क्या डोनल्ड ट्रंप को समझने में चूक गए पुतिन?

रूस, पुतिन, ट्रंप इमेज कॉपीरइट Getty Images

रूसी सरकार ने हाल ही में अमरीकी राजनयिकों की संख्या घटाने का आदेश दिया है.

इस कदम ने दोनों देशों के बीच द्वपक्षीय रिश्तों में एक नई शुरुआत होने की आशा को खत्म कर दिया है. इसकी जगह अब दोनों देशों में एक अनिश्चित काल की प्रतिद्वंदिता शुरू हो सकती है.

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप की जीत के मौके पर एक नये तरह के संबंधों की संभावना जाहिर की थी.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
रूस और अमरीका

क्या पुतिन ट्रंप को समझने में चूके?

ऐसा लगता है कि राष्ट्रपति पुतिन ने इसे समझने में चूक की. ट्रंप के चुनाव अभियान से रूस-अमरीका रिश्तों की नई शुरुआत की संभावना और ऐसी इच्छा जताने वाले संकेत मिले.

इनके आधार पर रूस ने अमरीकी चुनाव में इस हद तक घुसपैठ की जो अमरीकी खुफिया एजेंसियों के मुताबिक अभूतपूर्व था.

(फिलहाल इस विषय पर जांच जारी है कि रूस ने किस स्तर तक अमरीकी राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार ट्रंप को मदद दी. ये बात दोनों देशों के बीच राजनयिक संबंधों के खराब होने को एक पृष्ठभूमि देती है.)

रूस ने इस मामले में किसी तरह की भूमिका से इनकार किया है. लेकिन ये साफ है कि रूस अमरीका में खुले विचारों के नए राजनीतिक नेतृत्व से काफी उम्मीदें लगाए था.

पुतिन ने 755 अमरीकी राजनयिकों से रूस छोड़ने को कहा

रूस पर नए प्रतिबंध लगाने की ओर बढ़ा अमरीका

इमेज कॉपीरइट Reuters

रूस की आशाओं पर फिरा पानी

रूस ने आशा की थी कि माहौल बदलेगा. इसमें क्रीमिया पर रूसी कब्जे के बाद सामने आए पश्चिमी देशों के प्रतिबंधों को हटाया जाना शामिल था.

इससे भी ज्यादा रूस दोनों देशों के बीच एक नए समझौते की उम्मीद कर रहा था जिसके तहत अमरीका सीरिया समेत कथित संगठन इस्लामिक स्टेट के खिलाफ संघर्ष में रूस को भागीदार के रूप में स्वीकार करे.

लेकिन अब तक ये आशाएं हक़ीकत में बदलती नजर नहीं आ रही हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ऐसा लगता है कि रूस ने राष्ट्रपति ट्रंप की संभावित उपलब्धियों को लेकर ऐसी उम्मीदें रखी हुईं थीं जो हक़ीकत की ज़मीन से कोसों दूर थीं.

क्या पुतिन ने ट्रंप को एक सशक्त और मिलते-जुलते विचारों वाला नेता समझा था या उन्हें एक राजनितिक और राजनयिक रूप से सहज व्यक्ति माना था जिसे प्रभाव में लेने के साथ ही हावी हुआ जा सकता है?

पुतिन मोह कहीं ट्रंप को मुश्किलों में न डाल दे!

दोनों ही तरह से रूस के अमरीकी चुनाव में हस्तक्षेप और उसके बाद जारी जांच के चलते किसी भी तरह की नई शुरुआत को रोक दिया है.

इमेज कॉपीरइट AFP

रूस ने शायद अमरीकी संसद में अपने कदमों को लेकर विरोध को समझने में गलती की और ट्रंप के करीबियों की असावधानी को कैपिटल हिल में ट्रंप का प्रबल समर्थन समझा.

रूस पर ट्रंप के हाथ बांधेगी अमरीकी संसद

ऐसे में ये दोनों देशों के बीच की स्थिति को कहां पहुंचाती है?

रूस और अमरीका के बीच रिश्ते ठीक नहीं हैं और राजनयिकों की बर्खास्तगी रिश्तों में दूरियां बढ़ा सकती है.

रूसी-अमरीकी रिश्तों में खराबी के असर

इससे साफ तौर पर यूक्रेन के मुद्दे समेत सीरिया संघर्ष पर प्रभाव दिखेगा.

इसका मतलब ये है कि अब रूस अपने पश्चिमी देशों के खिलाफ़ इनफॉर्मेशन कैंपेन और सायबर एक्टिविटीज़ जारी रखेगा, विशेषत: उन छोटे देशों के खिलाफ जिनके राजनीतिक तंत्र को कमजोर माना जा रहा है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

रूस लगातार अपने रणनीतिक परमाणु हथियारों के आधुनिकीकरण में लगा रहेगा. लेकिन अमरीका के भी अपने महत्वाकांक्षी इरादे हैं.

लेकिन ये असली शीत युद्ध की शुरुआत नहीं है. रूस सोवियत संघ जैसी विश्व शक्ति नहीं है. इसके बावजूद चिंता की वजहें मौजूद हैं.

रूस का सत्तावादी राष्ट्रीय पूंजीवाद कुछ नेटो देशों के राजनेताओं को भी लुभावना लग रहा है.

लेकिन रूस की अपनी भी कुछ सीमाएं हैं.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
यूरोप के देश ट्रंप और पुतिन के रिश्तों से असहज

रूस ने खोले हुए हैं ट्रंप प्रशासन के लिए दरवाजे

एक बात ये है कि बिगड़ैल होने के भी फायदे भी सीमित ही हैं. क्योंकि राजनयिक प्रभुत्व के लिए भागीदारी भी जरूरी है. इसी वजह से रूस ने ओबामा प्रशासन से खराब रिश्ते होने के बावजूद ईरान परमाणु समझौते में अहम भूमिका निभाई.

वहीं, रूस का अमरीकी राजनयिकों की संख्या में कमी करना तुलनात्मक रूप से नरम कार्रवाई है. रूस ने शायद ट्रंप प्रशासन के लिए दरवाजे खुले रखे हैं.

दूसरी बात ये है कि रूस का ट्रंप प्रशासन की क्षमताओं का गलत आकलन उसके लिए एक सबक है. एक कमजोर विदेश मंत्रालय और गैर-अनुभवी ट्रंप समर्थकों से भरे व्हाइट हाउस वाला अमरीका रूस के लिए अप्रत्याशित नजर आ रहा है.

और, जैसा कि पहले शीत युद्ध ने दिखाया था, ये अच्छी बात नहीं है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे