उत्तर कोरिया पर चीन की चुप्पी से अमरीका परेशान

उत्तर कोरिया इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption प्योंगयांग में टीवी स्क्रीन पर मिसाइल परीक्षण का प्रसारण किया गया

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने कहा है कि वे उत्तर कोरिया के हथियार कार्यक्रम पर चीन के रुख़ से बहुत निराश हैं.

ट्रंप ने ट्वीटर पर लिखा कि वे उत्तर कोरिया के ख़िलाफ़ चीन के कोई क़दम न उठाने की नीति को स्वीकार नहीं करेंगे.

एक महीने के अंदर प्योंगयांग द्वारा इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल का दो बार परीक्षण करने के एक दिन बाद ट्रंप ने यह ट्वीट किया है.

उन्होंने ट्वीट किया कि 'मै चीन से बहुत निराश हूं. हमारे पुराने नेताओं ने बेवकूफी दिखाते हुए चीन के साथ लाखों डॉलर का व्यापार किया, फिर भी वे उत्तर कोरिया के संबंध में कोई ठोस कदम नहीं उठाते, सिर्फ बातें करते हैं.'

उत्तर कोरिया ने फिर दागी मिसाइल

पूरे अमरीका को तबाह कर सकती है हमारी मिसाइलें: उत्तर कोरिया

इमेज कॉपीरइट DONALD TRUMP TWITTER

एक और ट्वीट में ट्रंप ने कहा 'हम इसे और अधिक समय तक स्वीकार नहीं करेंगे, चीन इस समस्या को आसानी से हल कर सकता है.'

इमेज कॉपीरइट DONALD TRUMP TWITTER

रेंज में था पूरा अमेरिका

उत्तर कोरिया द्वारा किए गए मिसाइल परीक्षण के बाद यह दावा किया गया कि पूरा अमेरिका इस परीक्षण की रेंज में था.

चीन ने इस परीक्षण की निंदा करते हुए सभी पक्षों से शांति बनाए रखने की अपील की थी.

लेकिन अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप चीन की इस ठंडी प्रतिक्रिया से नाराज़ हैं, उन्होंने अमेरिका और चीन के व्यापार घाटे की एक वजह चीन की उत्तर कोरिया के साथ नीतियों को भी बताया.

इस साल की शुरुआत में अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और उनके चीनी समकक्ष शी जिनपिंग ने उत्तर कोरिया के संबंध में बैठक की थी. उस समय अमेरिकी अधिकारियों ने बताया था कि दोनों देश प्योंगयांग पर लगाम लगाने पर विचार कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption उत्तर कोरिया टीवी में परीक्षण के बाद किम जोंग की जश्न मनाती तस्वीरें दिखाई गईं

जापान और द.कोरिया ने बताया ख़तरा

शनिवार को हुए परीक्षण के बाद दक्षिण कोरिया ने कहा कि उन्हें इस बात की चिंता है कि उत्तर कोरिया ने मिसाइल टेस्ट के लिए कुछ अत्याधुनिक तकनीक प्राप्त कर ली है.

जापान के प्रधानमंत्री शिंज़ो अबे ने भी इस परीक्षण को अपने देश की सुरक्षा के लिए ख़तरा बताया है.

उत्तर कोरिया संयुक्त राष्ट्र के संकल्पों का उल्लंघन करते हुए लगातार मिसाइल परीक्षण कर रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे