वुसत का ब्लॉग: 'रेलवे का बासी खाना एंटी-बैक्टीरियल होता है'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारतीय रेलवे के 80 ट्रेनों और 74 रेलवे स्टेशनों पर किए गए एक सर्वे की रिपोर्ट से पता चला है कि रेल यात्रियों को जो खाना मिलता है वो अक्सर पुराना और बासी होता है.

लिहाज़ा ये खाना मुसाफ़िरों की सेहत के लिए हानिकारक है.

ऐसी फिज़ूल रिपोर्टों से बिल्कुल डरना नहीं चाहिए- न खाना पकाने वालों को, न खाना खाने वालों को.

लगातार अच्छा खाना शरीर को हानिकारक कीटाणुओं से लड़ने के काबिल नहीं रहने देता.

भोजन जितना बासी या सड़ा हुआ होगा, उतना ही एंटीबायोटिक होगा.

खाने लायक नहीं है भारतीय रेलवे का खाना

खाना परोसने में देरी पर कर दी पत्नी की हत्या

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अब आप यही देखिए कि लगभग 90 वर्ष पहले एक स्कॉटिश डॉक्टर एलैक्ज़ेन्डर फ्लेमिंग अगर अपनी लेबोरेटरी में डबल रोटी का छोटा सा टुकड़ा ना भूल जाते और इस टुकड़े पर कुछ दिनों में फफूंद न लग जाती, और इस फफूंद से आसपास के बैक्टीरिया मरने न शुरू हो जाते- तो डॉक्टर फ्लेमिंग को इस फफूंद से पेन्सिलिन बनाने के ख़्याल न आता.

और फिर पेन्सिलिन से एंटीबायोटिक का इंकलाब न आता और करोड़ो लोग आज भी सौ वर्ष पहले की तरह मामूली नज़ले ज़ुकाम से मरते रहते.

साबित क्या हुआ?

साबित ये हुआ कि बासी या फफूंद लगा खाना एंटीबायोटिक होने के कारण उसे भगवान का प्रसाद समझिए.

खाना, पानी, इंटरनेट भी नहीं...कैसे करेंगे रिपोर्टिंग!

इफ़्तार का खाना खाकर सैकड़ों बीमार

इमेज कॉपीरइट AFP

अब आप यही देखिए कि जब यूरोप और अमरीका से एनआरआई या एनआरपी दिल्ली या लाहौर आते हैं तो कुछ पीते या खाते ही पेट पकड़ कर शौचालय की ओर दौड़ते हैं.

मगर हम लोग यहां इंडिया पाकिस्तान में रहते हुए कुछ भी खा-पी लें हमारा पेट कोई नखरा ही नहीं करता- लक्कड़ हज़म, पत्थर हज़म.

आर्मी राशन ने बदला आपका खाना

106 साल की दादी का खाना यूट्यूब पर हिट!

खाना एंटीबायोटिक बनाने के लिए बासी करने या सड़ाने की भी ज़रूरत नहीं, ताज़ा खाने को कीटाणु दुश्मन बनाया जा सकता है.

इंतजाम

कभी आपने सोचा कि यूरोप और अमरीका में किसी भी रेस्टोरेंट में किचन पिछले हिस्से में क्यों होता है मगर हमारे यहां जितने भी रेस्टोरेंट और ढाबे हैं उनमें किचन सड़क की तरफ होता है और बैठने का इंतजाम पीछे की तरफ.

क्योंकि हम सबका मानना है कि सड़क से उज़ने वाली जितनी मिट्टी और जानवरों की लीद वगैरह पके हुए खाने पे पड़ेगी वो खाना उतना ही एंटीबायोटिक होगा. और उस खाने से हमारा शरीर एक बार बीमार होने के बाद बार-बार बीमार नहीं होगा.

इस वक्त बाज़ार में जितना बोतलबंद पानी बिक रहा है, घी और खाने के तेल का जो-जो ब्रैंड है, सड़क के किनारे या दफ्तर की कैंटीन या रेलवे की डाइनिंग कार या हॉस्टल की कैंटीन में जो-जो पक रहे है उनमें से अक्सर के बारे में हमारी साइंटिफिक संस्थाएं और सर्वे करने वाले कितनी आसानी से मुंह उठा कर कह देते हैं कि ये इंसानों के इस्तेमाल के लिए ठीक नहीं.

अगर ऐसा ही होता तो बताइए इंडिया की जनसंख्या पिछले 70 वर्ष में चासील करोड़ से एक अरब तीस करोड़ और पाकिस्तान की आबादी साढ़े तीन करोड़ से बीस करोड़ तक कैसे पहुंचती.

जापान की आबादी आख़िर क्यों नहीं बढ़ती?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

जब मैं पहली बात दिल्ली यात्रा को आया तो मैंने एक खटारा ट्रक देखा जिससे काला धुंआ निकल रहा था और उसके पीछे लिखा था- ये तो ऐसे ही चलेगा.

मेरा भी मानना है कि खाओ पीओ और कोई चिंता न करो. अगर कुछ हानिकारक है तो वे लोग जो हमारे खानपान को सेहत दुश्मन बताते रहते हैं.

जो करना है कर लो- ये तो ऐसे ही चलेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे