द. कोरिया के शांति प्रस्ताव को 'मूर्खता' बताया

किम जोंग-उन इमेज कॉपीरइट Getty Images

दक्षिण कोरिया की ओर से शांति वार्ता का प्रस्ताव भेजे जाने को उत्तर कोरिया के मुख्य अख़बार ने मूर्खतापूर्ण करार दिया है.

अख़बार के संपादकीय में दक्षिण कोरिया के कदम की निंदा करते हुए लिखा गया कि एक तरफ तो वह उत्तर कोरिया से शांति की बात कर रहा है जबकि दूसरी तरफ उसके ख़िलाफ नीतियां भी बना रहा है.

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन ने क़रीब तीन साल से सीमा पर चल रही तनातनी के बीच पहली बार उत्तर कोरिया से सीधी बातचीत की पहल की है.

इसके साथ ही दक्षिण कोरिया ने यह भी कहा कि वह उत्तर कोरिया की ओर से किसी भी तरह के उकसावे वाली कार्रवाई पर भी नज़र रख रहा है.

हाल ही में ऐसी रिपोर्ट्स आई हैं जिनमें कहा जा रहा है कि उत्तर कोरिया एक और लंबी या मध्यम दूरी की मिसाइल के टेस्ट की तैयारी में जुटा है.

इसी साल मई महीने में कार्यभार संभालने के बाद राष्ट्रपति मून ने उत्तर कोरिया से बातचीत की पहल शुरू की थी. बर्लिन में अपने भाषण में मून ने कहा कहा कि वे सीमा पर शांति के लिए किम-जोंग-उन से मिलने को तैयार हैं.

ट्रंप ने उ. कोरिया को चेतावनी दी, 'सब्र टूट चुका है'

उत्तर कोरिया का ICBM मिसाइल परीक्षण का दावा

इमेज कॉपीरइट Reuters

ट्रंप ने भी दी चेतावनी

इसी महीने जर्मनी में हुए जी20 सम्मेलन में अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग से कहा था कि उत्तर कोरिया पर कुछ किया जाना चाहिए.

इस पर चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने कहा कि वह कोरिया प्रायद्वीप को परमाणु हथियारों से मुक्त करने का समर्थन करते हैं.

इसके पहले ट्रंप ने दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति के साथ बातचीत के बाद उत्तर कोरिया को सुधर जाने की चेतावनी दी थी.

ट्रंप ने अपने बयान में कहा था कि 'उत्तर कोरिया को जल्द रास्ते पर आ जाना चाहिए'. उन्होंने दक्षिण कोरिया के साथ मिलकर उत्तर कोरिया का मुक़ाबला करने की बात कही थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे