घुन जैसे कीड़ों ने दिए युद्ध जैसे ज़ख़्म

इमेज कॉपीरइट JARROD KANIZAY
Image caption सैम कैनिज़ाय आधे घंटे तक समुद्री पानी में थे

क्या आप सोच सकते हैं कि घुन जितने छोटे कुछ कीड़े आपको ऐसे ज़ख़्म दे जाएं, जैसे युद्ध में सैनिकों को हुआ करते हैं.

एक ऑस्ट्रेलियाई किशोर के पांवों में कुछ बहुत छोटे समुद्री कीड़ों ने काट लिया जिससे उनके दोनों पांव लहूलुहान हो गए. अस्पताल में उसका इलाज चल रहा है.

चेतावनी: इस आर्टिकल में ज़ख़्म की तस्वीरें हैं.

'सुई चुभने जैसा दर्द'

इमेज कॉपीरइट JARROD KANIZAY

एक थकाने वाले फ़ुटबॉल मैच के बाद 16 साल के सैम कैनिज़ाय मेलबर्न में अपने घर के पास ब्राइट बीच पहुंचे थे. वहां आधे घंटे तक उन्होंने अपने पांव समुद्री पानी में डुबोए रखे.

बीबीसी रेडियो से बातचीत में सैम ने बताया कि उन्हें अपने पांव में सुई चुभने जैसा दर्द महसूस हुआ. उन्हें लगा कि उनकी एड़ियों पर रेत जमने से ऐसा हुआ है, लेकिन जब उन्होंने देखा तो दोनों पांवों को लहूलुहान पाया.

उन्होंने बताया, ''काफी देर से ख़ून बह रहा था और अब भी बंद नहीं हुआ है.''

'जैसे ग्रेनेड हमला हुआ हो'

इमेज कॉपीरइट JARROD KANIZAY

सैम के पिता जैरड कैनिज़ाय ने बीबीसी को बताया कि उनका बेटा जब घर पहुंचा तो ऐसा लग रहा था कि जैसे वो किसी युद्ध में ज़ख़्मी होकर लौटा है. उन्होंने कहा, ''जैसे कोई ग्रेनेड हमला हुआ है. काफ़ी ज्यादा ख़ून था.'

वह कौन-सा कीड़ा था जिसके काटने से ऐसा हुआ- यह जानने के लिए परिवार जानकारों की मदद ले रहा है ताकि इलाज में आसानी हो सके.

सैम के पांवों में ऐसे घाव थे जैसे किसी ने ढेर सारी सुइयां चुभो दी हों. दो स्थानीय अस्पताल जब ज़ख़्म नहीं पहचान सके तो जैरड ख़ुद उसी बीच पर गए.

उन्होंने बताया, ''मैं पानी में खड़ा हुआ और उन अजीब कीड़ों को एक जाल में फंसाकर उसी जगह से इकट्ठा किया. हज़ारों की संख्या में उन कीड़ों को मैंने विशेषज्ञों के पास भेजा है.''

उन्होंने कहा, 'हम विशेषज्ञों की राय का इंतज़ार कर रहे हैं कि ये कौन-से कीड़े हैं, ये कैसे बर्ताव करते हैं और ऐसा क्यों हुआ?'

ये हो सकते हैं समुद्री पिस्सू

इमेज कॉपीरइट JARROD KANIZAY

समुद्री जीव वैज्ञानिक डॉ. जेनेफ़ोर वॉकर-स्मिथ ने इन कीड़ों के सैंपल देखकर ऑस्ट्रेलियाई अख़बार 'हैरल्ड सन' को बताया कि ये कीड़े लिसिनैसिड एम्फ़िपॉड्स यानी समुद्री पिस्सू हो सकते हैं जो मृत जीवों को खाते हैं.

उन्होंने कहा, 'हो सकता है कि सैम ने ग़लती से भोजन कर रहे कीड़ों के एक समूह पर पांव रख दिया हो. पर आम तौर पर वे पिरान्हा मछलियों की तरह हर वक़्त हमले की फ़िराक में नहीं रहते.'

विशेषज्ञों ने कहा है कि ऐसी घटनाएं बहुत कम देखने में आती हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे