डोनल्ड ट्रंप- व्लादिमिर पुतिन के बीच 'गोद लेने' पर ही क्यों हुई चर्चा?

एडॉप्शन मीटिंग इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption जी-20 सम्मेलन के दौरान पुतिन और ट्रंप के बीच हुई दो बैठकें

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन के बीच जी-20 सम्मेलन के दौरान हुई बैठक में किस विषय पर चर्चा हुई, यह जानने की लगातार कोशिशें की जा रही हैं.

हाल ही में न्यूयॉर्क टाइम्स को दिए एक इंटरव्यू में ट्रंप ने कहा कि पुतिन और उनके बीच चर्चा का विषय एडॉप्शन (गोद लेना) था.

एडॉप्शन मुद्दे के एक बार फिर सामने आने से विवादों का पुराना सिलसिला शुरू होता दिख रहा है.

पहले भी उठ चुका है यह विषय

पिछले साल राष्ट्रपति चुनावों के दौरान जून 2016 में ट्रंप के बेटे डोनल्ड ट्रंप जूनियर, उनके दामाद जैरेड कशनर और उस समय ट्रंप के कैम्पेन मैनेजर रहे पॉल मैनफोर्ट ने कुछ वकीलों के प्रतिनिधिमंडल के साथ 'मैग्निटस्की एक्ट' को ख़त्म करने के लिए चर्चा की थी.

इमेज कॉपीरइट Reuters

उस समय यह बैठक काफ़ी विवादों में रही थी. ट्रंप के बेटे ने उस बैठक को एडॉप्शन मुद्दे पर हुई बैठक बताया था.

आज लगभग ठीक डेढ़ साल बाद ट्रंप ने जब पुतिन के साथ बैठक की तो उन्होंने भी इसे एडॉप्शन पर हुई बैठक करार दिया है.

मौजूदा समय में अमरीका और रूस के बीच जिस तरह के संबंध हैं, उसमें यह समझना कि ये दोनों विश्व शक्तियां किस 'एडॉप्शन' पर बात कर रहे हैं, थोड़ा मुश्किल जान पड़ता है.

पुतिन से गोपनीय मुलाक़ात की ख़बर फ़र्ज़ी है: डोनल्ड ट्रंप

पुतिन का साथ 'बहुत अच्छा': डोनल्ड ट्रंप

प्रतिबंधों पर चर्चा

दरअसल, दोनों देशों के बीच यह चर्चा मैग्निटस्की अधिनियम पर हुई है. अमरीकी कांग्रेस द्वारा पास हुए इस एक्ट के ज़रिए रूसी अधिकारियों पर कई प्रतिबंध लगाए गए थे.

सरकारी गवाह और आलोचक सर्गेई मैग्निटस्की की रूसी जेल में संदिग्ध हालात में हुई मौत के बाद यह बिल साल 2012 में अमरीकी संसद में पास हुआ था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इस अधिनियम के ज़रिए अमरीका ने रूस पर वीज़ा प्रतिबंध लगाने के साथ-साथ उसके 18 वरिष्ठ अधिकारियों पर मानवाधिकार क़ानूनों का उल्लंघन करने का आरोप लगाते हुए उनकी संपत्तियां जब्त कर ली थीं.

उस समय पुतिन ने इसे राजनीतिक और शत्रुता से भरा हुआ क़दम बताया था.

मैग्निटस्की एक्ट के जवाब में रूस ने दीमा येकोलेव एक्ट लागू कर दिया था. इस एक्ट के जरिए अमरीकी नागरिक रूस के अनाथ बच्चों को गोद नहीं ले सकते थे.

इसके बाद से ही एडॉप्शन का मुद्दा इन दोनों देशों के बीच चर्चा में आया.

इमेज कॉपीरइट AFP

जी-20 सम्मेलन में 18 अन्य राष्ट्राध्यक्षों के बीच ट्रंप और पुतिन इस विषय पर चर्चा करते देखे गए. दावा किया जा रहा है कि दोनों ही देश मैग्निटस्की और येकोलेव एक्ट को ख़त्म करने पर विचार कर रहे हैं.

राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा है कि यह पहली बार नहीं है जब वे पुतिन के साथ इन अधिनियमों को ख़त्म करने पर चर्चा कर रहे हैं. यह चर्चा उनके बेटे की इस मुद्दे पर हुई पूर्व बैठक का ही हिस्सा थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे