पूर्वी यरुशलम में पवित्र स्थल के पास तनाव बढ़ा

इसरायली बलों ने प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption इसराइली बलों ने प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया.

फ़लस्तीनी अधिकारियों का कहना है कि पूर्वी यरुशलम और कब्ज़े वाले पश्चिमी किनारे पर इसराइली सुरक्षाबलों के साथ झड़पों के दौरान तीन फ़लस्तीनी मारे गए हैं.

हिंसा में सैकड़ों लोग घायल भी हुए हैं. फ़लस्तीनी धड़े पवित्र स्थल पर सुरक्षा के नए इंतज़ामों का विरोध कर रहे हैं.

तनाव तब से जारी है जब बीते शुक्रवार को तीन इसराइली अरब बंदूकधारियों ने दो इसराइली पुलिस अधिकारियों की गोली मारकर हत्या कर दी थी.

इस घटना के बाद पुलिस की कार्रवाई में हमलावर भी मारे गए थे.

हमले की ये घटना पवित्र स्थल के नज़दीक हुई थी जिसे मुसलमान हरम अल शरीफ़ जबकि यहूदी टेंपल माउंट कहते हैं.

सुरक्षा के इंतज़ाम

इमेज कॉपीरइट Reuters

घटना के बाद शुक्रवार की सुबह पवित्र स्थल के आसपास हज़ारों पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया था.

लेकिन पुलिस का कहना है कि फ़लस्तीनियों ने उन पर पथराव किया जिसके जवाब में उन्होंने आंसू गैस के गोले दागे.

फ़लस्तीनी स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, हिंसा के दौरान गोली लगने से 17 साल का एक फ़लस्तीनी मारा गया है.

पूर्वी यरुशलम में हुई झड़पों में गंभीर रूप से घायल हुए एक अन्य व्यक्ति ने भी दम तोड़ दिया है.

तना बरकरार

इमेज कॉपीरइट AFP

फ़लस्तीनी स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, तीसरा व्यक्ति पश्चिमी किनारे पर हुई झड़पों के दौरान गोली लगने से मारा गया है.

रमल्ला और यरुशलम के बीच चेक-पोस्ट पर भी झड़पें हुई हैं. इसराइली पुलिस के एक प्रवक्ता के मुताबिक झड़पों में चार पुलिसकर्मी घायल हुए हैं.

पूर्वी यरुशलम में जहां झड़पें हुई हैं, वो इलाका साल 1967 के मिडिल ईस्ट वॉर के समय से ही इसराइल के कब्ज़े में है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)