अजीत डोभाल के दौरे को क्यों अहमियत नहीं दे रहा है चीन?

अजीत डोभाल, शी जिनपिंग इमेज कॉपीरइट Lintao Zhang/Pool/Getty Images
Image caption एनएसए अजीत डोभाल और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग बीजिंग में एक मुलाकात के दौरान, तस्वीर 9 सितंबर, 2014 की है

ब्रिक्स देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों की बैठक इस हफ्ते चीन में होने जा रही है.

इस बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल भारत की नुमाइंदगी करने वाले हैं.

माना जा रहा है कि 27 और 28 जुलाई को होनी जा रही इस कॉन्फ्रेंस के दौरान डोभाल अपने चीनी समकक्ष से भी मिल सकते हैं.

27 जून को भूटान सीमा पर डोकलाम में चीन ने भारतीय सेना पर सड़क निर्माण में बाधा का आरोप लगाया था.

चीन ने दावा किया था कि सड़क निर्माण का काम उसके अपने इलाके में हो रहा था. भारत ने डोकलाम क्षेत्र में सड़क निर्माण के बहाने चीन के दखल का विरोध किया था.

इस बीच, चीन के सरकारी अख़बार 'ग्लोबल टाइम्स' ने डोभाल की प्रस्तावित चीन यात्रा पर संपादकीय लिखा है.

'चीनी सेना को हिलाना पहाड़ हिलाने से भी कठिन'

भारत-चीन विवाद: अब तक क्या-क्या हुआ?

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
सिक्किम को भारत का हिस्सा नहीं बनाना चाहते थे चोग्याल

'भ्रम छोड़े भारत'

संपादकीय में लिखा गया है, "भारत को अपना भ्रम छोड़ देना चाहिए. अजीत डोभाल की चीन यात्रा दोनों देशों के बीच जारी विवाद को भारत की मर्जी से हल करने के लिए सही मौका नहीं है. ब्रिक्स देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों की बैठक नियमित तौर पर होनी वाले एक कॉन्फ्रेंस है जिसका मकसद ब्रिक्स समिट की तैयारी करना है. यह प्लेटफॉर्म चीन-भारत सीमा विवाद को सुलझाने के लिए नहीं है."

यहां तक कि ग्लोबल टाइम्स का कहना है कि मौजूदा सीमा-विवाद के पीछे 'सबसे बड़ा दिमाग़' डोभाल का ही है.

अख़बार का कहना है कि भारतीय मीडिया ये आस लगाए बैठा है कि डोभाल के दौरे से मौजूदा विवाद का हल निकल जाएगा.

चीन को समझने में भूल कर रहे हैं भारतीय?

चीन को चुनौती क्या सोची समझी रणनीति है?

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
नए सिल्क रूट पर दुनिया की चिंता

'सौदेबाज़ी न करें तो बेहतर'

सीमा विवाद पर चीन के रुख को दोहराते हुए संपादकीय में कहा गया है, चीन इस बात पर अडिग है कि उसके इलाके से भारतीय सैनिकों को हटाने के बाद ही दोनों देशों के बीच कोई सार्थक बातचीत हो सकेगी.

अख़बार आगे कहता है, "सीमा विवाद पर डोभाल अगर सौदेबाज़ी की कोशिश करते हैं तो उन्हें निराशा हाथ लगेगी. इस मुद्दे पर चीन की सरकार के रुख को सभी चीनी लोगों का समर्थन हासिल है. चीन के लोग इस बात पर अडिग हैं कि हम अपनी ज़मीन का एक इंच भी नहीं छोड़ेंगे."

'इतनी भी बुरी हालत नहीं है भारतीय सेना की'

क्या अपने बुने जाल में ही फंस गया है चीन?

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
'गर्व है भारतीय होने में'

ग्लोबल टाइम्स ने इस लेख में दोनों देशों की 'आर्थिक हैसियत' का भी हवाला दिया है.

अख़बार के मुताबिक, "चीन की जीडीपी भारत से पांच गुना और रक्षा बजट चार गुना है, लेकिन हमारी ताकत का केवल यही एक पैमाना नहीं है. इंसाफ़ चीन के साथ है. भारतीय सैनिकों की सीमा से बिना शर्त वापसी की चीन की मांग पूरी तरह से वाजिब है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे