गूगल के कर्मचारी ने महिलाओं के विषय में ऐसा क्या लिखा जिससे खलबली मच गई

गूगल इमेज कॉपीरइट Getty Images

विभिन्न पदों पर महिलाओं को रखे जाने की पहल के विरोध में एक गूगल कर्मचारी की राय ने कंपनी में खलबली मचा दी है.

दरअसल, एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर ने एक गोपनीय नोट में यह दलील दी कि शीर्ष तकनीकी पदों पर महिलाओं की तैनाती नहीं होने का कारण उनका पुरुषों से जैविक अंतर का होना है.

उन्होंने लिखा, 'हमें लैंगिक अंतर को लिंगभेद नहीं समझना चाहिए.'

इस इंजीनियर की तीखी आलोचना की गई, लेकिन उनका कहना है कि उन्हें गूगल के कई साथी के आभार प्रकट करते व्यक्तिगत संदेश मिले हैं.

कंपनी के इंटरनल डिस्कशन बोर्ड पर पोस्ट किए गए इस पूरे लेख को टेक वेबसाइट गिज़मोदो ने छापा है.

क्या आपने भी गूगल पर ये सर्च किया था?

गूगल पर क्यों लगा करोड़ों का जुर्माना?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पुरुषों से महिलाओं की क्षमताएं अलग

इस लेख के लेखक का नाम ज़ाहिर नहीं हो पाया है है. इस लेखक ने लिखा है, 'जैविक कारणों से पुरुषों और महिलाओं की क्षमताएं अलग अलग होती हैं, और ये अंतर यह बताने के लिए पर्याप्त हैं कि हम तकनीक और नेतृत्व के शीर्ष पदों पर पुरुषों के समान महिलाओं का प्रतिनिधित्व क्यों नहीं देखते.'

उन्होंने आगे लिखा, 'आम तौर पर महिलाएं समाज कल्याण या कला के क्षेत्रों में नौकरियां पसंद करती हैं जबकि पुरुषों को कोडिंग अधिक पसंद है.

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए गूगल की नई विविधता प्रमुख डेनियल ब्राउन ने कहा, 'इस मुद्दे पर इस नई बहस ने मुझे कुछ कहने के लिए मजबूर किया.'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

विविधता कंपनी का मूलभूत हिस्सा

इंटरनल टेक वेबसाइट मदरबोर्ड के अनुसार उन्होंने कहा, 'मैं या कंपनी इस लेख का न तो समर्थन या प्रोत्साहित करती है और न ही इसे बढ़ावा देती है.'

उन्होंने कहा, 'विविधता और समावेश करना, लगातार विकसित करने को तत्पर हमारे मूल्यों और संस्कृति का एक मूलभूत हिस्सा हैं.'

उन्होंने आगे कहा, 'एक कंपनी के रूप में हमें स्पष्ट रूप से विश्वास है कि विविधता और समावेश करना हमारी सफलता के लिए महत्वपूर्ण है, और हम इसके लिए लंबे समय के लिए प्रतिबद्ध रहेंगे.'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे