को उरुग्वे में 16 फ़ार्मेसीज़ ने गांजे की बिक्री शुरू कर दी है.

नेशनल रजिस्ट्री में तकरीबन पांच हज़ार लोगों ने क़ानूनी तरीके से गांजा खरीदने के लिए अपना नाम दर्ज करवाया.

अपना नाम रजिस्टर्ड कराने वाले लोगों को हफ्ते में 10 ग्राम तक गांजा खरीदने की इजाज़त दी गई है, लेकिन वे महीने में 40 ग्राम से ज्यादा गांजा नहीं खरीद सकेंगे.

देश में गांजे के कारोबार को मंजूरी देने वाले क़ानून के वजूद में आने के चार साल बाद सरकार ने ये कदम उठाया है.

12 साल बाद 'गांजा क्वीन' अपने देश लौटी

गांजे के धंधे में अब माइक्रोसॉफ्ट भी

अमरीका में आ गई 'गांजा क्रांति'!

इमेज कॉपीरइट MARTIN BERNETTI/AFP/Getty Images

क़ानूनी इजाजत

इस क़ानून के समर्थकों का कहना है कि ताजा कदम से गांजे के अवैध कारोबार पर लगाम लगेगी और नशे के सौदागरों का धंधा बंद हो जाएगा.

ग्राहकों के चुनने के लिए दो तरह का गांजा होगा. इसे अल्फा वन और बीटा वन का नाम दिया गया है.

पांच ग्राम गांजे की कीमत पांच पाउंड यानी भारतीय रुपये में तकरीबन 420 रुपये तय की गई है.

फ़ार्मेसीज़ पर बिकने वाले गांजे की आपूर्ति सरकार की निगरानी वाले खेतों से की जाएगी.

नए कानून के तहत लोगों को गांजे के निजी इस्तेमाल के लिए घर पर खुद इसे उगाने की इजाजत दी गई है.

बिहार: शराबबंदी के कारण बढ़ी गांजे की खपत

'गांजा से डर काहे का'

ये लोग 'गांजा क्रांति' होते देखना चाहते हैं

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)