एक सींग वाला गैंडा नेपाल से बहकर भारत पहुंचा

इमेज कॉपीरइट ISHWOR JOSHI

लुप्त होने की कगार पर आ पहुंचा एक सींग वाला गैंडा नेपाल से बाढ़ में बहकर भारत आ गया और सुरक्षित बचा लिया गया.

तस्वीर में नज़र आ रही मादा गैंडा ने नेपाल के चितवन नेशनल पार्क से भारत के बगाह गांव तक 42 किलोमीटर का सफ़र बाढ़ के पानी में तय किया.

उसे बचाने के लिए नेपाल के 40 अधिकारियों को काम पर लगाया गया था.

इमेज कॉपीरइट ISHWOR JOSHI

पार्क के एक अधिकारी ने बीबीसी को बताया, ''भारत के वन्य अधिकारियों की मदद से हम ढाई साल की इस मादा गैंडे को पार्क में वापस ले आए हैं.''

पार्क के चार और गैंडों को अभी बाढ़ के पानी से बचाना बाकी है जबकि एक अन्य गैंडा बाढ़ के दौरान मृत पाया गया है.

नेपाल की चितवन घाटी में 600 से अधिक गैंडे अपने प्राकृतिक आवास में रहते हैं, लेकिन बारिश ने उनके आशियाने तहस-नहस कर दिए हैं.

इलाके में कई लोग भी फंस गए थे जिन्हें बाढ़ से निकालने के लिए हाथियों की भी मदद ली गई है.

हाल के हफ्तों में हुई भारी बारिश ने नेपाल, उससे सटे भारत और बांग्लादेश को कुछ हिस्सों में भी भारी नुकसान किया है.

इमेज कॉपीरइट AFP GETTY

भारत के असम राज्य के मशहूर काज़ीरंगा नेशनल पार्क में भी भारी बारिश और बाढ़ की वजह से कम से कम छह गैंडों के मारे जाने की आशंका है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे