बाई को घर के दरवाजे तक छोड़ेगा सऊदी एयरपोर्ट

विदेशी आया के लिए रियाद़ एयरपोर्ट दे रहा है नई सर्विस इमेज कॉपीरइट RIYADH AIRPORTS/TWITTER

सऊदी अरब में विदेश से वहाँ घरों में काम करने के लिए आने वाली महिलाओं (आया) के लिए ख़ास सेवा शुरू की गई है.

सऊदी अरब एयरपोर्ट अब विदेश से वहाँ पहुँचने वाली आयाओं को सीधे उनके नियोक्ताओं के दरवाजे तक छोड़कर आएगा.

सऊदी अरब के किंग ख़ालिद इंटरनेशनल एयरपोर्ट का प्रतिनिधित्व करने वाली कंपनी रियाद एयरपोर्ट ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से एक ऐसी तस्वीर ट्वीट की जिसमें प्लेन का दरवाज़ा सीधे घर में खुलता हुआ दिख रहा है.

इस पर लिखा गया, "तुसैलाक़ सर्विस, आपकी महिला घरेलू आया को प्लेन से उतारकर आपके घर पहुंचाएगी."

कंपनी के नाम का अर्थ है "वह आपके पास आएगी", फ़ोन के जरिए यूज़र्स इसकी सेवा कामगार को पहुंचाने की फ़ीस अदा कर ले सकते हैं.

इस पर सऊदी अरब के ट्विटर यूज़र्स की मिलीजुली प्रतिक्रिया आई. हालांकि इस तस्वीर को 700 से अधिक बार रीट्वीट और लाइक किया गया है.

कुछ यूजर्स ने लिखा कि कंपनी ने उन्हें व्यस्त एयरपोर्ट पर नई आया को ढूंढने की परेशानी से बचाया, तो वहीं कुछ पूछते हैं कि क्या ये सेवा घरेलू कर्मियों के लिेए भी है?

बाइयों के काम को काम क्यों नहीं मानती सरकार?

कामवाली खोज रहे हैं? शायद यहाँ कुछ मदद हो जाए

'तोहफ़े में बाई' वाले विज्ञापन पर हंगामा

इमेज कॉपीरइट AFP

क्या भगोड़े रुकेंगे?

एक ट्विटर यूज़र लिखते हैं, "क्या इनके साथ कार्गो की तरह व्यवहार किया जाएगा?" एक अन्य यूज़र ने लिखा कि यह सेवा नए आने वालों को "भागने" से रोकेगी.

खाड़ी के देश विदेशों से आए हज़ारों घरेलू आयाओं पर निर्भर करते हैं, इनमें से कई बांग्लादेश जैसे दक्षिण एशियाई मुल्कों से आती हैं.

सऊदी अरब में सभी विदेशी आयाओं को देश में प्रवेश करने और वापसी के लिए प्रायोजक की अनुमति आवश्यक होती है, और वीज़ा की व्यवस्था करने के लिए छह महीने तक लग जाते हैं.

अधिकारों के लिए आवाज़ उठाने वाली संस्थाओं की शिकायत है कि विदेशी आयाओं को यहां अक्सर ख़राब परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है, और वे अपने नियोक्ताओं की अनुमति के बगैर नौकरी नहीं बदल सकती या देश नहीं छोड़ सकतीं.

एलिस्टेयर कोलमैन और विक्टोरिया बिस्सेट की रिपोर्ट

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे