इसराइल में अल-जज़ीरा चैनल होगा ऑफ एयर

इमेज कॉपीरइट Reuters

इसराइल ने क़तर स्थित अल जज़ीरा समाचार चैनल पर 'आतंकवाद को समर्थन देने' का आरोप लगाया है.

इसराइल अपने देश में चैनल के दफ्तरों को बंद करने के साथ उसके पत्रकारों की मान्यता रद्द करना चाहता है.

इसराइल के सूचना मंत्री अयूब कारा ने चैनल पर आतंकवाद को समर्थन करने का आरोप लगाया है. उन्होंने अल जज़ीरा के अरबी और अंग्रेजी भाषा के दोनों चैनल ऑफ एयर करने की बात कही है.

इसराइली प्रधानमंत्री बिन्यामिन नेतन्याहू ने हाल ही में इस चैनल पर 'उत्तेजना परोसने' का आरोप लगाया था.

इसराइल ने मेटल डिटेक्टर हटाया पर मुसलमान मस्जिद में जाने को तैयार नहीं

इसराइल ने यरूशलम में हरम-अल शरीफ़ से मेटल डिटेक्टर हटाए

इमेज कॉपीरइट EPA

अल जज़ीरा ने इस फ़ैसले की निंदा की है और अपने ऊपर लगे आरोपों को गलत बताते हुए खुद को स्वतंत्र बताया है.

नेतन्याहू ने आरोप लगाया था कि हाल ही में यरुशलम के पवित्र स्थल, जिसे मुस्लिम हरम अल शरीफ और यहूदी टेंपल माउंट कहते हैं, पर हुए हमले के दौरान चैनल ने लोगों को भड़काने का काम किया था.

यरुशलम में दो पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद इस पवित्र स्थल पर सुरक्षा के नए इंतजाम किए गए थे.

फलस्तीनियों के विरोध जताने के बाद इसराइल की सरकार ने मेटल डिटेक्टर और दूसरे सुरक्षा इंतजाम हटा दिए थे.

इमेज कॉपीरइट Reuters

पत्रकारों पर रोक

सूचना मंत्री कारा ने बताया कि केबल टीवी संचालक अल जज़ीरा को ऑफ एयर करने पर सहमत हो गए हैं. हालांकि चैनल के यरुशलम स्थित ब्यूरो को बंद करने के लिए कुछ और कानूनी प्रक्रिया अपनानी होंगी.

वहीं अल जज़ीरा का कहना है कि जिस प्रेस कॉन्फ्रेंस में उनके चैनल को बंद करने की घोषणा की गई उसमें उनके पत्रकारों को जाने की अनुमति ही नहीं दी गई थी.

इससे पहले सऊदी अरब और जोर्डन ने भी अपने यहां स्थित अल-जज़ीरा के ब्यूरो को बंद कर दिया था. क़तर के खिलाफ चल रहे कूटनीतिक अभियान के तहत इन दोनों देशों ने यह फैसला लिया था.

अरब देशों की ओर से क़तर को दी गई 13 शर्तों की सूची में एक शर्त इस चैनल को बंद करना भी थी.

क़तर के इस अरबी भाषी चैनल की शुरुआत 1996 में हुई थी. मध्य पूर्व के देशों में अपनी रिपोर्टिंग और वहां की सरकारों की आलोचना करने के कारण यह चैनल नज़रों में आया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे