क्या रूस-अमरीका के बीच 'ट्रेड वॉर' छिड़ जाएगा?

पुतिन और ट्रंप इमेज कॉपीरइट Getty Images

अमरीका के नए प्रतिबंध पर रूस ने कड़ा एतराज़ जताया है. रूसी प्रधानमंत्री दिमित्री मेदवेदेव ने कहा कि रूस पर अमरीकी प्रतिबंध पूर्ण रूप से ट्रेड वॉर (व्यापार युद्ध) की घोषणा की तरह है.

मेदवेदेव ने कहा कि डोनल्ड ट्रंप की तरफ़ से नए प्रतिबंध पर हस्ताक्षर किया जाना दर्शाता है कि वह कितने लाचार हैं. रूसी प्रधानमंत्री ने कहा कि कांग्रेस ने राष्ट्रपति ट्रंप को अपमानित किया है.

अमरीका के इस नए प्रतिबंध का उद्देश्य 2016 के अमरीकी राष्ट्रपति चुनाव में कथित हस्तक्षेप और यूक्रेन में कार्रवाई के ख़िलाफ़ रूस को दंडित करना बताया है. ट्रंप ने कांग्रेस को इस प्रतिबंध के लिए ज़िम्मेदार ठहराया है.

क्या डोनल्ड ट्रंप को समझने में चूक गए पुतिन?

पुतिन से गोपनीय मुलाक़ात की ख़बर फ़र्ज़ी है: डोनल्ड ट्रंप

रूस पर डोनल्ड ट्रंप के हाथ बांधेगी अमरीकी संसद

पुतिन मोह कहीं ट्रंप को मुश्किलों में न डाल दे!

इमेज कॉपीरइट Getty Images

बुधवार को नए प्रतिबंध पर हस्ताक्षर करने के बाद ट्रंप ने कहा कि इसके नतीजे अमरीका के हक़ में नहीं होंगे.

अमरीका के इस नए प्रतिबंध के बाद अमरीकियों के लिए रूसी एनर्जी प्रोजेक्ट में निवेश करना आसान नहीं रहा. इसके साथ ही अमरीकी कंपनियों के लिए रूस में व्यापार करना काफ़ी मुश्किल हो गया है.

रूस के अलावा अमरीका ने ईरान और उत्तर कोरिया के ख़िलाफ़ भी प्रतिबंध लगाया है.

ईरान ने नई अमरीकी पाबंदी पर कहा कि यह ओबामा के कार्यकाल में हुए परमाणु समझौते का उल्लंघन है. ईरान की अर्ध सरकारी समाचार एजेंसी इस्ना के मुताबिक ईरान ने कहा कि वह इस पाबंदी का 'उचित और बराबर' में जवाब देगा. उत्तर कोरिया ने अमरीकी पाबंदी पर कोई सार्वजनिक टिप्पणी नहीं की है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

रूसी प्रधानमंत्री मेदवेदेव ने बुधवार को अपने फ़ेसबुक पेज पर लिखा कि अमरीका की तरफ़ से नई पाबंदी सो वहां नई सरकार आने के बाद संबंध सुधरने की जो उम्मीद जगी थी, उसका अंत हो गया है.

मेदवेदेव ने लिखा है, ''प्रतिबंधात्मक शासन पद्धति को स्थापित कर दिया गया है. जब तक कोई चमत्कार न हो जाए तब तक इसका असर आने वाले कई दशकों तक बना रहेगा.''

मेदवेदेव ने यह भी चेतावनी दी कि नया क़दम राष्ट्रपति ट्रंप को हटाने में मददगार साबित होगा. रूस 2016 में अमरीकी राष्ट्रपति चुनाव में किसी भी तरह के हस्तक्षेप से इनकार करता रहा है. पिछले हफ़्ते रूस ने अमरीका को मॉस्को स्थित अमरीकी दूतावास से 455 स्टाफों को वापस बुलाने का आदेश दिया था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इस मामले में जर्मनी समेत कई यूरोपीय देशों ने आर्थिक दुष्परिणामों की आशंका जताई है. हालांकि यूरोपीय यूनियन कमीशन के अध्यक्ष जीन क्लॉड युंकर ने ईयू की चिंता के बाद पांबदी को उदार बनाए जाने को लेकर संतोष जताया है. उन्होंने कहा, ''अमरीकी कांग्रेस ने इस बात पर प्रतिबद्धता जताई है कि वह पाबंदी सहयोगी देशों से मशविरा के बाद ही लागू करेगा. मैं मानता हूं कि हम अब भी अमरीका के सहयोगी हैं.''

राष्ट्रपति ट्रंप इस बात को लगातार ख़ारिज करते रहे हैं कि उनके कैंपेन स्टाफ़ की सांठगांठ रूस के साथ थी. राष्ट्रपति ट्रंप ने कांग्रेस पर बिल पास करने में मनमानी करने का आरोप लगाया है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ट्रंप ने यह भी कहा कि कांग्रेस संवैधानिक अधिकारों का अतिक्रमण कर रही है. राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि वह कांग्रेस के मुक़ाबले बाहरी देशों से ज़्यादा बेहतर समझौता कर सकते हैं.

वॉशिंगटन में बीबीसी न्यूज़ के एंथनी ज़र्चर का आकलन

ट्रंप ने रूस पर नए प्रतिबंध वाले बिल पर हस्ताक्षर भले कर दिया, लेकिन वह ख़ुश नहीं हैं. कांग्रेस और राष्ट्रपति ट्रंप में टकराव साफ़ देखने को मिल रहा है. हेल्थकेयर बिल में भी ट्रंप को कांग्रेस से भारी विरोध का सामना करना पड़ा था. कांग्रेस और ट्रंप के रुख में लकीर साफ़ दिख रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे