नाकाबंदी के बाद पहली बार बोले क़तर के अमीर

इमेज कॉपीरइट AFP GETTY

क़तर के अमीर ने खाड़ी के चार पड़ोसी देशों के साथ विवादों को बातचीत से निपटाने का आह्वान किया है.

सऊदी अरब, मिस्र, बहरीन और संयुक्त अरब अमीरात की ओर से आर्थिक नाकाबंदी के बाद क़तर के अमीर तमीम बिन हमद अल थानी का ये पहला बयान है.

क़तर संकट: सऊदी और उसके साथी क्यों पड़े नरम?

क़तर पर उल्टा पड़ रहा है सऊदी अरब का दांव

लंदन में क़तर के पास महारानी से भी ज़्यादा ज़मीन

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान

क़तर के इन चार पड़ोसी देशों ने उस पर चरमपंथी समूहों का समर्थन करने का आरोप लगाया था और इसी बुनियाद पर संबंध तोड़ लिए थे.

क़तर के अमीर ने कहा कि उसकी घेराबंदी के बाद भी जनजीवन पहले की तरह चल रहा है.

उन्होंने ये भी कहा कि क़तर किसी बाहरी दबाव की वजह से चरमपंथ से नहीं लड़ रहा है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इससे पहले, अमरीकी विदेश मंत्री रैक्स टिलरसन ने कहा था कि जिहादी समूहों को आर्थिक मदद रोकने के समझौते को लागू करने के लिए क़तर से प्रयासों से अमरीका संतुष्ट है.

अमरीका ने खाड़ी देशों से भी कहा था कि वे क़तर के बहिष्कार में थोड़ी ढील दें.

क़तर पर नाकेबंदी में ढील दें खाड़ी देश: अमरीका

टिलरसन ने ये भी कहा था कि नाकेबंदी से लोगों को परेशानी हो रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे