कोरियाई आसमान पर अमरीकी बमवर्षक, जापान अलर्ट पर

अमरीकी बमवर्षक विमान बी 1बी इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption अमरीकी बमवर्षक विमान बी 1बी

जापान सरकार ने पड़ोसी देश उत्तर कोरिया के आक्रामक रुख़ को देखते हुए देश में हाई अलर्ट की घोषणा कर दी है.

उत्तर कोरिया ने कहा है कि वह अमरीकी पैसेफ़िक क्षेत्र के द्वीप गुआम में मिसाइल हमले पर विचार कर रहा है.

जापान की सरकारी न्यूज़ एजेंसी क्योडो के मुताबिक जापान के रक्षा मंत्री इत्सुनोरी ओनदडेरा ने इस मसले पर पत्रकारों से बात की.

अमरीकी द्वीप गुआम पर हमले की तैयारी में उत्तर कोरिया

उत्तर कोरिया के साथ युद्ध हुआ तो कितनी तबाही

ओनदडेरा ने कहा, "उत्तर कोरिया की ओर से सामने आ रहा ख़तरा अब इस हद तक पहुंच गया है कि हमें हमेशा चौकन्ना रहना पड़ेगा और सुनियोजित ढंग से नजर रखनी पड़ेगी कि क्या उत्तर कोरिया के पास ऐसा हथियार है या वह ऐसा हथियार जल्द ही हासिल कर लेगा."

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images
Image caption अमरीकी बमवर्षक विमान बी 1बी

जापान की सरकार ने हाल ही में सुरक्षा से जुड़ा श्वेतपत्र जारी किया है. इसमें इस बात को स्वीकार किया गया है कि उत्तर कोरिया के पास पहले से ही छोटे परमाणु हथियार हैं और इन्हें लंबी दूरी की मिसाइलों में फ़िट किया जा सकता है.

जापान के एक मंत्री ने कहा है कि जैसा कि रिपोर्ट कहती है, इस बात का कोई शक नहीं है कि उत्तर कोरिया के परमाणु और मिसाइल कार्यक्रमों ने एक नया ख़तरा पैदा कर दिया है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

जापान सरकार में चीफ़ कैबिनेट सेक्रेटरी योशिहाइड सुगा ने बताया है कि जापान इस मसले से जुड़ी हुई सभी सूचनाएं गंभीर चिंता के साथ इकठ्ठी कर रहा है.

गुआम द्वीप से आ रहे हैं बमवर्षक विमान

दक्षिण कोरिया के एक सैन्य अधिकारी ने बताया है कि पिछले हफ़्ते अमरीकी बमवर्षक जहाज बी 1 बी लैंसर्स ने दक्षिण कोरिया के ऊपर उड़ान भरी थी.

उन्होंने बताया कि ये विमान अमरीकी-दक्षिण कोरिया सयुंक्त वायुसेना अभ्यास के तहत कोरियाई प्रायद्वीप पर तैनात थे.

ऐसा माना जा रहा है कि ये बमवर्षक विमान अमरीका के गुआम द्वीप से उड़कर आ रहे हैं.

इसी बीच, उत्तर कोरिया ने दक्षिण कोरिया को धमकी देते हुए कहा है कि अगर दक्षिण कोरिया ने जल्द ही अमरीकी की तरह व्यवहार करना बंद नहीं किया तो उसके लिए अस्तित्व बचाने का खतरा पैदा हो जाएगा.

(बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की ख़बरें ट्विटर और फेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)