तेल घाटा पाटने के लिए सऊदी अरब लाया 'सुकुक'

सऊदी अरब की मुद्रा रियाल इमेज कॉपीरइट FAYEZ NURELDINE/AFP/Getty Images

सऊदी अरब ने इस्लामिक बॉन्ड जारी करके निवेशकों से 17 अरब रियाल जुटाए हैं. भारतीय मुद्रा में ये रकम 29 हज़ार करोड़ रुपये के करीब होती है.

सऊदी अरब की सरकारी समाचार एजेंसी एसपीए के मुताबिक सऊदी सरकार ने पहली बार अपनी मुद्रा रियाल में इस्लामिक बॉन्ड 'सुकुक' जारी किए हैं.

समाचार एजेंसी 'रॉयटर्स' की रिपोर्ट में कहा गया है कि 'सुकुक' की नीलामी रविवार को की गई. ये इस्लामिक बॉन्ड्स पांच, सात और दस साल की अवधि के है.

एसपीए ने सऊदी अरब के वित्त मंत्रालय के हवाले से कहा है कि निवेशकों ने 51 अरब रियाल से भी ज्यादा की बोलियां लगाई.

गिरते तेल कीमतों की वजह से सऊदी अरब का राजकोषीय घाटा बढ़ रहा है और इसकी भरपाई के लिए पहली बार सुकुक लाया गया है.

सऊदी अरब से ज़्यादा तेल फिर भी बदहाल एक देश

घाटे से जूझ रहे सऊदी अरब में तेल होगा महंगा

तेल सऊदी अरब के लिए एक हथियार है?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)