वेनेज़ुएला: सैन्य अड्डे पर हमला करके 10 विद्रोही फरार

सैन्य हेलिकॉप्टर इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption वेलेंसिया के आसमान पर उड़ते दिखे हेलिकॉप्टर

वेनेजुएला के राष्ट्रपति निकोलस मादुरो ने कहा है कि उन दस हथियारबंद लोगों की तलाश की जा रही है जो सैन्य अड्डे पर हमले के बाद फरार हो गए.

उन्होंने बताया कि उत्तर पश्चिमी शहर वेलेंसिया में करीब 20 लोगों ने यह हमला किया था. इनमें से दो को मार दिया गया, एक ज़ख़्मी है और सात लोग गिरफ़्तार किए गए हैं.

सरकारी टीवी पर राष्ट्रपति मादुरो ने सेना को इस हमले को नाकाम करने के लिए बधाई दी है.

इमेज कॉपीरइट Twitter

सत्ताधारी दल सोशलिस्ट पार्टी के उप नेता डियोसडादो काबेलियो ने ट्विटर पर इस घटना को 'आतंकी हमला' बताया है.

रिपोर्टों के मुताबिक काराबोबो राज्य के वेलेंसिया में सेना की एक बैरक पर हमला किया गया.

मदुरो की बड़ी जीत, अमरीका ने कहा 'शर्मनाक'

वेनेज़ुएला के सुप्रीम कोर्ट पर हेलिकॉप्टर से 'हमला'

सोशल मीडिया पर इस मामले से जुड़ा एक वीडियो जारी हुआ है.

इस वीडियो में वर्दीधारी लोगों को ये कहते सुना गया है कि वे एक 'निर्दयी तानाशाही' के ख़िलाफ़ संघर्ष कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

वीडियो में एक नेता ने अपना नाम ख्वान कागुरिपानो बताते हुए कहा, "ये तख़्तापलट नहीं बल्कि कानून के राज को वापस लाने के लिए सेना और नागरिकों द्वारा उठाया गया कदम है."

सोशलिस्ट पार्टी के उप नेता डियोसडादो काबेलियो ने बताया है कि फ्वर्टे परामाके मिलिट्री बैरकों में पूरी तरह से नियंत्रण पा लिया गया है.

इसके पहले सशस्त्र बलों के कमांडिंग ऑफ़िसर रेमिख़िओ सेबायोस ने ट्वीट करके बताया था कि सात लोगों को गिरफ़्तार किया गया है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इससे पहले सोशल मीडिया पर गोलीबारी की खबरें सामने आईं थीं.

वहीं, कुछ अन्य लोगों का कहना है कि उन्होंने सैन्य अड्डे पर ऊंची आवाज में देशभक्ति के गाने सुने.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ख्वान कागुरिपानो ने अपने छोटे से भाषण में कहा है कि उनका समूह जिसे वह 41वीं बिग्रेड कहते हैं राष्ट्रपति निकोलस मादुरो की निर्दयी तानाशाही के ख़िलाफ़ खड़ा हो रहा है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

वेनेज़ुएला में बीते अप्रैल से हर रोज़ विरोध प्रदर्शन देखे जा रहे हैं.

विपक्ष ने वामपंथी राष्ट्रपति मादुरो पर जरूरत से ज्यादा ताकत हासिल करने का आरोप लगाया है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption वेनेज़ुएला के राष्ट्रपति निकोलस मादुरो

बीते शनिवार को नई संविधान पीठ ने अपनी पहली कार्यवाही शुरू की और इसके तुरंत बाद मादुरो की पूर्व सहयोगी से आलोचक बनीं मुख्य वकील लुइसा ओर्टेगा को बर्खास्त करने पर मतदान किया गया.

इस संविधान पीठ के सदस्यों को बीते रविवार एक विवादित मतदान से चुना गया था जिसमें किसी भी विपक्षी नेता ने भाग नहीं लिया था. इससे मतदान में घालमेल करने के आरोप लगाए गए.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इस नई संविधान पीठ के पास संविधान को नए सिरे से लिखने की शक्ति है. और, यह पीठ विपक्ष के नियंत्रण वाली राष्ट्रीय संसद को कमतर बना सकती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे